लखनऊ: राज्य विधान परिषद में सदन के नेता दिनेश शर्मा ने आज कहा कि सरकार ने रबी विपणन वर्ष 2017-18 में आठ लाख से अधिक किसानो से करीब 37 लाख टन गेंहू की खरीद की, लेकिन वह किसानो के लागत मूल्य की जानकारी नही दे पायें। इसके विरोध में विपक्षी समाजवादी पार्टी के सदस्यों सदन से बहिर्गमन कर गये। परिषद में समाजवादी पार्टी के सदस्य नरेश उथम के एक लिखित सवाल के जवाब में शर्मा ने बताया कि भारत सरकार द्वारा रबी विपणन वर्ष 2017-18 हेतु गेंहू का न्यून्तम समर्थन मूल्य 1625 रूपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया।

राज्य सरकार द्वारा क्रय केंद्रो पर गेहूं की उतराई छनाई के मद में गत वर्ष में निर्धारित तीन रूपये प्रति क्विंटल से बढ़ाकर 10 रूपये प्रति क्विंटल कर दिया गया है। इस प्रकार किसानो को 1635 रूपये प्रति क्विंटल की दर से भुगतान किये जाने की व्यवस्था की गयी। उन्होंने बताया कि रबी विपणन वर्ष 2017-18 में गेंहू क््रऊय की अवधि एक अप्रैल 2017 से 15 जून 2017 तक निर्धारित की गयी थी। इस वर्ष आठ लाख 646 किसानों से 36 लाख 99 हजार 171 टन गेंहू की खरीद की गयी तथा किसानों को पैसा सीधे उनके खाते में जमा करा दिया गया जिससे बिचौलियों की भूमिका बिल्कुल खत्म हो गयी।