BREAKING NEWS

UN के मंच से पीएम मोदी की नसीहत, कोरोना महामारी से निपटने में संयुक्त राष्ट्र कहां है? ◾संयुक्त राष्ट्र के मंच से पीएम मोदी का संबोधन: UN की निर्णायक इकाई से भारत को आखिर कब तक दूर रखा जाएगा◾अमित शाह ने लद्दाख के जन प्रतिनिधियों से की मुलाकात◾ड्रग केस : श्रद्धा कपूर, सारा अली खान से एनसीबी की पूछताछ खत्म, किसी को नया समन नहीं भेजा गया ◾SRH vs KKR आईपीएल-13 : टॉस जीत सनराइजर्स हैदराबाद ने किया बल्लेबाजी का फैसला ◾राहुल ने किया केंद्र से आग्रह : प्रस्तावित कृषि कानूनों को वापस ले सरकार, एमएसपी की गारंटी दे◾ड्रग्स केस : एनसीबी के सामने दीपिका पादुकोण ने कबूली ड्रग चैट की बात, पांच घंटे तक हुई पूछताछ ◾वैज्ञानिकों ने हर मुश्किल और सामने आई सभी चुनौतियों को अवसर में बदला है: हर्षवर्धन◾वीरेंद्र सहवाग ने CSK का उड़ाया मजाक, कहा - टीम के बल्लेबाजों को ग्लूकोज चढ़वाने की जरूरत ◾भारत ने श्रीलंका में अल्पसंख्यक तमिलों के लिये सत्ता में भागदारी की हिमायत की : विदेश मंत्रालय◾BJP की नई टीम का ऐलान, राम माधव सहित 4 महासचिव बदले, देखें पूरी लिस्ट◾कांग्रेस का तीखा वार : श्रम सुधार संबंधी संहिताएं मजूदर विरोधी, सरकार के ‘डीएनए में’ है निर्णय थोपना◾ड्रग केस : अभिनेत्री श्रद्धा कपूर और सारा अली खान पर एनसीबी ने दागे तीखे सवाल , पूछताछ जारी◾पाकिस्तानी सेना ने एक बार फिर राजौरी में LOC पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया ◾पीएम मोदी UNGA को आज करेंगे संबोधित, आतंकवाद समेत इन मुद्दों पर होगी चर्चा ◾मोदी सरकार द्वारा किसानों पर किए जा रहे अत्याचार के खिलाफ साथ मिलकर उठाएं आवाज : राहुल गांधी ◾देश में एक दिन की वृद्धि के बाद फिर घटे कोरोना के एक्टिव केस, संक्रमितों का आंकड़ा 59 लाख के पार ◾बॉलीवुड से जुड़े ड्रग केस की जांच के लिए तैयार NCB, दीपिका पादुकोण एजेंसी के सामने हुईं पेश ◾दुनियाभर में कोरोना केस 3 करोड़ 24 लाख के पार, 9 लाख 87 हजार से अधिक की मौत◾पाकिस्तान ने फिर अलापा कश्मीर राग, भारत ने दिया करारा जवाब ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोविड-19 जांच अभियान से संक्रमण के आंकड़े बढ़ेंगे मगर मौत के आंकड़े कम होंगे : CM योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बृहस्पतिवार को 'संचारी रोग नियंत्रण दस्‍तक अभियान' की शुरुआत करते हुए कहा कि  राज्य में शुरू हो रहे कोविड-19 जांच अभियान से संक्रमण के मामलों के आंकड़े भले ही बढ़ेंगे लेकिन मौत के आंकड़े न्यूनतम स्तर पर पहुंचाने में कामयाबी मिलेगी। मुख्यमंत्री ने डेंगू, चिकनगुनिया और मलेरिया जैसे संचारी रोगों के लिये भी इंसेफेलाइटिस नियंत्रण जैसी ही मुहिम की जरूरत बतायी। 

