BREAKING NEWS

Himachal: शादी में बर्फबारी बनी रोड़ा, तो शादी करने JCB लेकर पहुंचा दूल्हा◾RPN ने चुनावी मजधार में छोड़ा कांग्रेस का साथ, सोनिया को भेजा इस्तीफा, बोले- नए अध्याय की शुरुआत ◾यूपी चुनाव : BSP प्रमुख फरवरी से करेंगी चुनाव प्रचार का आगाज, इस जिले में होगी पहली जनसभा ◾कर्नाटक: मंत्रिमंडल विस्तार पर मचा बवाल, BJP नेता अपना रहे बागी रुख, कांग्रेस में हो सकते हैं शामिल ◾यूपी: CM योगी ने अखिलेश पर किया जुबानी हमला, कहा- सपा के नेता समाजवादी नहीं बल्कि तमंचावादी हैं ◾दिल्ली: कोरोना के दैनिक मामलों में दर्ज हुई गिरावट, CM केजरीवाल बोले- जल्द मिलेगी प्रतिबंधों से राहत ◾दिल्ली में शराब प्रेमियों के लिए अच्छी खबर, सालभर में 21 की जगह अब सिर्फ 3 Dry Day◾यूपी: AIMIM ने उमैर मदनी को मैदान में उतारा, चुनावी घमासान में तेज हुई मुस्लिम वोटों के लिए खींचतान◾फिर आमने-सामने शिवसेना और BJP, राउत बोले-हिंदुत्व के मुद्दे पर सबसे पहले हमने लड़ा था चुनाव◾कांग्रेस को लगेगा बहुत बड़ा झटका! स्टार प्रचारक RPN हो सकते हैं BJP में शामिल, स्वामी मौर्य की बढ़ेंगी मुश्किलें ◾राष्ट्रपति और PM मोदी समेत इन नेताओं ने दी हिमाचल के स्थापना दिवस पर राज्यवासियों को बधाई◾BJP सांसद गौतम गंभीर हुए कोरोना पॉजिटिव, संपर्क में आए लोगों से की टेस्ट कराने की अपील ◾मायावती का विरोधियों पर निशाना, कहा- बसपा को छोड़ बाकी सभी सरकारों ने किया राजनीति का अपराधीकरण ◾महाराष्ट्र : पुल से गिरी कार, भीषण सड़क हादसे में BJP विधायक के बेटे समेत 7 छात्रों की मौत◾Corona Update : कोरोना केस में गिरावट, 2 लाख 55 हज़ार नए मामले, एक्टिव केस 22 लाख से ज्यादा◾यूक्रेन को लेकर अमेरिका और रूस में तनाव की स्थिति, राष्ट्रपति बाइडन ने 8,500 सैनिकों को अलर्ट पर रखा◾UP: केशव प्रसाद मौर्य का सपा पर तीखा कटाक्ष, बोले- लिस्ट नई है, अपराधी वही हैं◾दुनियाभर में कहर बरपा रहा है कोरोना, वैश्विक स्तर पर 35.43 करोड़ पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा◾अभी जारी रहेगी ठिठुरन भरी ठंड, आने वाले दिनों में बर्फीली हवाएं और बढ़ाएंगी सर्दी, जानें पूरे उत्तर भारत का हाल◾पंजाब : नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें बताया फुंका कारतूस◾

BJP को हराने के बजाय UP विधानसभा चुनाव जीतने पर है कांग्रेस की नजर : अखिलेश

समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने शुक्रवार को दावा किया कि लोकसभा चुनाव में बीजेपी को हराने के बजाय कांग्रेस की नजर वर्ष 2022 में उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव जीतने पर है। अखिलेश ने कहा ''हमारा मकसद बिल्कुल साफ है। हमने साम्प्रदायिक पार्टी को रोकने के लिये बसपा और रालोद से गठबंधन किया है। राष्ट्रीय हित को देखते हुए ही सपा और बसपा ने सीटों का बलिदान दिया है।''

