BREAKING NEWS

Today's Corona Update : एक दिन 20 हजार से भी कम नए केस, 179 मरीजों की मौत◾भारत-PAK के बीच आतंकवाद पर हुई तीखी बहस के बावजूद UN महासचिव को वार्ता की उम्मीद, कही यह बात ◾दुनियाभर में कोरोना मामलों का आंकड़ा 23.2 करोड़ के पार, संक्रमण से 47.5 लाख से अधिक लोगों ने गंवाई जान ◾दिल्ली उच्च न्यायालय ने कालकाजी मंदिर से अतिक्रमण व अनधिकृत कब्जा हटाने का आदेश दिया◾योगी सरकार के नए मंत्रियों के विभागों का हुआ बंटवारा, जितिन को मिली प्राविधिक शिक्षा की जिम्मेदारी◾उत्तर प्रदेश : मुख्यमंत्री ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग◾DRDO को मिली सफलता ‘आकाश प्राइम’ मिसाइल का किया सफल परीक्षण◾BSP के राष्ट्रीय महासचिव कुशवाहा ने की अखिलेश से मुलाकात, UP चुनाव से पहले थाम सकते है SP का दामन◾UNGA की आम चर्चा को संबोधित नहीं करेंगे अफगानिस्तान और म्यामां: संयुक्त राष्ट्र ◾वित्तीय संकट के चलते अभिभावकों का CBSE को लिखा पत्र, तीन लाख छात्रों की फीस माफ करने की मांग ◾भवानीपुर में दिलीप घोष से धक्का-मुक्की पर चुनाव आयोग सख्त, ममता सरकार से रिपोर्ट मांगी ◾भारत बंद के आह्वान को अभूतपूर्व और ऐतिहासिक प्रतिक्रिया मिली : संयुक्त किसान मोर्चा ◾गरीबों को किराया देने की घोषणा पर केजरीवाल सरकार का यू-टर्न, HC में कहा - वादा नहीं किया था ◾खत्म हुआ किसानों का भारत बंद, 10 घंटे बाद खुले दिल्ली-एनसीआर के सभी बॉर्डर ◾महंत नरेंद्र गिरि मौत मामला : 7 दिन की सीबीआई रिमांड में भेजे गए आनंद गिरी व दो अन्य ◾महिलाओं के बाद अब पुरुषों के लिए तालिबान का फरमान- दाढ़ी बनाना और ट्रिम करना गुनाह, लगाई रोक ◾नए संसद भवन का दौरा करने पर कांग्रेस ने मोदी को घेरा, कहा- काश! PM कोरोना की दूसरी लहर के दौरान किसी अस्पताल जाते ◾भवानीपुर उपचुनाव प्रचार के आखिरी दिन लहराईं बंदूकें, BJP का आरोप- TMC ने दिलीप घोष पर किया हमला ◾किसानों के 'भारत बंद' को लेकर देश में दिखी मिलीजुली प्रतिक्रिया, जानिए किन हिस्सों में जनजीवन हुआ बाधित ◾CM बिप्लब देब का विवादित बयान, बोले- अदालत की अवमानना से न डरें अधिकारी, पुलिस मेरे नियंत्रण में है◾

मानसून के आते ही मच्छर जनित बीमारियों के खिलाफ शुरू हुआ CM योगी का एक्शन प्लान, जानिए क्या हैं तैयारियां

कोरोना संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण करने के बाद घनी आबादी वाले उत्तर प्रदेश में सरकार ने मानसून के मद्देनजर मौसमी और मच्छर जनित बीमारियों से लड़ने की तैयारी कर ली है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर 15 जून से घर-घर बच्चों को उपयोगी दवाइयों की किट वितरित करने का विशेष अभियान शुरू किया जा रहा है। संक्रामक बीमारियों से बचाव के लिये सीएचसी और पीएचसी में फीवर क्लीनिक स्थापित कर दिये गये हैं। सर्विलांस को और बेहतर करने में अधिकारी जुटे हैं। 

