BREAKING NEWS

चेन्नई सुपर किंग्स चौथी बार बना IPL चैंपियन◾बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार दशहरा देश भर में उल्लास के साथ मनाया गया◾सिंघु बॉर्डर : किसान आंदोलन के मंच के पास हाथ काटकर युवक की हत्या, पुलिस ने मामला किया दर्ज ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर कटाक्ष, बोले- आर्यन ड्रग्स मामले ने आशीष मिश्रा से हटा दिया ध्यान◾हिंदू मंदिरों के अधिकार हिंदू श्रद्धालुओं को सौंपे जाएं, कुछ मंदिरों में हो रही है लूट - मोहन भागवत◾जनरल नरवणे भारत-श्रीलंका के बीच सैन्य अभ्यास के समापन कार्यक्रम में शामिल हुए, दोनों दस्तों के सैनिकों की सराहना की◾अफगानिस्तान: कंधार में शिया मस्जिद को एक बार फिर बनाया गया निशाना, विस्फोट में कई लोगों की मौत ◾सिंघु बॉर्डर आंदोलन स्थल पर जघन्य हत्या की SKM ने की निंदा, कहा - निहंगों से हमारा कोई संबंध नहीं ◾अध्ययन में चौंकाने वाला खुलासा, दिल्ली में डेल्टा स्वरूप के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी पाना कठिन◾सिंघु बॉर्डर पर युवक की विभत्स हत्या पर बोली कांग्रेस - हिंसा का इस देश में स्थान नहीं हो सकता◾पूर्व PM मनमोहन की सेहत में हो रहा सुधार, कांग्रेस ने अफवाहों को खारिज करते हुए कहा- उनकी निजता का सम्मान किया जाए◾रक्षा क्षेत्र में कई प्रमुख सुधार किए गए, पहले से कहीं अधिक पारदर्शिता एवं विश्वास है : पीएम मोदी ◾PM मोदी ने वर्चुअल तरीके से हॉस्टल की आधारशिला रखी, बोले- आपके आशीर्वाद से जनता की सेवा करते हुए पूरे किए 20 साल◾देश ने वैक्सीन के 100 करोड़ के आंकड़े को छुआ, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान ने कायम किया रिकॉर्ड◾शिवपाल यादव ने फिर जाहिर किया सपा प्रेम, बोले- समाजवादी पार्टी अब भी मेरी प्राथमिकता ◾जेईई एडवांस रिजल्ट - मृदुल अग्रवाल ने रिकॉर्ड के साथ रचा इतिहास, लड़कियों में काव्या अव्वल ◾दिवंगत रामविलास पासवान की पत्नी रीना ने पशुपति पारस पर लगाए बड़े आरोप, चिराग को लेकर जाहिर की चिंता◾सिंघू बॉर्डर पर किसानों के मंच के पास बैरिकेड से लटकी मिली लाश, हाथ काटकर बेरहमी से हुई हत्या ◾कुछ ऐसी जगहें जहां दशहरे पर रावण का दहन नहीं बल्कि दशानन लंकेश की होती है पूजा◾एनसीबी ने अदालत में आर्यन को 'नशेड़ी' करार दिया, जेल में कैदी न. 956 बनकर पड़ेगा रहना ◾

लखीमपुर खीरी कांड : 12 घंटे की पूछताछ में SIT के कई सवालों के जवाब नहीं दे पाया आशीष मिश्रा

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में एक हफ्ते पहले हुई घटना के मामले में मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है। शनिवार को लखीमपुर खीरी क्राइम ब्रांच के दफ्तर पहुंचे आशीष से एसआईटी ने लगभग 12 घंटो तक लगातार पूछताछ की। एसआईटी द्वारा पूछे गए कई सवालों के जवाब देने में मंत्री के बेटे की असमर्थता झलकी।