योगी ने कहा कि  मेरठ मण्‍डल के छह जिलों मेरठ, गाजियाबाद, बुलंदशहर, हापुड़ और बागपत में हमारा एक विशेष अभियान शुरू हो रहा है। बाकी 17 मण्‍डलों में यह पांच से 15 जुलाई के बीच चलाया जाएगा। इस अभियान में हम हर नागरिक की मेडिकल स्‍क्रीनिंग करेंगे। उन्होंने कहा, ''मेरा विश्‍वास है कि जब हम प्रदेश के हर नागरिक की स्‍क्रीनिंग कर लेंगे तो भले ही संक्रमण के मामलों की संख्‍या बढ़ेगी, लेकिन मौत के आंकड़े न्‍यूनतम स्‍तर पर पहुंचाने में हमें सफलता मिलेगी।'' 

मुख्यमंत्री ने संचारी रोगों की रोकथाम के लिये इंसेफेलाइटिस उन्मूलन अभियान जैसी ही मुहिम बनाने की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि वर्ष 2016 और 2017 में प्रदेश में सिर्फ इंसेफेलाइटिस से ही 600 से ज्‍यादा मौतें हुई थीं लेकिन 2018-19 के आंकड़ों को देखें तो उनकी संख्‍या में लगातार गिरावट आयी है और वर्ष 2019 में यह संख्‍या 126 पर आ गयी। 

उन्होंने कहा, ‘‘मेरा अनुमान है कि इस वर्ष कोरोना वायरस के कारण जिस तरह से स्‍वच्‍छता और जनजागरूकता के व्‍यापक कार्यक्रम चलाये गये, उससे हम मौत के इन आंकड़ों को आधे से भी कम करने में सफल हो सकते हैं। ऐसी बीमारी जिसने पिछले 40 वर्षों के दौरान पूर्वी उत्‍तर प्रदेश में हजारों बच्‍चों को निगल लिया, उस बीमारी को 60 फीसदी कम करने और मौत के आंकड़ों को 90 प्रतिशत तक कम करने में सफलता प्राप्‍त हो, यह अपने आप में एक उपलब्धि है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि यही स्थिति हमें डेंगू, मलेरिया, कालाजार और डायरिया समेत सभी संक्रामक रोगों के लिये बनानी पड़ेगी। यह काम एक अभियान के तहत करना होगा। इसके लिये प्रदेश के सभी 75 जिलों में आज एक मुहिम शुरू की जा रही है। 

उन्होंने कहा कि प्रदेश का कोई न कोई जिला किसी न किसी संचारी रोग की कम या ज्‍यादा चपेट में रहता है। प्रदेश के 38 जिले तो ऐसे हैं जो इंसेफेलाइटिस से प्रभावित होते हैं। बहुत सारे जिले खासकर शहरी इलाकों में जरा सी असावधानी से डेंगू का खतरा बहुत बढ़ जाता है। उसी तरह बहुत से क्षेत्रों में मलेरिया, कालाजार और चिकनगुनिया भी देखने को मिलता है। इन सब पर प्रभावी नियंत्रण के लिये प्रदेश में अंतर्विभागीय समन्‍वय बनाया गया है और इस तालमेल के जरिये बीमारी पर काबू करने के लिये स्‍वास्‍थ्‍य विभाग को नोडल महकमा बनाया गया है। इसमें नगर विकास, पंचायती राज, ग्राम्‍य विकास, महिला एवं बाल विकास, बेसिक शिक्षा, माध्‍यमिक शिक्षा, दिव्‍यांग जन कल्‍याण आदि विभाग मिलकर काम करेंगे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्‍वास्‍थ्‍य विभाग ने कोरोना वायरस के खिलाफ बेहतर तरीके से लड़कर राज्‍य में बेहतरीन स्‍वास्‍थ्‍य सुविधा देने का प्रयास किया। उसने अंतर्विभागीय समन्‍वय के माध्‍यम से एक मिसाल कायम की है। कोरोना महामारी के इस दौर में भी प्रदेश के 24 करोड़ लोग खुद को सुरक्षित महसूस कर रहे हैं। हम कोरोना से भी लड़ेंगे और हर तरह के संचारी रोग से भी प्रभावी तरीके से निपटेंगे।