BREAKING NEWS

गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : राजनाथ ने ममता को बंगाल की झांकी न होने की बताई ये वजह !◾पंजाब : कांग्रेस के 4 नेताओं ने मंत्री को पार्टी से निकालने की मांग की, सोनिया गांधी को लिखा पत्र ◾विधानसभा चुनावों में डिजिटल माध्यम से रैलियां करेगी BJP◾केरल : कोविड के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पाबंदियों पर बृहस्पतिवार को फैसला लेगी राज्य सरकार ◾कांग्रेस ने PM मोदी पर साधा निशाना - प्रधानमंत्री और भाजपा ने इकलौते दलित मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रतिशोध की कार्रवाई की◾UAE के विदेश मंत्री ने जयशंकर से की बात, आतंकी हमले में भारतीयों की मौत पर दुख जताया ◾ मुंबई : INS रणवीर में हुआ ब्लास्ट, तीन जवानों की मौत, कई घायल ◾यूपी : प्रियंका गांधी ने महिला कार्यकर्ताओं से की अपील, जहां कांग्रेस की महिला प्रत्याशी वहां करें समर्थन ◾ दिल्ली में मिले IED की हर कोण से जांच कर रही है पुलिस, अधिकारी ने दी जानकारी ◾दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमण के 11,684 नए मामले आए सामने, 38 की हुई मौत ◾आजम खान जेल में रहकर लड़ेंगे यूपी विधानसभा चुनाव, रामपुर से सपा के उम्मीदवार घोषित◾पंजाब : ED ने मारा सीएम चन्नी के परिजनों पर छापा, कांग्रेस बोली ईडी है भाजपा का चुनाव विभाग◾BJP ने यूपी चुनाव के लिए उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट की जारी , इन नामों पर लगी मुहर◾बसपा ने भी किया 10 छोटे दलों से गठबंधन का ऐलान, यूपी चुनाव से पहले BSP ने चल दिया बड़ा दांव◾उत्तराखंड: दिल्ली में कल होगी BJP की चुनाव समिति की अहम बैठक, उम्मीदवारों के नाम की सूची पर होगा मंथन ◾देवास-एंट्रिक्स डील को लेकर वित्त मंत्री ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- यह धोखाधड़ी का सौदा था◾सुल्ली डील्स और बुली बाई के बाद क्लबहाउस ऐप बना रही महिलाओं को निशाना, DCW ने भेजा पुलिस को नोटिस ◾हिन्दुओं के खिलाफ घृणा फैलाने वालों को प्रोत्साहित करने की स्पर्धा है कांग्रेस, SP में: BJP◾अब गोवा चुनाव के लिए CM उम्मीदवार का ऐलान करने की तैयारी में केजरीवाल, कल बताएंगे कौन होगा सीएम का चहेरा◾केजरीवाल मान को नहीं बनाना चाहते थे CM उम्मीदवार, बादल बोले- कोई नहीं करना चाहता AAP का नेतृत्व ◾

लखीमपुर खीरी कांड : 12 घंटे की पूछताछ में SIT के कई सवालों के जवाब नहीं दे पाया आशीष मिश्रा

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में एक हफ्ते पहले हुई घटना के मामले में मुख्य आरोपी और केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को गिरफ्तार कर लिया गया है। शनिवार को लखीमपुर खीरी क्राइम ब्रांच के दफ्तर पहुंचे आशीष से एसआईटी ने लगभग 12 घंटो तक लगातार पूछताछ की। एसआईटी द्वारा पूछे गए कई सवालों के जवाब देने में मंत्री के बेटे की असमर्थता झलकी।

हर सवाल का आशीष ने दिया एक ही जवाब

जांच दल के एक वरिष्ठ अधिकारी के मुताबिक, 3 अक्टूबर को जब घटना हुई, दोपहर 2.30 से 3.30 बजे के बीच आशीष मिश्रा किस जगह थे, यह नहीं बता पाए। प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा है कि वह दोपहर 2 से 4 बजे के बीच घटनास्थल से गायब थे, जबकि उनके फोन की लोकेशन ने उन्हें अपराध स्थल के करीब दिखाया।

