BREAKING NEWS

बैंक धोखाधड़ी : ईडी ने रतुल पुरी की जमानत अर्जी का किया विरोध◾राहुल गांधी ने प्याज पर सीतारमण के बयान को लेकर तंज कसा ◾TOP 20 NEWS 05 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PNB घोटाला : नीरव मोदी भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित ◾DTC और क्लस्टर बसों में लगेंगे CCTV कैमरे, पैनिक बटन, GPS : केजरीवाल ◾मायावती ने केंद्र द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और असंवैधानिक◾चिदंबरम ने पहले ही दिन जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया: प्रकाश जावड़ेकर◾अर्थव्यवस्था पर असामान्य रूप से मौन हैं PM मोदी, सरकार को नहीं कोई खबर : चिदंबरम ◾रेपो दर में नहीं हुआ कोई बदलाव, RBI ने GDP ग्रोथ अनुमान घटाकर किया 5 फीसदी◾वायनाड में बोले राहुल- PM मोदी और अमित शाह ‘काल्पनिक’ दुनिया में जी रहे हैं इसलिए देश संकट में है◾जेल से बाहर आते ही एक्शन में दिखे चिदंबरम, संसद परिसर में मोदी सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन◾प्रियंका ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कहा- प्रदेश में कानून व्यवस्था बेहतर होने के फर्जी प्रचार से बाहर निकलना चाहिए◾महाराष्ट्र में शिवसेना को बड़ा झटका, भाजपा में शामिल हुए 400 पार्टी कार्यकर्ता◾उत्तर प्रदेश : उन्नाव में गैंगरेप पीड़िता को जिंदा जलाने की कोशिश, सभी आरोपी फरार ◾अमेरिका : पर्ल हार्बर शिपयार्ड में हुई गोलीबारी, बाल-बाल बचे भारतीय वायुसेना प्रमुख भदौरिया◾मध्य प्रदेश : रीवा में बस-ट्रक के बीच भीषण टक्कर, 9 की मौत, 10 लोग घायल◾पूर्व PM मनमोहन सिंह बोले- अगर नरसिम्हा राव ने मान ली होती गुजराल कि बात तो टल सकता था 1984 का दंगा◾कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर वोटिंग जारी, बीजेपी सरकार की किस्मत का होगा फैसला◾सूडान फैक्ट्री हादसे में भारतीयों की मौत पर PM मोदी दुख प्रकट किया ◾जेल से बाहर आने के बाद चिदंबरम ने सोनिया गांधी से की मुलाकात ◾

उत्तर प्रदेश

बाबरी मस्जिद के पास रहने वाले परिवार ने खोलीं अयोध्या विवाद की परतें

 babari majzid

अयोध्या : जीवन के 84 वसंत देख चुके रामकिशोर गोस्वामी अपने बचपन के दिनों को याद करते हुए कहते हैं कि कैसे वह अपने करीब 200 साल पुराने मकान के समीप बनी बाबरी मस्जिद के आसपास खेला करते और तब वहां इस मस्जिद के आसपास सुरक्षाकर्मियों का कोई पहरा नहीं हुआ करता था। 

उनके पुत्रों नीरज और निखिल, दोनों का जन्म 1980 के दशक में हुआ थे। उनके स्मृतिपटल पर अब भी 1992 के उस दिन की यादें ताजा हैं जब अनियंत्रित कारसेवकों की भीड़ ने मुगल काल की मस्जिद को ढहा दिया था। दोनों घटनास्थल से करीब 300 मीटर दूर स्थित अपने पैदाइशी घर ‘श्रीनगर भवन’ की छत से इस घटना को देख रहे थे। 

नीरज गोस्वामी उस समय 10 साल के थे। उन्होंने बताया, ‘‘कार सेवकों पर जुनून छाया था। 16वीं सदी की बाबरी मस्जिद की तीन गुंबदों को एक-एक कर उन्होंने लोहे की छड़ों और अन्य चीजों से तोड़-तोड़ कर ढहा दिया, जिससे वहां धूल का गुबार छा गया। बाद में इसका प्रभाव समूचे देश में महसूस किया गया।’’ 

गोस्वामी की कई पीढ़ियां रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के विभिन्न चरणों की गवाह रहीं हैं। मामले में उच्चतम न्यायालय का ऐतिहासिक फैसला उनके परिवार के लिये एक बड़ी राहत लेकर आया। 

गोस्वामी ने पीटीआई भाषा से कहा, ‘‘नौ नवंबर को ऐसे लगा कि मेरे दिल से बोझ हट गया। अपने जीवन के 80 साल मैं अपने पिता, दादा से रामजन्मभूमि, बाबरी मस्जिद के बारे में सुनता आ रहा था। 1992 तक वहां बाबरी मस्जिद थी। मुझे खुशी है कि विवाद सुलझ गया।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘रामजन्मभूमि हमारे लिये एक पवित्र स्थल है और निर्णय से मुझे खुशी है। अयोध्या के लोग शांतिप्रिय हैं और इसलिए सांप्रदायिक सौहार्द कायम रहना चाहिए।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘इस परिसर के इतना करीब रहने के बावजूद बचपन में मुझे कभी इस स्थल के विवादित होने के बारे में पता नहीं था। यह इलाका तो हम बच्चों के लिये खेलने की जगह था।’’ 

गोस्वामी ने कहा, ‘‘दिसंबर 1949 में मस्जिद में चुपके से भगवान राम की प्रतिमा स्थापित की गयी। उसे रहस्मय प्राकट्य के रूप में मान लिया गया। उस समय मुझे इस मामले का महत्व समझ में आया। ’’

 

उस समय भारत को स्वतंत्र हुए मा दो वर्ष हुए थे और विभाजन का घाव अभी भरा नहीं था। 

गोस्वामी ने दावा किया, ‘‘1949 की घटना के बाद तांगों पर लाउडस्पीकर से यह घोषणा की जाती थी कि हिंदुओं के कल्याण के लिये भगवान राम प्रकट हुए हैं।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे याद है बचपन में मस्जिद से ‘अजान’ की आवाज आती थी। लेकिन 1950 के दशक के बाद ये आवाजें आनी बंद हो गयीं।’’ 

श्रीनगर भवन सदियों से गोस्वामी परिवार का आवास रहा है। निखिल गोस्वामी के अनुसार उनके पूर्वज दयाल गोस्वामी वृंदावन से अयोध्या आये थे।