BREAKING NEWS

जनवरी से ATM से पैसे निकालना हो जाएगा महंगा, जानिए क्या है सरकार की नई नीति◾जयपुर में मचा हड़कंप, एक ही परिवार के नौ लोग कोरोना पॉजिटिव, 4 हाल ही में दक्षिण अफ्रीका से लौटे थे◾लुंगी छाप और जालीदार टोपी पहनने वाले गुंडों से भाजपा ने दिलाई निजात: डिप्टी सीएम केशव ◾ बच्चों को वैक्सीन और बूस्टर डोज पर जल्दबाजी नहीं, स्वास्थ्य मंत्री ने संसद में दिया जवाब◾केंद्र के पास किसानों की मौत का आंकड़ा नहीं, तो गलती कैसे मानी : राहुल गांधी◾किसानों ने कंगना रनौत की कार पर किया हमला, एक्ट्रेस की गाड़ी रोक माफी मांगने को कहा ◾ओमीक्रॉन वेरिएंट: केंद्र ने तीसरी लहर की संभावना पर दिया स्पष्टीकरण, कहा- पहले वाली सावधानियां जरूरी ◾जुबानी जंग के बीच TMC ने किया दावा- 'डीप फ्रीजर' में कांग्रेस, विपक्षी ताकतें चाहती हैं CM ममता करें नेतृत्व ◾राजधानी में हुई ओमीक्रॉन वेरिएंट की एंट्री? दिल्ली के LNJP अस्पताल में भर्ती हुए 12 संदिग्ध मरीज ◾दिल्ली प्रदूष्ण : केंद्र सरकार द्वारा गठित इंफोर्समेंट टास्क फोर्स के गठन को सुप्रीम कोर्ट ने दी मंजूरी ◾प्रदूषण : UP सरकार की दलील पर CJI ने ली चुटकी, बोले-तो आप पाकिस्तान में उद्योग बंद कराना चाहते हैं ◾UP Election: अखिलेश का बड़ा बयान- BJP को हटाएगी जनता, प्रियंका के चुनाव में आने से नहीं कोई नुकसान ◾कांग्रेस को किनारे करने में लगी TMC, नकवी बोले-कारण केवल एक, विपक्ष का चौधरी कौन?◾अखिलेश बोले-बंगाल से ममता की तरह सपा UP से करेगी BJP का सफाया◾Winter Session: पांचवें दिन बदली प्रदर्शन की तस्वीर, BJP ने निकाला पैदल मार्च, विपक्ष अलोकतांत्रिक... ◾'Infinity Forum' के उद्घाटन में बोले PM मोदी-डिजिटल बैंक आज एक वास्तविकता◾TOP 5 NEWS 03 दिसंबर : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾विशेषज्ञ का दावा- 'ओमीक्रॉन' वेरिएंट से मरने की आशंका कम, जानें किन अहम कदमों को उठाने की जरूरत ◾SC की फटकार के बाद 17 उड़न दस्तों का हुआ गठन, बारिश के बावजूद 'गंभीर' श्रेणी में बनी है वायु गुणवत्ता ◾Today's Corona Update : देश में मंडरा रहा 'ओमिक्रॉन' वैरिएंट का खतरा, 9216 नए मामलों की हुई पुष्टि ◾

राजनेताओं के दवाब में हुये तबादले कानूनन गलत : उच्च न्यायालय

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने कहा है कि राजनैतिक हस्तियों एवं मंत्रियो के दवाब में सरकारी कर्मचारियों के किये गए स्थानान्तरण कानून के तहत उचित नहीं माने जा सकते। 

न्यायालय ने एक मामले में पूर्व मंत्री के दबाव में दो दिन में एक कर्मचारी का चार बार स्थानान्तरण करने वाले अपर निदेशक परिवार कल्याण का तबादला लखनऊ से फतेहपुर किये जाने के आदेश पर रोक लगा दी है। 

अदालत का मानना है कि स्थानांतरण मामलो में कानून को नजरंदाज नहीं किया जा सकता। यह आदेश न्यायमूर्ति मनीष माथुर की पीठ ने अपर निदेशक परिवार कल्याण डॉक्टर संजय कुमार सहवाल की ओर से अधिवक्ता आलोक मिश्र द्वारा दायर याचिका पर दिए है। 

याची डॉक्टर पर आरोप था कि उन्होंने अपने एक कर्मचारी का स्थानान्तरण दो दिन में चार बार किया था। इस आधार पर याची से कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया था और बाद में याची का तबादला लखनऊ से फतेहपुर कर दिया गया था। 

याचिका दायर कर याची ने अपने तबादले के आदेश को चुनौती उच्च न्यायालय में दी। याची की ओर से कहा गया कि एक पूर्व मंत्री के कहने पर याची ने दबाव में आकर कर्मचारी का तबादला किया था। 

याची ने अदालत में मंत्री का पत्र भी पेश किया। कहा कि याची ने तत्कालीन मंत्री के कहने पर अपने अधीनस्थ कर्मी का स्थानातंरण किया था। इसमे याची का कोई दोष नही है। अदालत ने याची के तबादले पर अंतरिम रोक लगाते हुए अगली सुनवाई 23 जुलाई को निर्धारित की है।