BREAKING NEWS

PM मोदी ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से की भेंट ◾ भाजपा के शीर्ष नेताओं ने दिल्ली इकाई के नेताओं के साथ विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा की ◾पुतिन ने मोदी को मई में विजय दिवस समारोह के लिए किया आमंत्रित ◾नगा मुद्दा : मणिपुर के कांग्रेस विधायक सोनिया गांधी और प्रधानमंत्री से मिलने पहुंचे दिल्ली◾महाराष्ट्र : कांग्रेस, राकांपा ने सीएमपी पर बनाई कमेटी, भाजपा भी नाउम्मीद नहीं ◾अमित शाह ने विपक्ष पर ‘‘कोरी राजनीति’’ करने का लगाया आरोप, कहा- किसी दल के पास बहुमत हो तो कर सकता है दावा ◾अयोध्या पर उच्चतम न्यायालय के फैसले को मुख्यमंत्री योगी ने बताया स्वर्णाक्षरों में लिखे जाने वाला ◾पेट में दर्द की शिकायत के बाद मुलायम पीजीआई में भर्ती ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन के लिए शिवसेना और कांग्रेस-NCP के बीच बातचीत जारी◾SC के पैनल ने दिल्ली-NCR में 15 नवंबर तक स्कूल बंद रखने का दिया आदेश◾प्रधानमंत्री मोदी को ब्रिक्स सम्मेलन से आर्थिक, सांस्कृतिक संबंध मजबूत होने की उम्मीद ◾TOP 20 NEWS 11 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾बातचीत सही दिशा में आगे बढ़ रही है : ठाकरे ने कांग्रेस नेताओं से मुलाकात के बाद कहा ◾JNU ने वापस लिया शुल्क बढ़ोतरी का फैसला, आर्थिक रूप से कमजोर छात्रों के लिए योजना की प्रस्तावित ◾सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, RTI के दायरे में आएगा CJI का दफ्तर◾संजय राउत को अस्पताल से मिली छुट्टी, कहा- महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री तो शिवसेना का ही होगा◾कुलभूषण जाधव के लिए पाकिस्तान करेगा अपने आर्मी एक्ट में बदलाव ◾शिवसेना का BJP पर तीखा वार, कहा-सरकार गठन को लेकर जारी गतिरोध का आनंद उठा रही है पार्टी◾कर्नाटक के 17 विधायक अयोग्य, लेकिन लड़ सकते हैं चुनाव : SC◾महाराष्ट्र : राज्यपाल के फैसले को SC में चुनौती देने वाली याचिका का उल्लेख नहीं करेगी शिवसेना◾

उत्तर प्रदेश

RSS अपनी आरक्षण-विरोधी मानसिकता त्याग दे तो बेहतर है : मायावती

बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने सोमवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर हमला करते हुए कहा कि संघ अपनी आरक्षण विरोधी मानसिकता त्याग दे तो बेहतर है। सोमवार को बसपा नेता ने ट्वीट कर कहा, ''आरएसएस का एससी/एसटी/ओबीसी आरक्षण के सम्बंध में यह कहना कि इसपर खुले दिल से बहस होनी चाहिए, संदेह की घातक स्थिति पैदा करता है जिसकी कोई जरूरत नहीं है। आरक्षण मानवतावादी संवैधानिक व्यवस्था है जिससे छेड़छाड़ अनुचित व अन्याय है। संघ अपनी आरक्षण-विरोधी मानसिकता त्याग दे तो बेहतर है।'' 

मायावती का यह बयान संघ प्रमुख मोहन भागवत के रविवार को दिल्ली में दिए गए एक बयान के बाद आया है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को कहा था कि जो आरक्षण के पक्ष में हैं और जो इसके खिलाफ हैं उन लोगों के बीच इस पर सद्भावनापूर्ण माहौल में बातचीत होनी चाहिए। भागवत ने कहा था कि उन्होंने पहले भी आरक्षण पर बात की थी लेकिन इससे बहुत हंगामा मचा और पूरी चर्चा वास्तविक मुद्दे से भटक गई।

भागवत रविवार को ‘ज्ञान उत्सव’ के समापन सत्र में बोल रहे थे जो प्रतियोगी परीक्षाओं पर था। ज्ञान उत्सव का आयोजन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े शिक्षा संस्कृति उत्थान न्यास द्वारा यहां इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) में किया गया था।