BREAKING NEWS

Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾सपा का हाथ थामने पर जितिन प्रसाद ने कपिल सिब्बल पर किया कटाक्ष, कहा- कैसा है 'प्रसाद'?◾Chinese visa scam: कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें! धन शोधन के मामले में ED ने दर्ज किया मामला ◾ज्ञानवापी मामले को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, दायर हुई नई याचिका पर हुआ बड़ा फैसला! ◾यासीन मलिक की सजा पर कुछ देर में फैसला, NIA ने सजा-ए-मौत का किया अनुरोध◾Sri Lanka Crisis: राष्ट्रपति गोटबाया ने नया वित्त मंत्री नियुक्त किया, पीएम रानिल विक्रमसिंघे को सोपी यह कमान ◾पाकिस्तान में बन रहे गृह युद्ध के हालात... इमरान खान पर लटक रही गिरफ्तारी की तलवार, जानें पूरा मामला ◾SP के टिकट पर राज्यसभा जाएंगे कपिल सिब्बल.. नामांकन दाखिल! डैमेज कंट्रोल में जुटे अखिलेश? ◾पेरारिवलन से MK स्टालिन की मुलाकात पर बोले राउत-ये हमारी संस्कृति और नैतिकता नहीं◾यूक्रेन के मारियुपोल में इमारत के भूतल में मिले 200 शव, डोनबास में जारी है पुतिन की सेना के ताबड़तोड़ हमले ◾हिंदू पक्ष ने Worship Act 1991 को बताया असंवैधानिक...., SC में नई याचिका हुई दायर, जानें क्या कहा ◾J&K : बारामूला मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने ढेर किए 3 पाकिस्तानी आतंकी, पुलिस का 1 जवान शहीद ◾बिहार में फिर कहर बनकर टूटी जहरीली शराब, गया और औरंगाबाद में अब तक 11 की मौत◾राज्यसभा के लिए SP ने फाइनल किए नाम, सिब्बल के जरिए एक तीर से दो निशाने साधेंगे अखिलेश?◾केंद्रीय मंत्री के ट्विटर से गायब हुए मुख्यमंत्री... नीतीश संग जारी मतभेद पर RCP ने कही यह बात, जानें मामला ◾

बुजुर्ग मारपीट मामला : गाजियाबाद पुलिस ने करेगी सपा कार्यकर्ता पर रासुका लगाने की सिफारिश

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद के लोनी बॉर्डर इलाके में मुस्लिम बुजुर्ग अब्दुल समद के साथ हुई मारपीट का वीडियो वायरल होने के बाद विवाद लगातार बढ़ता जा रहा है। गाजियाबाद पुलिस इस मामले में समाजवादी पार्टी के एक स्थानीय कार्यकर्ता को राष्ट्रीय सुरक्षा अधिनियम (एनएसए) के तहत हिरासत में लेने की सिफारिश करेगी। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। कार्यकर्ता उम्मेद पहलवान इदरीसी को 19 जून को गाजियाबाद पुलिस ने लोनी बॉर्डर पुलिस थाने में उसके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के बाद दिल्ली से गिरफ्तार किया था।

एनएसए के तहत मामला दर्ज होने के बाद आरोपी को एक साल तक जेल में बंद किया जा सकता है, जिसकी हर तीन महीने में हाई कोर्ट द्वारा समीक्षा की जाती है। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अमित पाठक ने सोमवार को कहा, ''हम (उत्तर प्रदेश सरकार को) उसके खिलाफ एनएसए लगाने की सिफारिश करेंगे। औपचारिकताएं आज पूरी कर ली जाएंगी।'' एक स्थानीय पुलिसकर्मी की शिकायत पर दर्ज प्राथमिकी में आरोप लगाया गया है कि इदरीसी ने ''अनावश्यक'' रूप से वीडियो बनाया था जिसमें अब्दुल समद सैफी ने कुछ युवकों द्वारा हमले का दावा किया था। 

सैफी ने आरोप लगाया था कि युवकों ने उनकी दाढ़ी काट दी और 'जय श्री राम' बोलने के लिए मजबूर किया। पुलिसकर्मी की शिकायत में आरोप लगाया गया है कि इदरीसी ने ''सामाजिक द्वेष पैदा करने'' के इरादे से इस वीडियो को अपने फेसबुक अकाउंट के माध्यम से साझा किया। इदरीसी के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153ए, 295ए, 504 और 505 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

अधिकारियों ने बताया कि सैफी के पैतृक स्थान बुलंदशहर में 17 जून को इदरीसी के खिलाफ अलग से प्राथमिकी दर्ज की गई थी, जिसमें उस पर और लगभग 100 अन्य लोगों पर सैफी पर हमले के संबंध में 16 जून को एक सार्वजनिक सभा आयोजित करके कोविड-19 नियमों का उल्लंघन करने का आरोप लगाया गया है। पुलिस का कहना है कि सैफी पर 5 जून को निजी दुश्मनी के चलते हमला किया गया था और इस घटना को कुछ लोगों ने सांप्रदायिक रंग दे दिया था। अधिकारियों ने बताया कि मारपीट के मामले में अब तक करीब एक दर्जन आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है।