BREAKING NEWS

ममता बनर्जी ने गोवा में गठबंधन के लिये सोनिया से किया था संपर्क - TMC◾कोरोना वायरस टीके की बूस्टर खुराक अब लोगों को दी जानी चाहिए - WHO◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ; को-विन पोर्टल से कोई डेटा लीक नहीं हुआ है◾कांग्रेस आलाकमान की हरी झंडी के बाद हरक सिंह रावत की पार्टी में हुई वापसी ◾अमेरिका-कनाडा सीमा पर 4 भारतीयों की मौत : विदेश मंत्री ने भारतीय राजदूतों से तत्काल कदम उठाने को कहा ◾अमर जवान ज्योति को लेकर गरमाई राजनीति, BJP ने साधा राहुल पर निशाना◾PM मोदी कल विभिन्न जिलों के DM के साथ करेंगे बातचीत , सरकारी योजनाओं का लेंगे फीडबैक ◾DELHI CORONA UPDATE: सामने आए 10756 नए केस, 38 की हुई मौत◾केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह से नौसेना प्रमुख ने की मुलाकात, डीप ओशन मिशन के तौर-तरीकों पर हुई चर्चा◾गोवा: उत्पल पर्रिकर ने भाजपा छोड़ी, पणजी से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर लड़ेंगे चुनाव ◾BJP ने 85 उम्‍मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी की, कांग्रेस छोड़कर आईं अदिति सिंह को रायबरेली से मिला टिकट◾उत्तर प्रदेश : मुख्‍यमंत्री योगी ने किया चुनावी गीत जारी, यूपी फ‍िर मांगें भाजपा सरकार◾ भारत सरकार ने पाक की नापाक साजिश को एक बार फिर किया बेनकाब, देश विरोधी कंटेंट फैलाने वाले 35 यूट्यूब चैनल किए बंद ◾भाजपा ने पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए 34 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की ◾मणिपुर के 50 वें स्थापना दिवस पर पीएम ने दिया बयान, राज्य को भारत का खेल महाशक्ति बनाना चाहती है सरकार ◾15-18 आयु के चार करोड़ से अधिक किशोरों को मिली कोविड की पहली डोज, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ◾शाह ने साधा वाम दलों पर निशाना, कहा- कम्युनिस्टों का सियासी प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ हिंसा का रहा इतिहास ◾UP चुनाव को लेकर बिहार में गरमाई सियासत, तेजस्वी शुरू करेंगे SP के समर्थन में प्रचार, BJP पर कसा तंज... ◾ कर्नाटक सरकार ने खत्म किया कोरोना का वीकेंड कर्फ्यू, लेकिन ये पाबंदी लागू ◾नेशनल वॉर मेमोरियल में जल रही लौ में मिली इंडिया गेट की अमर जवान ज्‍योति◾

पुलिस थाने में फूट-फूटकर रोए बसपा नेता अरशद राणा, दावा-टिकट के बदले67 लाख रुपये मांगे

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जनपद से एक ऐसी खबर आ रही है, जिसे सुनकर सियासी गलियारों में खलबली मच गई। यहां बसपा में टिकट की बिक्री का मामला कोतवाली पहुंचा है। पश्चिमी यूपी प्रभारी शमसुद्दीन राईन पर लाखों रुपये लेने का आरोप लगा है। बसपा नेता अरशद राणा ने आरोप लगाया कि उनसे टिकट के नाम पर 67 लाख रुपये हड़पे गए हैं।और ऐसा ना करने पर मयावती के आवास के बाहर आत्मदाह करने की धमकी भी दी है।

पुलिस थाने में बैठकर रोने का वीडियो वायरल

 मुजफ्फरनगर के बसपा नेता अरशद राणा पुलिस के पास शिकायत करने पहुंचे कि उनकी ही पार्टी के नेताओं ने उनके साथ धोखा किया है। पार्टी के ही एक नेता ने टिकट दिलाने के नाम पर पैसे ले लिए और टिकट भी नहीं दिया। उन्हें इस बात का एहसास तब हुआ जब बसपा सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट कर जानकारी दी कि चरथावल विधानसभा सीट से पार्टी ने सलमान सईद को प्रत्याशी बनाया है। पुलिस के सामने अरशद राणा रोते हुए दिखाई दिए, जिसका वीडियो फिलहाल वायरल हो रहा है। 

67 लाख रूपये लेकर भी टिकट नहीं देने का आरोप

 दरअसल एक फेसबुक पोस्ट के जरिये अरशद राणा ने अपनी पार्टी के नेताओं पर गंभीर आरोप लगाए हैं। अरशद राणा का आरोप है कि ‘पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रभारी शमसुद्दीन राइन ने टिकट के बदले पैसे की मांग की थी। मैंने लगभग 67 लाख रूपये दिए लेकिन मेरी जगह किसी और को टिकट दे दिया गया है। अब तक मैं चुनाव प्रचार में भी 15 लाख रूपये से अधिक खर्च कर चुका हूं। अब शमसुद्दीन राइन मेरा फोन नहीं उठा आ रहे हैं जबकि जिलाध्यक्ष ने कहा कि पैसा वापस मिल जायेगा लेकिन अभी तक मुझे एक रुपया वापस नहीं मिला है।’

पैसा वापस नहीं मिलने पर आत्मदाह की धमकी

मुज्जफरनगर चरथावल विधानसभा के बसपा क्षेत्र प्रभारी अरशद राणा ने अपनी पोस्ट में लिखा कि ‘चुनाव नजदीक आने पर बसपा के नेताओं ने उन्हें इग्नोर करना शुरू कर दिया और टिकट भी किसी और को दे दिया। अगर मेरा पैसा वापस नहीं मिला तो मैं बसपा सुप्रीमों मायावती के आवास के बाहर आत्मदाह कर लूंगा।’

चुनावी प्रचार से क्यों दूर हैं बसपा सुप्रीमों?

 बसपा सुप्रीमों मायावती पर इस बार चुनाव से दूर रहने का आरोप लग रहा है। इसके पीछे की वजह ये है कि मायावती ने पिछले दो महीने में एक भी रैली को संबोधित नहीं किया है और जब पार्टी ने सभाओं को आयोजित करने का मन बनाया तो कोरोना वायरस के चलते सभा, रैली और चुनावी भीड़ इकट्ठा करने पर रोक लग गई। अब बसपा वर्चुअली रैली की तैयारी कर रही है।

बसपा प्रवक्ता का कहना है कि चुनावी रैलियों पर 15 जनवरी तक प्रतिबंध है। अगर प्रतिबंध को आगे बढ़ाया जाता है तो चिंता की बात है। वर्चुअली रैली के लिए हमारे पास बीजेपी के जैसे संसाधन नहीं है। ऐसे में हम अपनी बात को लोगों तक पहुंचाने के लिए कैडर के जरिए डोर-टू-डोर प्रचार करेंगे।