उन्होंने कहा, ''लेकिन लोकसभा चुनाव में कांग्रेस का एजेंडा बीजेपी को केन्द्र में अगली सरकार बनाने से रोकना नहीं, बल्कि 2022 में उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव जीतकर अपना मुख्यमंत्री बनाना है।'' सपा मुखिया की यह टिप्पणी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के उस बयान के मद्देनजर काफी अहम मानी जा रही है, जिसमें उन्होंने कहा था कि केन्द्र में सरकार बनाने के बाद कांग्रेस का अगला लक्ष्य उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव जीतने का है, ताकि सूबे को शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार का मुख्य केन्द्र बनाया जा सके।

बसपा और रालोद के साथ सपा के गठबंधन को 'मजबूत' बताते हुए उन्होंने कहा ''दोनों ही पार्टियों ने देश के लिये बलिदान दिया है। हमने एक-दूसरे के लिये आधी सीटें इसलिये छोड़ीं ताकि बीजेपी दोबारा सत्ता में ना आ सके।'' सपा-बसपा की दोस्ती 23 मई को टूट जाने के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दावे के बारे में अखिलेश ने कहा कि आखिर बीजेपी को इसकी फिक्र क्यों हो रही है। उत्तर प्रदेश में हम मजबूत हैं और बीजेपी कहीं नहीं है। यह जमीनी हकीकत है। बीजेपी हमसे बहुत पीछे हो गयी है।

मोदी ने प्यासे बुंदेलखंड के लिये कुछ नहीं किया : अखिलेश यादव

सपा द्वारा चुनाव में हार के डर से इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में खराबी की शिकायत किये जाने के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के बयान पर अखिलेश ने कहा, ''वह मुख्यमंत्री नहीं बन सके। वह अब भी सीख रहे हैं। उन्हें पिछले तीन दिन से चुनाव प्रचार के लिये हेलीकॉप्टर नहीं मिल पा रहा है। वह पार्टी में कुछ नहीं हैं।''

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि रामपुर, बदायूं और मैनपुरी में भी ईवीएम में बड़े पैमाने पर खराबी हुई। क्या यह गम्भीर बात नहीं है? बीजेपी द्वारा सपा और बसपा की पिछली सरकारों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाये जाने के बारे में उन्होंने कहा, ''बीजेपी के पास उठाने के लिये विकास का कोई मुद्दा नहीं है। अगर कहीं कुछ गड़बडी है तो वह कार्रवाई क्यों नहीं कर रही है? उसे किसने रोका है?''

प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार को नाकाम बताते हुए अखिलेश ने पूछा कि तमाम दावों के बीच क्या प्रदेश में पिछले दो साल के दौरान एक पैसे का भी निवेश हुआ है? लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद सपा की क्या भूमिका होगी, इस सवाल पर पार्टी अध्यक्ष ने कहा, ''मैं प्रधानमंत्री पद की दौड़ में नहीं हूं।

लेकिन इतना तय है कि गठबंधन ही देश को नयी सरकार और नया प्रधानमंत्री देने जा रहा है। हम सही वक्त पर सही फैसला लेंगे। इस वक्त हम चुनाव अभियान पर ध्यान लगा रहे हैं और हमें विश्वास है कि प्रदेश में हम ज्यादा से ज्यादा सीटें जीतेंगे।'' इस सवाल पर कि अगर गठबंधन को पर्याप्त सीटें मिलीं तो अगला प्रधानमंत्री कौन बनेगा?

अखिलेश ने कहा कि बीजेपी के पास केवल एक चेहरा है। हमारे पास कई नेता हैं। किसी को इस बारे में चिंता नहीं करनी चाहिये। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बारे में पूछे जाने पर सपा अध्यक्ष ने कहा कि वह हर किसी को बेवकूफ बना रहे हैं। वह जनता के मुद्दों से ध्यान भटकाने में माहिर हैं। उन्हें देश को यह बताना चाहिये कि क्या भ्रष्टाचार रुक गया। क्या विदेशी बैंकों में जमा कालाधन वापस आ गया। बेरोजगारी क्यों इतनी बढ़ गयी है।