अयोध्या : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार राम मंदिर निर्माण के लिए संविधान के दायरे में विभिन्न विकल्पों पर विचार कर रही है। अयोध्या दौरे के दूसरे दिन योगी ने हनुमानगढ़ी मंदिर में पूजा की और घोषणा की कि अयोध्या राम लला का घर है और यहां ‘मंदिर था, है और रहेगा।’

वह विवादित स्थल पर राम लला मंदिर भी पहुंचे। यहां पहले बाबरी मस्जिद थी, जिसे 1992 में ढहा दिया गया था। योगी दिगंबर अखाड़ा के संत से मिले और सरयू घाट, सुग्रीव किला गए। इसके बाद वह महंत नृत्य गोपाल दास से मिले। मुख्यमंत्री ने उस स्थल का भी निरीक्षण किया, जहां 150 मीटर ऊंची राम की मूर्ति स्थापित की जानी है।

योगी ने कहा, ‘अयोध्या के लिए हमारे पास व्यापक योजनाएं हैं और हम उस दिशा में काम कर रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि अयोध्या में विधवाओं और अनाथ बच्चों के लिए शरण गृह बनाए जाएंगे। इससे पहले मंगलवार को राज्य सरकार ने सरयू नदी के तट पर तीन लाख से ज्यादा दीयों को जलाने की व्यवस्था की थी। यह मनोरम दृश्य लोगों के आकर्षण का केंद्र बना। दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला इस अवसर पर मौजूद थीं।

दीपोत्सव में CM योगी आदित्यनाथ बोले – अयोध्या के साथ दुनिया की कोई ताकत नहीं कर सकती अन्याय