हर सवाल का आशीष ने दिया एक ही जवाब

जांच दल के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, 3 अक्टूबर को जब घटना हुई, दोपहर 2.30 से 3.30 बजे के बीच आशीष मिश्रा किस जगह थे, यह नहीं बता पाए। प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा है कि वह दोपहर 2 से 4 बजे के बीच घटनास्थल से गायब थे, जबकि उनके फोन की लोकेशन ने उन्हें अपराध स्थल के करीब दिखाया।

हालांकि मंत्री के बेटे ने स्वीकार किया कि किसानों को कुचलने वाली एसयूवी उनकी है, लेकिन उन्होंने कहा कि वह उसमें नहीं थे। उनकी टीम ने कहा कि उन्होंने कुश्ती मैच की लगभग 150 तस्वीरें खींचीं घटना के दिन वह वहीं मौजूद थे। पुलिस अधिकारी ने कहा, "हर सवाल का उनके पास एक ही जवाब था - मैं उस जगह पर मौजूद नहीं था, जहां घटना हुई थी। 

हमने उनसे पूछा कि उनकी एसयूवी किसने चलाई, उसमें कितने लोग बैठे थे, काफिले में कितनी कारें थीं और हर के लिए सवाल उन्होंने कहा कि वह वहां मौजूद नहीं थे।' यह पूछे जाने पर कि लोगों को टक्कर मारने के बाद गाड़ी रुकी क्यों नहीं और सड़क पर भीड़ क्यों थी, आशीष मिश्रा का एक ही जवाब था- "मैं वहां नहीं था।" 

पूछताछ में आपा खो बैठे आशीष

अधिकारी के मुताबिक कभी-कभी तो आशीष ने आपा भी खो दिया और कहा, "अगर तुम मुझसे एक लाख बार पूछो तो भी मेरा जवाब वही होगा।" उन्होंने इस तथ्य के बारे में पूरी तरह से अनभिज्ञता जताई कि उनके आदमी अपने साथ हथियार रखते थे। कम से कम दो मृतकों के परिवारों ने दावा किया है कि शवों पर गोलियों के निशान थे - पोस्टमार्टम रिपोर्ट में तथ्य से इनकार किया गया है। हालांकि घटनास्थल से 315. बोर राइफल के दो खाली कारतूस मिले हैं, जिससे साबित होता है कि किसी ने गोली चलाई थी। 

जब पुलिस टीम ने आशीष मिश्रा से वीडियो फुटेज की सत्यता के बारे में पूछा, तो उन्होंने जिले में पहले कुश्ती मैच में अपनी उपस्थिति साबित करने के लिए सबूत पेश किए और कहा, "आप फोरेंसिक विशेषज्ञों से इसका परीक्षण करवा सकते हैं।" जिस समय यह घटना हुई, उस समय उनके अपने ठिकाने के बारे में उनके पास कोई स्पष्टीकरण नहीं था, क्योंकि कुश्ती मैच तब तक समाप्त हो चुका था। यह पूछे जाने पर कि वह जांच में सहयोग क्यों नहीं कर रहे हैं, आशीष ने कहा, "जब भी मुझे जरूरत होगी, मैं आऊंगा। मैं अपराधी नहीं हूं- मैं एक राजनेता और एक व्यापारी का बेटा हूं।'

सुप्रीम कोर्ट की नाराजगी के एक दिन बाद हुई आशीष की गिरफ्तारी

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने घटना पर स्वतः संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश सरकार को याद दिलाया कि इस घटना पर देशव्यापी आक्रोश और किसान समूहों के बढ़ते दबाव के बीच कानून को अपना काम करना चाहिए, तब आशीष मिश्रा को एक दिन बाद गिरफ्तार किया गया। मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचते ही गुरुवार को दो लोगों लवकुश और आशीष पांडे को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने कहा कि वे कथित तौर पर उसी वाहन में सवार थे जो एक पत्रकार और किसानों के ऊपर चढ़ गया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले कहा था कि उनकी सरकार "किसी को आरोपों के आधार पर नहीं, सबूतों के आधार पर गिरफ्तार नहीं करेगी।'