BREAKING NEWS

चरणजीत सिंह चन्नी को राहुल और अमरिंदर ने दी बधाई, बोले- उम्मीद करता हूं कि पंजाब को सुरक्षित रख सकेंगे◾UP : सलमान खुर्शीद बोले- आगामी चुनाव में जनता नफरत और बंटवारे की राजनीति करने वालों को घर बिठाएगी◾पंजाब के राज्यपाल से मिले चरणजीत सिंह चन्नी, कल सुबह 11 बजे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ◾चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, रंधावा ने हाईकमान के फैसले का किया स्वागत◾महबूबा मुफ्ती ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- वोट लेने के लिए पाकिस्तान का करती है इस्तेमाल ◾आतंकियों की नापाक साजिश होगी नाकाम, ड्रोन के लिए काल बनेगी ‘पंप एक्शन गन’! सरकार ने सुरक्षा बलों को दिए निर्देश◾TMC में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने रखी दिल की बात, बोले- जिंदगी ने मेरे लिए नया रास्ता खोल दिया है ◾सिद्धू पर लगे एंटीनेशनल के आरोपों पर BJP का सवाल, सोनिया और राहुल चुप क्यों हैं?◾सुखजिंदर रंधावा हो सकते पंजाब के नए मुख्यमंत्री, अरुणा चौधरी और भारत भूषण बनेंगे डिप्टी सीएम◾इस्तीफा देने से पहले सोनिया को अमरिंदर ने लिखी थी चिट्ठी, हालिया घटनाक्रमों पर पीड़ा व्यक्त की◾सिद्धू के सलाहकार का अमरिंदर पर वार, कहा-मुझे मुंह खोलने के लिए मजबूर न करें◾पंजाब : मुख्यमंत्री पद की रेस में नाम होने पर बोले रंधावा-कभी नहीं रही पद की लालसा◾प्रियंका गांधी का योगी पर हमला, बोलीं- जनता से जुड़े वादों को पूरा करने में असफल क्यों रही सरकार ◾पंजाब कांग्रेस की रार पर बोली BJP-अमरिंदर की बढ़ती लोकप्रियता के डर से लिया गया उनका इस्तीफा◾कैप्टन के भाजपा में शामिल होने के कयास पर बोले नेता, अमरिंदर जताएंगे इच्छा, तो पार्टी कर सकती है विचार◾कौन संभालेगा पंजाब CM का पद? कांग्रेस MLA ने कहा-अगले 2-3 घंटे में नए मुख्यमंत्री के नाम का होगा फैसला◾पंजाब में हो सकती है बगावत? गहलोत बोले-उम्मीद है कि कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे कैप्टन ◾CM योगी ने साढ़े चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर गिनाईं अपनी सरकार की उपलब्धियां◾राहुल ने ट्वीट किया कोरोना टीकाकरण का ग्राफ, लिखा-'इवेंट खत्म'◾अंबिका सोनी ने पंजाब CM की कमान संभालने से किया इनकार, टली कांग्रेस विधायक दल की बैठक◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

ब्लैक और व्हाइट फंगस ने लोगों को किया बेचैन, एक्सपर्ट्स बोले- इसका इलाज मौजूद, लेकिन सतर्कता जरूरी

कोरोना संक्रमण के बीच ब्लैक और व्हाइट फंगस की दस्तक लोगों को बेचैन कर रही है। इस बीमारी से आम लोग परेशानी और चिंता में आ गये हैं। डाक्टरों की मानें तो ब्लैक फंगस दिल, नाक और आंख को ज्यादा नुकसान पहुंचाता है। फेफड़ों पर भी इसका असर है। जबकि व्हाइट फंगस फेफड़ों को इसके मुकाबले ज्यादा नुकसान देता है। हालांकि एक्सपर्ट्स का मानना है कि ब्लैक और व्हाइट फंगस का इलाज पूरी तरह से मौजूद है। बस इसमें सर्तक रहने की जरूरत है।

