BREAKING NEWS

गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾BJP ने जारी की पांचवी सूची, महज एक उम्मीदवार के नाम की हुई घोषणा, UP कोर ग्रुप की बैठक में मंथन जारी ◾राष्ट्रीय बाल पुरस्कार: PM मोदी ने बच्चों से "वोकल फॉर लोकल’’ अभियान को आगे बढ़ाने का किया आग्रह◾गोवा चुनाव: TMC ने उठाए BJP की मंशा पर सवाल, कहा- 'डबल इंजन सरकार' का नारा तानाशाही का संकेत ◾राहुल गांधी ने केंद्र को घेरा, कहा- गरीब और मध्य वर्ग के लोग सरकार की ‘आर्थिक महामारी’ के शिकार हुए◾विधानसभा चुनावः दिल्लीवासियों से केजरीवाल ने चार राज्यों में प्रचार के लिए मांगी मदद ◾MP में नए 'स्टील्थ ओमीक्रॉन' ने दी दस्तक, इंदौर में 21 मामले आए सामने, फेफड़ों पर हो रहा संक्रमण का असर ◾राकेश टिकैत ने हिंदू-मुस्लिम और जिन्ना को बताया सरकारी मेहमान, बोले-सरकार के प्रवचन में नहीं आना◾भगवा खेमे का अभेद्य किला बनी हुई है 'गोरखपुर सीट', अखिलेश ने शिवप्रताप को दिया खुला ऑफर, जानें रणनीति ◾अखिलेश के बयान पर भाजपा ने घेरा, पाकिस्तान को भारत का असली दुश्मन नहीं मानने का लगाया आरोप ◾अल्पसंख्यक समुदाय के साथ की आस में BJP, RSS की मुस्लिम शाखा ने चलाया अभियान, धर्म संसद पर कहा... ◾UP चुनाव: सियासी मझधार में सपा और सहयोगी दलों का गठबंधन, सीट बंटवारे को लेकर कशमकश की स्थिति ◾BJP गठबंधन वाले दलों को हड़पकर उन्हें खत्म कर देती है : नवाब मलिक◾योगी सरकार पर फिर बरसीं मायावती, कहा- भाजपा के शासन में धर्म संबंधी असुरक्षा लगातार बढ़ रही◾गणतंत्र दिवस: समारोह में एंट्री के लिए अहम निर्देशों का करना होगा पालन, जानें सुरक्षा तैयारियों की जानकारी ◾

BSP से जुड़े लोग नहीं होंगे गुमराह, हम सत्ता में आए तो ब्राह्मण समाज की करेंगे रक्षा : मायावती

उत्तर प्रदेश में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) प्रतिशोध के साथ ब्राह्मण कार्ड खेल रही है और बसपा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा का परिवार अभियान में अहम भूमिका निभा रहा है। इस बीच बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने लखनऊ के पार्टी कार्यालय में प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में हिस्सा लिया। कार्यक्रम में सतीश चंद्र मिश्रा भी मौजूद रहे।

इस दौरान मायावती ने कहा कि दलित वर्ग के लोगों पर शुरू से गर्व रहा है कि उन्होंने बिना गुमराह और बहकावे में आए कठिन से कठिन दौर में भी पार्टी का साथ नहीं छोड़ा। ये लोग मज़बूत चट्टान की तरह पार्टी के साथ खड़े रहे हैं। उम्मीद है कि बसपा से जुड़े अन्य सभी वर्गों के लोग इनकी तरह आगे कभी गुमराह नहीं होंगे।

उन्होंने कहा कि ब्राम्हण समाज के लोग भी कहने लगे हैं कि, हमने BJP के प्रलोभन भरे वादों के बहकावे में आकर पूर्ण बहुमत की सरकार बनाकर बहुत बड़ी गलती की है। BSP की रही सरकार ने ब्राम्हण समाज के लोगों के सुरक्षा, सम्मान, तरक्की के मामले में हर स्तर पर अनेको ऐतिहासिक कार्य किए हैं। उन्होंने कहा कि मायावती ने कहा RSS प्रमुख मोहन भागवत ने कहा है कि हिंदू और मुसलमानों के पूर्वज एक हैं तो मैं RSS प्रमुख से पूछना चाहती हूं कि संघ और बीजेपी मुसलमानों के साथ सौतेला व्यवहार क्यों करती है। -हर स्तर पर ब्राह्मण समाज का शोषण होता है।

उन्होंने कहा कि "मुख्यमंत्री के रूप में, मैंने सुनिश्चित किया है कि सभी को उचित सम्मान मिले। बसपा में ब्राह्मणों और अन्य समुदायों के हित सुरक्षित हैं। उन्होंने आगे कहा कि उन्होंने भाजपा जैसे लोगों से कभी झूठे वादे नहीं किए, बल्कि सभी के विकास और कल्याण के लिए काम किया है। महामारी में अपनी पहली सार्वजनिक उपस्थिति में, मायावती ने स्पष्ट किया कि उन्होंने महामारी के दौरान बैठकें नहीं कीं, क्योंकि इससे राज्य सरकार को अपनी पार्टी के सदस्यों को निशाना बनाने का मौका मिलता।

उन्होंने कहा, "प्रबुद्ध सम्मेलनों के लिए भी, राज्य सरकार ने प्रतिभागियों के लिए एक सीमा निर्धारित की थी। अगर संख्या सीमा से अधिक होती तो वे मेरी पार्टी के कार्यकर्ताओं को जेल में डाल देते और इससे चुनाव के लिए पार्टी का प्रचार प्रभावित होता है।" उन्होंने कहा कि बसपा द्वारा प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन शुरू करने के बाद अन्य दलों ने भी इसका अनुसरण किया।

उन्होंने आगे कहा, "लेकिन 'प्रबुद्ध वर्ग' इतना बुद्धिमान है कि यह जान सकते हैं कि उनके हित कहां सुरक्षित हैं।" मायावती ने अपनी पार्टी के नेताओं से राज्य के प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में कम से कम 1,000 ब्राह्मणों को नामांकित करने के लिए भी कहा है।

बरादर को नहीं मिलेगी अफगानिस्तान की कमान, नए प्रमुख हो सकते हैं मुल्ला हसन अखुंद