BREAKING NEWS

नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾मनमोहन सिंह की सलाह पर लाया गया है नागरिकता संशोधन विधेयक : भाजपा◾कांग्रेस ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और संविधान विरूद्ध◾राज्यसभा में नागरिकता बिल पेश, अमित शाह बोले- भारतीय मुस्लिम भारतीय थे, हैं और रहेंगे◾प्रियंका का वित्त मंत्री पर वार, कहा-आप प्याज नहीं खातीं, लेकिन आपको हल निकालना होगा ◾2002 गुजरात दंगा मामले में नानावती आयोग ने PM नरेंद्र मोदी को दी क्लीन चिट ◾BJP संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया ऐतिहासिक◾नागरिकता संसोधन बिल राज्यसभा में पेश होने से पहले बोले राहुल- यह उत्तर पूर्व पर एक आपराधिक हमला◾हैदराबाद एनकाउंटर मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, CP वीसी सज्जनार भी रहेंगे मौजूद◾निर्भया कांड: अजीबोगरीब दलीलों के साथ दोषी अक्षय ने सुप्रीम कोर्ट में दायर की पुनर्विचार याचिका◾राज्यसभा में आज पेश होगा नागरिकता संशोधन बिल, कांग्रेस देशभर में करेगी प्रदर्शन◾झारखंड: तबरेज अंसारी की हत्या मामले में 6 आरोपियों को हाईकोर्ट से मिली जमानत◾राज्यसभा में CAB पारित कराने के लिए रणनीति बनाने में जुटी भाजपा◾झारखंड विधानसभा चुनाव : तीसरे चरण में भाजपा, झाविमो और आजसू की प्रतिष्ठा दांव पर ◾सोनिया ने पार्टी सांसदों को दिया रात्रिभोज◾UP : चौथी बार बुंदेलियों ने मोदी को लिखी खून से चिट्ठी ◾

उत्तर प्रदेश

CM योगी बोले- पुलिस महज चालान काटने को लक्ष्य न बनाए, यातायात पर जागरूकता भी फैलाए

 yogi

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि थोड़ी सी जागरूकता और सख्ती से सड़क हादसे रोके जा सकते हैं। पुलिस मात्र चालान काटने को अपना लक्ष्य न बनाए, बल्कि वाहन चालकों को जागरूक करने की भी जिम्मेदारी लें। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बुधवार को यहां अपने आवास पर सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए आयोजित रैली को संबोधित कर रहे थे।

इस दौरान उन्होंने कहा कि "परिवहन विभाग के प्रयास सार्थक रहे हैं और सकारात्मक परिणाम भी दिख रहे हैं, लेकिन अभी भी बहुत कुछ करना बाकी है। पुलिस चालान काटने को लक्ष्य न बनाए। वाहन चालकों को जागरूक करना उनका लक्ष्य होना चाहिए। नशे की हालत में जो भी वाहन चलाते मिले उसका वाहन जब्त करें। स्कूली स्तर से ही बच्चों को यातायात नियमों के प्रति जागरूक करें।" 

योगी ने कहा, "हम सभी को दोपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट और चार पहिया वाहन चलाते समय सीट बेल्ट का उपयोगा करना चाहिए। नशे की हालत में गाड़ी नहीं चलानी चाहिए। सड़क सुरक्षा और यातायात के नियमों का ध्यान रख उनका पालन करना चाहिए। आमजन की सहभागिता के बिना इस प्रकार के कार्यक्रम सफल नहीं हो सकते। सड़क सुरक्षा के अच्छे स्लोगन के साथ अगर हम आगे बढ़े तो परिणाम और बेहतर हो सकते हैं।" 

संचार व्यवस्था पर प्रतिबंध लागू करने संबंधी आदेश पेश करे जम्मू-कश्मीर प्रशासन: सुप्रीम कोर्ट

मुख्यमंत्री ने आगे कहा, "यह आयोजन यहीं तक सीमित न रहे, इसके लिए गोष्ठियां और जागरूकता कार्यक्रम होने चाहिए। मेरा मानना है कि प्रति वर्ष ड्राइविंग लाइसेंस का नवीनीकरण होना चाहिए।" सीएम योगी ने कहा, "पाठ्यक्रम में यातायात शिक्षा का समावेश होना चाहिए। यह जिम्मेदारी शिक्षा विभाग की है। 

स्वास्थ्य विभाग की भी जिम्मेदारी है कि घायलों को अच्छा इलाज मिले और एंबुलेंस की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जाए। नए ट्रामा सेंटर्स की स्थापना भी होनी चाहिए। पुलिस और ट्रैफिककर्मी वाहनों के जांच के नाम पर चौराहों पर आतंक न फैलाएं।"इस रैली में 25 ट्रैफिकपुलिस बाइकर्स, 10 विंटेज कार, 100 बाइकर्स, 100 एनसीसी के कैडेट्स, विभिन्न स्कूलों के 700 छात्र-छात्राओं ने हिस्सा लिया।