पूर्वांचल के मऊ इलाके में व्हाइट फंगस के केस मिलने से लोगों में चिंता है। इसे लेकर हर जगह के स्वास्थ्य विभाग को अलर्ट किया गया है। यह कोरोना से मिलते-जुलते लक्षणों के वाली बीमारी बताई जा रही है। व्हाइट फंगस फेफड़ों को संक्रमित कर उसे डैमेज कर देता है और सांस फूलने की वजह से मरीज कोरोना की जांच कराता रह जाता है। छाती की एचआरसीटी और बलगम के कल्चर से इस बीमारी का पता चलता है।

केजीएमयू की रेस्पेटरी मेडिसिन विभाग की असिस्टेंट प्रोफेसर डा. ज्योति बाजपेई ने बताया, '' फंगस सिर्फ फंगस होता है। न तो वह सफेद होता न ही काला होता है। म्यूकरमाइकिस एक फंगल इन्फेक्शन है। यह काला दिखाई पड़ने के कारण इसका नाम ब्लैक फंगस दे दिया गया है। काला चकत्ता पड़ने इसका नाम ब्लैक फंगस पड़ जाता है। मेडिकल लिटरेचर में व्हाइट और ब्लैक फंगस कुछ नहीं है। यह अलग क्लास होती है। यह लोगों को समझने के लिए ब्लैक एंड व्हाइट का नाम दिया गया है। व्हाइट फंगस कैडेंडियासिस (कैंडिडा) आंख, नांक, गला को कम प्रभावित करता है। यह सीधे फेफड़ो को प्रभावित करता है।''

छाती की एचआरसीटी और बलगम के कल्चर से इस बीमारी का पता चलता है। लंग्स में कोरोना की तरह धब्बे मिलते हैं। पहली लहर में इन दोंनों का कोई खासा प्रभाव नहीं दिखा है। दूसरी लहर में वायरस का वैरिएंट बदला है। इस बार की लहर के चपेट में खासकर युवा आए। यह कम दिनों में बहुत तीव्र गति से बढ़ा है। इसके कारण लोगों को लंबे समय तक अस्पतालों में रहना पड़ा है। इसके अलावा स्टेरॉयड का काफी इस्तेमाल करना पड़ा है। शुगर के रोगी भी ज्यादा इसकी चपेट में आए हैं।

उन्होंने बताया, '' आक्सीजन की पाइपलाइन व ह्यूमिडीफायर साफ हो। शुगर नियंत्रित रखें। फेफड़ों में पहुंचने वाली आक्सीजन शुद्ध व फंगसमुक्त हो। इसे लेकर सर्तक रहें बल्कि पेनिक नहीं होना चाहिए। ब्लैक फंगल इंफेक्शन से वे लोग संक्रमित हो रहे हैं, जिनकी इम्यूनिटी कमजोर है, जो पहले से किसी गंभीर बीमारी के शिकार हैं, जैसे डायबिटीज या फिर स्टेरॉयड्स का इस्तेमाल किया है। जिन लोगों को उच्च ऑक्सीजन सपोर्ट की जरूरत पड़ी, इनमें भी इस बीमारी का जोखिम बढ़ जाता है। चलता फिरता मरीज ब्लैक फंगस से पीड़ित नहीं होता है। 

स्टेराइड सही मात्रा में सही समय दिए जाने ब्लैक फंगस का कोई खतरा नहीं है। ब्लैक फंगस में 50 से 80 प्रतिशत मृत्युदर के चांस है। व्हाइट फंगस का अभी कोई मृत्युदर का रिकार्ड नहीं है। ब्लैक फंगस इम्युनिटी कम होंने पर तुरंत फैल जाता है। ब्लैक फंगस नई बीमारी नहीं है। इसका इलाज मौजूद है। एंटी फंगल दवांए इसमें प्रयोग हो रही है। इसमें मेडिकल और सर्जिकल दोंनों थेरेपी में इसका इलाज संभव है।

कोरोना वायरस : देश में पिछले 24 घंटे में 2 लाख 22 हजार संक्रमितों की पुष्टि, 4454 मरीजों की मौत