BREAKING NEWS

कर्नाटक विधानसभा में नहीं हो सका विश्वास मत पर फैसला, सदन के अंदर BJP का धरना ◾सपा सांसद आजम भूमाफिया हुए घोषित, किसानों की जमीन पर कब्जा करने का है आरोप◾विपक्षी दलों को निशाना बना रही है भाजपा : BSP◾कर्नाटक : राज्यपाल ने सरकार को दिया शुक्रवार 1.30 बजे तक बहुमत साबित करने का समय◾कई बंगाली फिल्म व टेलीविजन कलाकार BJP में हुए शामिल ◾कर्नाटक का एक और विधायक पहुंचा मुंबई , खड़गे ने बताया BJP को जिम्मेदार ◾ इशरत जहां का आरोप-हनुमान चालीसा पाठ में भाग लेने को लेकर धमकी दी गई ◾कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले को तत्काल लागू करें : भारत ने Pak से कहा ◾IT ने नोएडा में मायावती के भाई और भाभी का 400 करोड़ का 'बेनामी' भूखंड किया जब्त◾सोनभद्र प्रकरण : मृतकों की संख्या 10 हुई, UP पुलिस ने 25 लोगों को किया गिरफ्तार ◾विधानसभा में ही डटे बीजेपी MLA◾कर्नाटक विधानसभा में विश्वास मत पर चर्चा के दौरान हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक स्थगित - विस अध्यक्ष◾Top 20 News 18 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ का फैसला भारत के रुख की पुष्टि : विदेश मंत्रालय ◾BJP में शामिल हुए पूर्व कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर, जीतू वघानी ने दिलाई सदस्यता◾कर्नाटक संकट : सिद्धारमैया ने कहा-SC के पिछले आदेश के स्पष्टीकरण तक फ्लोर टेस्ट करना उचित नहीं◾कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अनधिकृत कॉलोनियों के मकानों की होगी रजिस्ट्री◾मुंबई पुलिस ने दाऊद इब्राहिम ने भतीजे रिजवान कासकर को किया गिरफ्तार◾मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ IT विभाग की कार्रवाई, 400 करोड़ का प्लॉट जब्त◾

उत्तर प्रदेश

परिवारवाद को लेकर मायावती के खिलाफ मुखर विरोध के स्वर!

बहुजन समाज पार्टी (बसपा) कार्यकर्ताओं ने बुधवार को परिवारवाद का विरोध जताते हुए पार्टी कार्यालय के सामने सांकेतिक प्रदर्शन किया। बसपा के प्रदेश मुख्यालय 12 माल एवन्यू के बाहर पार्टी कार्यकर्ताओं ने एकत्र होकर सांकेतिक प्रदर्शन किया। कार्यकर्ता अपने हाथों में बाबा साहब भीमराव अंबेडकर का चित्र और तख्तियां लिए हुए थे जिनमें बसपा जिंदाबाद और परिवारवाद मुर्दाबाद के नारे लिखे थे। 

कार्यकर्ताओं का कहना था कि बसपा अध्यक्ष ने अपने भाई आनंद और भतीजे आकाश आनंद को केन्द्रीय कार्यकारिणी में नियुक्त कर पार्टी को परिवारवाद की पराकाष्ठा पर पहुंचा दिया है। इससे पार्टी कार्यकर्ताओं के विश्वास और समर्पण पर कुठराघात हुआ है।

भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर ने पहली बार मायावती पर बोला हमला


उन्होने कहा कि बसपा की स्थापना लोकतांत्रिक मूल्यों के साथ समता मूलक समाज की स्थापना के लिये की गई थी। कांशीराम ने बहुजन विचारधारा के साथ पार्टी को आगे बढाया और अपने परिवार के किसी भी सदस्य को केन्द्रीय कार्यकारिणी में शामिल नहीं किया। 

वर्ष 2009 के बाद मायावती ने हालांकि परिवारवाद में मनमाने निर्णय थोपे। उन्होने कहा कि बसपा अध्यक्ष अपना मनमाना फैसला वापस नहीं लेती है तो पूरे प्रदेश में इस तरह के सांकेतिक प्रदर्शन किये जायेंगे।