उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में गोलीबारी की घटना में कथित रूप से संलिप्त एक जवान को शनिवार को जम्मू एवं कश्मीर में हिरासत में ले लिया गया। बुलंदशहर की घटना में एक पुलिस अधिकारी और एक स्थानीय नागरिक की मौत हो गई थी। सेना सूत्रों ने इस बात की जानकारी दी। जितेंद्र मलिक उर्फ जीतू फौजी को सोपोर में 22 राष्ट्रीय राइफल्स द्वारा हिरासत में लिया गया।

उत्तर प्रदेश पुलिस के विशेष जांच दल (एसआईटी) उसे हिरासत में लेने के लिए देर शाम यहां पहुंच सकता है। बता दें कि पिछले सप्ताह बुलंदशहर में भीड़ द्वारा हुई हिंसा में पुलिस निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह और सुमित कुमार की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

Bulandshahr Violence

बुलंदशहर हिंसा मामले में सख्त कार्रवाई, SSP समेत तीन पुलिस अफसरों का तबादला

वहीं, बुलंदशहर हिंसा में सेना के जवान जीतू फौजी की गिरफ्तारी को लेकर पूछे गए सवाल पर जनरल बिपिन रावत ने कहा कि अगर कोई सबूत होगा और पुलिस उन्हें संदिग्ध मानेगी तो हम उन्हें पुलिस के सामने पेश कर देंगे। हम पुलिस के साथ पूरा सहयोग करेंगे।

वायरल वीडियो में दिखा था जीतू फौजी

jeetu

बुलंदशहर हिंसा को लेकर 2 मिनट का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें एक युवक को इंस्पेक्टर की लाश के पास से कुछ उठाते हुए दिखाया गया है। इसी युवक पर इंस्पेक्टर को गोली मारने का भी संदेह अधिकारियों को है।

इस युवक की शिनाख्त महाव गांव के जीतू फौजी के रूप में होने का दावा किया जा रहा है। उसके बारे में जानकारी करने पर पता चला कि वह कारिगल में तैनात है और हिंसा के बाद ही वह शाम को निकल गया था और अगले ही दिन उसने अपनी ड्यूटी ज्वाइन कर ली थी।

बुलंदशहर हिंसा : छुट्टी के लिए घर आए फौजी ने मारी थी इंस्पेक्टर सुबोध को गोली