BREAKING NEWS

उत्तर भारत में बर्फबारी के बाद बढ़ी ठंड, दिल्ली में भी हुई बारिश ◾भाजपा नेता विनय कटियार को मिली जान से मारने की धमकी◾नागरिकता विधेयक पर बवाल के बीच गुवाहाटी के पुलिस प्रमुख हटाए गए, अन्य अधिकारियों का भी तबादला ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को राष्ट्रपति की मंजूरी, कानून बना ◾राज्यों की जीएसटी क्षतिपूर्ति के वादे को पूरा करेगा केन्द्र, समयसीमा नहीं बताई - सीतारमण◾ठाकरे ने गृह शिवसेना, वित्त राकांपा और राजस्व कांग्रेस को दिया ◾फिर बढ़े प्याज के दाम, सरकार ने किए 12660 टन आयात के नए सौदे◾असम के हथकरघा मंत्री के आवास पर हमला, तेजपुर, ढेकियाजुली में अनिश्चितकालीन कर्फ्यू◾जब लोकसभा में मुलायम सिंह ने पूछा ... ‘‘सत्ता पक्ष कहां है''◾केंद्रीय संस्कृत विश्वविद्यालय विधेयक को लोकसभा की मंजूरी, निशंक ने सभी भारतीय भाषाओं को सशक्त बनाने पर दिया जोर ◾भारत और अमेरिका के बीच ‘टू प्लस टू’ वार्ता 18 दिसम्बर को वाशिंगटन में होगी : विदेश मंत्रालय◾TOP 20 NEWS 12 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की सभी पुनर्विचार याचिकाएं◾महाराष्ट्र में BJP की कोर समिति की सदस्य नहीं, बावजूद पार्टी नहीं छोड़ूंगी : पंकजा मुंडे◾झारखंड में महागठबंधन की सरकार बनते ही किसानों का ऋण किया जाएगा माफ : राहुल गांधी ◾CAB :बांग्लादेश के विदेश मंत्री ने भारत दौरा किया रद्द ◾झारखंड विधानसभा चुनाव: तीसरे चरण में 17 सीटों पर वोटिंग जारी, दोपहर 1 बजे तक 45.14 प्रतिशत मतदान◾झारखंड : धनबाद में रैली को संबोधित करते हुए बोले PM मोदी-कांग्रेस में सोच और संकल्प की कमी◾असम के लोगों से PM की अपील, कांग्रेस बोली- मोदी जी, वहां इंटरनेट सेवा बंद है◾केंद्र सरकार महात्मा गांधी की 150वीं जयंती पर संविधान की आत्मा छलनी करने वाला बिल लाई : प्रियंका ◾

उत्तर प्रदेश

राजनेताओं के दवाब में हुये तबादले कानूनन गलत : उच्च न्यायालय

 court

इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने कहा है कि राजनैतिक हस्तियों एवं मंत्रियो के दवाब में सरकारी कर्मचारियों के किये गए स्थानान्तरण कानून के तहत उचित नहीं माने जा सकते। 

न्यायालय ने एक मामले में पूर्व मंत्री के दबाव में दो दिन में एक कर्मचारी का चार बार स्थानान्तरण करने वाले अपर निदेशक परिवार कल्याण का तबादला लखनऊ से फतेहपुर किये जाने के आदेश पर रोक लगा दी है। 

अदालत का मानना है कि स्थानांतरण मामलो में कानून को नजरंदाज नहीं किया जा सकता। यह आदेश न्यायमूर्ति मनीष माथुर की पीठ ने अपर निदेशक परिवार कल्याण डॉक्टर संजय कुमार सहवाल की ओर से अधिवक्ता आलोक मिश्र द्वारा दायर याचिका पर दिए है। 

याची डॉक्टर पर आरोप था कि उन्होंने अपने एक कर्मचारी का स्थानान्तरण दो दिन में चार बार किया था। इस आधार पर याची से कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया था और बाद में याची का तबादला लखनऊ से फतेहपुर कर दिया गया था। 

याचिका दायर कर याची ने अपने तबादले के आदेश को चुनौती उच्च न्यायालय में दी। याची की ओर से कहा गया कि एक पूर्व मंत्री के कहने पर याची ने दबाव में आकर कर्मचारी का तबादला किया था। 

याची ने अदालत में मंत्री का पत्र भी पेश किया। कहा कि याची ने तत्कालीन मंत्री के कहने पर अपने अधीनस्थ कर्मी का स्थानातंरण किया था। इसमे याची का कोई दोष नही है। अदालत ने याची के तबादले पर अंतरिम रोक लगाते हुए अगली सुनवाई 23 जुलाई को निर्धारित की है।