इंसेफेलाइटिस और मलेरिया जैसी बीमारियों के प्रसार को रोकने के लिये गोरखपुर, बस्ती और देवीपाटन मण्डल के साथ-साथ नेपाल से लगे जिलों में खास सावधानी बरतने को भी कहा गया है। आधिकारिक सूत्रों ने रविवार को बताया कि दशको से पूर्वांचल में बच्चों के लिये जानलेवा बीमारी के तौर पर पहचान बनाने वाली इंसेफेलाइटिस पर योगी सरकार के आने के बाद प्रभावी नियंत्रण पाया गया है। हर साल सैंकड़ो मासूमों को निगलने वाली इस बीमारी की दहशत अब पूर्वांचल में ना के बराबर है। 

बच्चों के प्रति विशेष लगाव रखने वाले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सांसद रहते हुये भी इंसेफेलाइटिस की रोकथाम के लिये प्रभावी प्रयास किये जबकि 2017 में राज्य में भाजपा की सरकार बनने के बाद उन्होने इस दिशा में जारी प्रयासों को परवान चढाया, नतीजन गोरखपुर, कुशीनगर और देवरिया समेत समूचे उत्तर प्रदेश में इस बीमारी से ग्रसित होने वाले बच्चों की संख्या न के बराबर रह गयी है।

उन्होने बताया कि महज दो महीनों में कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर अंकुश लगाने के बाद सीएम योगी की नजर बरसात के दिनों में होने वाली बीमारियों की रोकथाम पर है और उनके निर्देशों के बाद मच्छरों के काटने से होने वाली बीमारियों की रोकथाम के इंतजाम तेज हो गये हैं। गांवों, नगर पंचायतों, नगर पालिकाओं, नगर निगमों को विभिन्न जिम्मेदारी सौंपी गई हैं। मौसमी बीमारियों के संक्रमण की चेन को रोकने के लिए आशा बहुओं, एएनएम और स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को घर-घर बुखार के मरीजों की सूची बनाने को कहा गया है। 

मौके पर आरडीटी किट से खून की जांच करने, मलेरिया रोग चिन्हित होने पर उनके इलाज और फॉलोअप को शुरू करने के भी निर्देश उत्तर प्रदेश सरकार ने दिये हैं। मलेरिया विभाग की ओर से एंटी लार्वा का छिड़काव कराया जा रहा है। जिलों में विशेष रूप से डीडीटी से इंडोर रीजीड्यू स्प्रे (आईआरएस) कराने का काम भी तेज हो गया है। वैक्टरजनित रोगों के प्रभावी रोकथाम के लिये कार्ययोजना के तहत प्रदेश के अधिकांश जिलों के तालाबों में गम्बूजिया मछली डाली गई है। इन मछलियों को लार्वा को खत्म करने में उपयोगी भूमिका रहती है।

सूत्रों ने बताया कि बरसात में मौसमी बीमारियों के संक्रमण को रोकने के लिये नगर निगमों, नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों की साफ-सफाई के लिए विशेष अभियान चलाने जा रही हैं। नालियों और नालों की सफाई करने के साथ फॉगिंग कराने के भी निर्देश दिये गये हैं।

मुख्यमंत्री ने संचारी रोगों की रोकथाम के लिये विशेष रूप से सर्विलांस व्यवस्थाओं को और बेहतर करने, स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ ग्राम्य विकास विभाग और बाल विकास पुष्टाहाल आदि विभागों से एक्टिव रहने को कहा है। आशा बहुएं, आंगनबाड़ी कार्यकात्रियां, एएनएम, ग्राम प्रधान लोगों को मच्छर जनित बीमारियों से निपटने के लिये जागरूक करने की विशेष जिम्मेदारी सौंपी गई है। ये गांव-गांव में मच्छर जनित रोगियों की जांच करेंगी और साथ में उनको बीमारी की रोकथाम के लिये जागरूक करने का भी काम करेंगी।