BREAKING NEWS

हमारा ध्यान देश की विरासत और संस्कृति बचाने पर : PM मोदी◾मोदी सरकार चेहरे पर कुछ और बोलती है, लेकिन अपने बगल में खंजर रखती है : दर्शन पाल◾किसानों को डर दिखाकर बहकाया जा रहा है, कृषि कानून पर बैकफुट पर नहीं आएगी सरकार : PM मोदी◾किसानों ने दिल्ली को चारों तरफ से घेरने की दी चेतावनी, कहा- बुराड़ी कभी नहीं जाएंगे◾दिल्ली में लगातार दूसरे दिन संक्रमण के 4906 नए मामले की पुष्टि, 68 लोगों की मौत◾महबूबा मुफ्ती ने BJP पर साधा निशाना, बोलीं- मुसलमान आतंकवादी और सिख खालिस्तानी तो हिन्दुस्तानी कौन?◾दिल्ली पुलिस की बैरिकेटिंग गिराकर किसानों का जोरदार प्रदर्शन, कहा- सभी बॉर्डर और रोड ऐसे ही रहेंगे ब्लॉक ◾राहुल बोले- 'कृषि कानूनों को सही बताने वाले क्या खाक निकालेंगे हल', केंद्र ने बढ़ाई अदानी-अंबानी की आय◾अमित शाह की हुंकार, कहा- BJP से होगा हैदराबाद का नया मेयर, सत्ता में आए तो गिराएंगे अवैध निर्माण ◾अन्नदाआतों के समर्थन में सामने आए विपक्षी दल, राउत बोले- किसानों के साथ किया गया आतंकियों जैसा बर्ताव◾किसानों ने गृह मंत्री अमित शाह का ठुकराया प्रस्ताव, सत्येंद्र जैन बोले- बिना शर्त बात करे केंद्र ◾बॉर्डर पर हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाक, जम्मू में देखा गया ड्रोन, BSF की फायरिंग के बाद लौटा वापस◾'मन की बात' में बोले पीएम मोदी- नए कृषि कानून से किसानों को मिले नए अधिकार और अवसर◾हैदराबाद निगम चुनावों में BJP ने झोंकी पूरी ताकत, 2023 के लिटमस टेस्ट की तरह साबित होंगे निगम चुनाव ◾गजियाबाद-दिल्ली बॉर्डर पर डटे किसान, राकेश टिकैत का ऐलान- नहीं जाएंगे बुराड़ी ◾बसपा अध्यक्ष मायावती ने कहा- कृषि कानूनों पर फिर से विचार करे केंद्र सरकार◾देश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 94 लाख के करीब, 88 लाख से अधिक लोगों ने महामारी को दी मात ◾योगी के 'हैदराबाद को भाग्यनगर बनाने' वाले बयान पर ओवैसी का वार- नाम बदला तो नस्लें होंगी तबाह ◾वैश्विक स्तर पर कोरोना के मामले 6 करोड़ 20 लाख के पार, साढ़े 14 लाख लोगों की मौत ◾सिंधु बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी, आगे की रणनीति के लिए आज फिर होगी बैठक ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

रिहाई के बाद कफील खान का तंज : ‘राज धर्म’ निभाने की बजाय ‘बाल हठ’ कर रही है उत्तर प्रदेश सरकार

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत  डॉ कफील खान की गिरफ्तारी को मंगलवार को अवैध बताया और उनकी तत्काल रिहाई के आदेश दिए। इसके बाद खान को मंगलवार देर रात मधुरा की जेल से रिहा किया गया। रिहा होने के बाद कफ़ील ने योगी सरकार पर तीखा तंज कसा है। साथ ही कफील ने अदालत का शुक्रिया भी अदा किया है। 

मथुरा जेल से रिहा होने के बाद डॉ कफील खान ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार ‘राज धर्म’ निभाने की बजाय ‘बाल हठ’ कर रही है और वह उन्हें किसी अन्य मामले में फंसा सकती है। खान के वकील इरफान गाजी ने बताया, “मथुरा जेल प्रशासन ने रात करीब 11 बजे मुझे सूचित किया कि डॉ कफील को रिहा किया जाएगा और मध्यरात्रि के आस-पास उनको रिहा किया गया।” 

जेल से रिहा होने के बाद खान ने कहा, “मैं अपने उन सभी शुभचिंतकों का हमेशा शुक्रगुजार रहूंगा जिन्होंने मेरी रिहाई के लिए आवाज बुलंद की। प्रशासन रिहाई के लिए तैयार नहीं था लेकिन लोगों की दुआओं की वजह से मुझे रिहा किया गया।” 

उन्होंने कहा, “रामायण में, महर्षि वाल्मीकि ने कहा था कि राजा को ‘राज धर्म’ के लिए काम करना चाहिए। उत्तर प्रदेश में ‘राजा’ ‘राज धर्म’ नहीं निभा रहा बल्कि ‘बाल हठ’ कर रहा है।” खान ने कहा कि उन्हें अंदेशा है कि सरकार उन्हें किसी दूसरे मामले में फंसा सकती है। 

उन्होंने दावा किया कि उन्हें और उनके परिवार को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि राज्य सरकार बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन वाले मामले के कारण उनके पीछे पड़ी हुई है। खान ने कहा कि अब वह बिहार और असम में बाढ़ प्रभावित लोगों की मदद करना चाहते हैं। 

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश गोविंद माथुर और न्यायमूर्ति सौमित्र दयाल सिंह की पीठ ने खान की मां नुजहत परवीन की याचिका पर उनकी रिहाई का आदेश दिया। याचिका के अनुसार खान को सक्षम अदालत ने फरवरी में जमानत दी थी और उन्हें जमानत पर रिहा किया जाना था। 

उन्हें चार दिन तक रिहा नहीं किया गया और बाद में उनके खिलाफ रासुका लगाया गया। याचिका में दलील दी गई कि इसलिए उनको हिरासत में रखना अवैध था। कफील संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ पिछले साल अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय (एएमयू) में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में जनवरी से जेल में बंद थे। 

गौरतलब है कि अगस्त 2017 में गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी से बड़ी संख्या में मरीज बच्चों की मौत के मामले के बाद कफील चर्चा में आये थे। वह आपात ऑक्सीजन सिलेंडर की व्यवस्था कर बच्चों की जान बचाने वाले नायक के तौर पर सामने आए। बाद में उनपर और अस्पताल के नौ अन्य डॉक्टरों तथा स्टाफ सदस्यों के खिलाफ कार्रवाई की गई। अब ये सभी जमानत पर रिहा हैं। 

राज्य सरकार की जांच ने खान को सभी बड़े आरोपों से मुक्त किया था जिसके बाद उन्होंने योगी आदित्यनाथ सरकार से माफी मांगने को कहा। डॉक्टर ने आरोप लगाया कि संस्थागत विफलता के कारण बच्चों की मौत हुई। बाद में उन्हें धमकियां मिलने लगीं, उनके खिलाफ मामले दर्ज होने के अलावा उनके परिवार पर भी हमला किया गया जिसे कफील ने राज्य सरकार की तरफ से राजनीतिक प्रतिशोध करार दिया। 

अखिलेश का योगी सरकार पर निशाना : उम्मीद है कि कफील की तरह आजम खां को भी मिलेगा इंसाफ