BREAKING NEWS

दिल्ली शराब नीति मामला : 11 दिसंबर को कविता से पूछताछ करेगी CBI◾MP Borewell Incident : एमपी के बैतूल में 8 साल का बच्चा बोरवेल में गिरा, बचाव अभियान जारी◾भारत अंतरराष्ट्रीय मोटा अनाज वर्ष के जश्न को आगे बढ़ाएगा - PM मोदी◾गुजरात में भी विफल मीम-भीम गठजोड़, सर्वे ने सभी को चौंकाया, भाजपा को सबसे आगे दिखाया ◾Tamil Nadu: सीएम स्टालिन ने कहा- उत्तर भारत के पेरियार हैं अंबेडकर◾UP News: सपा विधायक अतुल प्रधान ने किया सदन की कार्यवाही का फेसबुक पर सीधा प्रसारण, हुई कार्रवाई◾संसद में मचेगा घमासान! विपक्ष की महंगाई, बेरोजगारी जैसे मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरने की तैयारी◾Uttarakhand: अदालत का अहम फैसला- पत्नी का गला घोंटकर मारने वाले पति को आजीवन कारावास दिया ◾Gold Rate Today Price: दिन के खत्म होते ही सोने में भारी चमक, 118 रूपये दर्ज की गई बढ़ोत्तरी◾UP News: विधानसभा का शीतकालीन सत्र अनिश्चितकाल के लिए स्थगित◾UP News: योगी आदित्यनाथ ने कहा- देश में सर्वश्रेष्ठ मानकों पर कार्य कर रहा है उप्र का होमगार्ड विभाग◾Border dispute: शरद पवार ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री को दिया अल्टीमेटम, क्या थमेगा विवाद? ◾TMC, JD(U), SAD की महिला आरक्षण विधेयक पर आमसहमति बनाने के लिये सर्वदलीय बैठक की मांग◾किसानों का बड़ा ऐलान: केंद्र सरकार के खिलाफ शुक्रवार को जंतर-मंतर पर करेंगे प्रदर्शन◾केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा- अवैध खनन रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है ड्रोन◾ईदगाह मस्जिद में हनुमान चालीसा का पाठ करने जा रहे अखिल भारत हिंदू महासभा का नेता हुआ गिरफ्तार ◾गोखले को हिरासत में लेने पर बयानबाजी शुरू, अभिषेक बनर्जी बोले- डरी हुई है भाजपा◾आतंकियों के निशाने पर कश्मीरी हिन्दू, TRF ने हिटलिस्ट जारी कर दी धमकी ◾CBI को मिली बड़ी कामयाबी, उत्तर रेलवे के एक इंजीनियर को दबोचा, दो करोड़ रूपए किए बरामद◾गुजरात में भाजपा की होगी जीत! सीएम बोम्मई ने कहा- इसका सीधा सकारात्मक प्रभाव कर्नाटक में पडे़गा◾

इशारों-इशारों में अखिलेश ने दिए मायावती से फिर दोस्ती के संकेत, सपा और बसपा का हो सकता है गठबंधन?

लोकसभा चुनाव होने में अभी कुछ समय बाकी है, लेकिन इसकी सुगबुगाहट उत्तर प्रदेश में होने लगी है। विपक्षी पार्टियां भाजपा को हराने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रही है। खासतौर, अखिलेश यादव जो आज तीसरी बार पार्टी के अध्यक्ष बन गए है। उन्होंने ने भी इशारों इशारों में साफ कर दिया की वो बीजेपी को हराने के लिए किसी से भी हाथ मिला सकते है। 

विष्य में दोनों पार्टियां हाथ मिला सकती 

दरअसल, यूपी में  सपा का अधिवेशन कार्यक्रम चल रहा है, जहां अखिलेश यदाव जनता को संबोधित कर रहे थे। यहां उन्होंने बीजेपी पर जमकर हमला बोला है, लेकिन बसपा पर उन्होंने कोई निजी हमला नहीं किया है , जिसका मतलब साफ है कि भविष्य में दोनों पार्टियां हाथ मिला सकती है। बता दें, अभी कुछ दिन पहले विधानसभा सत्र के दौरान अखिलेश ने पैदल यात्रा निकाली थी, जिसका समर्थन बसपा सुप्रीमों मायावती ने किया था।

दोनों पक्षों के बीच विवाद 

बता दें अखिलेश यादव ने इससे पहले बुधवार को भी बीएसपी या फिर मायावती पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि 2019 में, सपा ने बसपा के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ा और  जो त्याग करना था, वह भी किया।। ऐसे में सवाल उठता है कि क्या वह बसपा को साथ लेकर एक बार फिर त्याग और सहयोग का जज्बा दिखाएंगे? आपको बता दें कि 2019 के आम चुनाव में सपा और बसपा ने गठबंधन किया था। दोनों ने 15 सीटें जीती थीं, लेकिन अकेले बसपा के खाते में 10 सीटें थीं. इस पर दोनों पक्षों के बीच विवाद शुरू हो गया और अंत में एक बार फिर यह ऐतिहासिक गठबंधन टूट गया था ।

बसपा का सबसे खराब प्रदर्शन किया

2022 के विधानसभा चुनाव की बात करें तो सपा ने 37 फीसदी का ऐतिहासिक वोट हासिल किया, लेकिन तब भी सत्ता से दूर रह गई। वहीं बसपा को महज एक सीट ही मिली और उसने अपने इतिहास का सबसे खराब प्रदर्शन किया। इसके बाद भी उसे 12 फीसदी वोट मिले थे। ऐसे में यदि सपा और बसपा के वोटों को मिला लिया जाए तो यह 49 फीसदी हो जाता है। शायद अखिलेश इसी वजह से मायावती और बीएसपी के प्रति उदार हैं ताकि 12 फीसदी का भी साथ मिल जाए तो वह 2024 में अच्छा परिणाम दे सकते हैं।