हालांकि मंत्री के बेटे ने स्वीकार किया कि किसानों को कुचलने वाली एसयूवी उनकी है, लेकिन उन्होंने कहा कि वह उसमें नहीं थे। उनकी टीम ने कहा कि उन्होंने कुश्ती मैच की लगभग 150 तस्वीरें खींचीं घटना के दिन वह वहीं मौजूद थे। पुलिस अधिकारी ने कहा, "हर सवाल का उनके पास एक ही जवाब था - मैं उस जगह पर मौजूद नहीं था, जहां घटना हुई थी। 

हमने उनसे पूछा कि उनकी एसयूवी किसने चलाई, उसमें कितने लोग बैठे थे, काफिले में कितनी कारें थीं और हर के लिए सवाल उन्होंने कहा कि वह वहां मौजूद नहीं थे।' यह पूछे जाने पर कि लोगों को टक्कर मारने के बाद गाड़ी रुकी क्यों नहीं और सड़क पर भीड़ क्यों थी, आशीष मिश्रा का एक ही जवाब था- "मैं वहां नहीं था।" 

पूछताछ में आपा खो बैठे आशीष

अधिकारी के मुताबिक कभी-कभी तो आशीष ने आपा भी खो दिया और कहा, "अगर तुम मुझसे एक लाख बार पूछो तो भी मेरा जवाब वही होगा।" उन्होंने इस तथ्य के बारे में पूरी तरह से अनभिज्ञता जताई कि उनके आदमी अपने साथ हथियार रखते थे। कम से कम दो मृतकों के परिवारों ने दावा किया है कि शवों पर गोलियों के निशान थे - पोस्टमार्टम रिपोर्ट में तथ्य से इनकार किया गया है। हालांकि घटनास्थल से 315. बोर राइफल के दो खाली कारतूस मिले हैं, जिससे साबित होता है कि किसी ने गोली चलाई थी। 

जब पुलिस टीम ने आशीष मिश्रा से वीडियो फुटेज की सत्यता के बारे में पूछा, तो उन्होंने जिले में पहले कुश्ती मैच में अपनी उपस्थिति साबित करने के लिए सबूत पेश किए और कहा, "आप फोरेंसिक विशेषज्ञों से इसका परीक्षण करवा सकते हैं।" जिस समय यह घटना हुई, उस समय उनके अपने ठिकाने के बारे में उनके पास कोई स्पष्टीकरण नहीं था, क्योंकि कुश्ती मैच तब तक समाप्त हो चुका था। यह पूछे जाने पर कि वह जांच में सहयोग क्यों नहीं कर रहे हैं, आशीष ने कहा, "जब भी मुझे जरूरत होगी, मैं आऊंगा। मैं अपराधी नहीं हूं- मैं एक राजनेता और एक व्यापारी का बेटा हूं।'

सुप्रीम कोर्ट की नाराजगी के एक दिन बाद हुई आशीष की गिरफ्तारी

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने घटना पर स्वतः संज्ञान लेते हुए उत्तर प्रदेश सरकार को याद दिलाया कि इस घटना पर देशव्यापी आक्रोश और किसान समूहों के बढ़ते दबाव के बीच कानून को अपना काम करना चाहिए, तब आशीष मिश्रा को एक दिन बाद गिरफ्तार किया गया। मामला सुप्रीम कोर्ट में पहुंचते ही गुरुवार को दो लोगों लवकुश और आशीष पांडे को गिरफ्तार कर लिया गया। पुलिस ने कहा कि वे कथित तौर पर उसी वाहन में सवार थे जो एक पत्रकार और किसानों के ऊपर चढ़ गया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पहले कहा था कि उनकी सरकार "किसी को आरोपों के आधार पर नहीं, सबूतों के आधार पर गिरफ्तार नहीं करेगी।'