BREAKING NEWS

योगी का केजरीवाल पर तंज- राम को गाली देने वालों को अब आ रही अयोध्या की याद, पहले संभालिए दिल्ली ◾शिक्षित युवा पाकिस्तान के साथ अपनी पहचान क्यों चुनते हैं? केंद्र पता लगाए: महबूबा मुफ्ती◾अखिलेश यादव ने सरकार पर लगाया आरोप, कहा-भाजपा का 'झूठ का फूल' अब बना 'लूट का फूल' ◾मलिक ने लगाई आरोपों की झड़ी, कहा- सेलिब्रिटीज के फोन टैप करवाते हैं वानखेड़े, चलाते हैं 'वसूली गिरोह'◾नवाब मलिक के दावों को क्रांति वानखेड़े ने बताया गलत, बोलीं-मेरे पति एक ईमानदार अफसर◾पंजाब की सियासत में अमरिंदर खेलेंगे दाव? पूर्व मुख्यमंत्री कल कर सकते हैं नई राजनीतिक पार्टी की घोषणा ◾लखीमपुर हत्याकांड : SC का आदेश- गवाहों को दें सुरक्षा, जांच में तेजी लाए सरकार◾कांग्रेस-RJD की लड़ाई को सुशील मोदी ने बताया 'नूराकुश्ती', बोले-चुनाव के बाद हो जाएंगे एक◾दिल्ली : NCB प्रमुख से मुलाकात करने पहुंचे वानखेड़े, मलिक के आरोपों पर बोले DDG- करेंगे आवश्यक कार्रवाई ◾अनिल विज का मुफ्ती पर तीखा हमला- PAK की जीत पर पटाखे फोड़ने वालों का DNA नहीं हो सकता भारतीय ◾BJP खुद को मानती है केंद्रीय जांच एजेंसियों का आका, याद रखें कि लोकतंत्र में हमेशा होता है बदलाव : शिवसेना◾सोनिया की अगुवाई में AICC मीटिंग, कहा- सरकार की ज्यादतियों के खिलाफ और तेज करनी चाहिए लड़ाई ◾जम्मू-कश्मीर में आतंक गतिविधियों का सिलसिला जारी, बांदीपोरा विस्फोट में 5 नागरिक घायल◾समीर वानखेड़े ने फर्जी दस्तावेज से हासिल की सरकारी नौकरी, होनी चाहिए जांच : नवाब मलिक◾देश में कोरोना के मामलों में गिरावट, पिछले 24 घंटे में 356 मरीजों की हुई मौत ◾पाकिस्तानी पत्रकार संग दोस्ती को लेकर छिड़ा विवाद तो कैप्टन ने शेयर की सुषमा, सोनिया और मुलायम की तस्वीर◾दुनियाभर में कोरोना के मामले 24.4 करोड़ से अधिक, अब तक 6.83 अरब से ज्यादा लोगों का हुआ वैक्सीनेशन ◾दिल्ली: ओल्ड सीमापुरी में एक बहुमंजिला इमारत में लगी आग, दम घुटने से एक ही परिवार के 4 सदस्यों की हुई मौत ◾जम्मू-कश्मीर दौरे के आखिरी दिन शाह ने दी पुलवामा के शहीदों को श्रद्धांजलि ◾क्रूज ड्रग्स केस : निजी जासूस गोसावी ने की लखनऊ में आत्मसमर्पण करने की कोशिश, पुलिस ने किया इंकार ◾

CAA हिंसा : PFI पर प्रतिबंध के लिए डीजीपी ने की सिफारिश, केशव प्रसाद मौर्य बोले- हिंसा में इसका हाथ

नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) और नेशनल सिटीजन रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में पिछले दिनो उत्तर प्रदेश में हुये हिंसक विरोध प्रदर्शन के पीछे पापुलर फ्रंट आफ इंडिया (पीएफआई) का हाथ होने के सबूत मिलने के बाद योगी सरकार ने केन्द, से इस संगठन को प्रतिबंधित करने की सिफारिश की है। इस सिलसिले में सूबे के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने सोमवार को एक पत्र केन्द, को भेजा है। 

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को पत्रकारों से बातचीत मे कहा कि सीएए को लेकर राज्य में पिछले दिनो हुयी हिंसा में पीएफआई कार्यकर्ताओं का हाथ होने के सबूत मिले है। ऐसे संगठनो को बगैर देरी किये प्रतिबंधित कर देना चाहिये। पीएफआई के कई सदस्य पहले भी प्रतिबंधित संगठन स्टूडेंट इस्लामिक मूवमेंट आफ इंडिया (सिमी) से ताल्लुक रख चुके हैं। 

पुलिस सूत्रों ने बताया कि 22 नवम्बर 2006 को अस्तित्व में आये पीएफआई के अध्यक्ष वसीम अहमद समेत तीन कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिंसा फैलाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। पुलिस जांच में संगठन के हिंसा फैलाने को लेकर मिले पुख्ता सबूत के बाद सरकार की ओर से यह कार्यवाही की गयी है।

उन्होने कहा ‘‘ पुलिस जांच के दौरान पता चला कि राज्य के अलग अलग जिलों विशेषकर लखनऊ में पिछले दिनो भड़की हिंसा में पीएफआई कार्यकर्ताओं का हाथ था। हम ऐसे देशद्रोही कृत्य में शामिल लोगों को कतई नहीं छोड़ सकते। पुलिस महानिदेशक ने इस संबंध में केन्द, को पत्र लिख कर संगठन को प्रतिबंधित करने की सिफारिश की है।’’