BREAKING NEWS

अखिलेश के राज में बिजली ही नहीं आती थी, आज वो फ्री बिजली देने की बात कर रहे हैंः सीएम योगी ◾नेताजी जयंती : PM मोदी ने किया सुभाष चंद्र बोस की होलोग्राम प्रतिमा का अनावरण, सम्मान में कही ये बात ◾दिल्ली : बीते 24 घंटों में आए कोरोना के 9 हजार से अधिक मामलें, इतने मरीजों की हुई मौत ◾पीएम की सुरक्षा चूक को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर ◾ 10 मार्च को अखिलेश यादव कहेंगे- ईवीएम बेवफा है: अनुराग ठाकुर◾SC एवं ST की बदौलत हम न सिर्फ चुनाव जीतेंगे बल्कि यूपी में सरकार भी बनायेंगेः चंद्रशेखर ◾ उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू हुए दूसरी बार कोरोना संक्रमित, खुद को किया आइसोलेट◾UP: एक और विधायक ने छोड़ा BJP का साथ, बताई यह वजह..., जानें अब तक किन नेताओं ने दिया इस्तीफा ◾नकवी ने मोदी और योगी को बताया 'एम-वाई' फैक्टर, कहा- 3B 'बलवाई, बाहुबली, बेईमानी’ का 'ब्रदरहुड' बेचैन ◾ भाजपा के सहयोगी अपना दल सोनेलाल ने किया मुस्लिम उम्मीदवार का एलान,आजम खान के बेटे के खिलाफ ठोकेंगे ताल◾दिल्ली : गणतंत्र दिवस से पहले दिल्ली में तैनात हुए 27 हजार से अधिक जवान, कमिश्नर ने दी जानकारी ◾हिंदुओं को जलसे की इजाजत दी तो..विवादित बोल पर बवाल, सिद्धू के सलाहकार मुस्तफा ने धर्म विशेष के खिलाफ उगला जहर ◾बेरोजगारी पर राहुल ने किया केंद्र का घेराव, कहा- सरकार कर रही पूंजीपतियों का विकास, सिर्फ ‘हमारे दो’... ◾PLC ने 22 उम्मीदवारों की पहली सूची की जारी, इस शहर से चुनाव लड़ेंगे कैप्टन अमरिंदर सिंह◾अपर्णा यादव ने बांधे BJP की तारीफों के पुल, कहा- राष्ट्र को बचाने के लिए पार्टी की सत्ता में वापसी बहुत जरूरी ◾BJP में शामिल हुई अदिति सिंह ने प्रियंका को दी चुनाव लड़ने की चुनौती, कहा- रायबरेली अब कांग्रेस का गढ़ नहीं ◾SP ने जारी की पहली स्टार प्रचारकों की लिस्ट, मुलायम और अखिलेश समेत मौर्य का भी नाम, जानें पूरी सूची ◾अरविंद केजरीवाल का केंद्र पर बड़ा आरोप, बोले- सत्येंद्र जैन को गिरफ्तार कर सकती है ED◾चीनी PLA ने अरुणाचल से 'लापता' लड़के का लगाया पता, भारतीय सेना को किया सूचित, जानें क्या कहा?◾UP: केशव प्रसाद मौर्य ने विरोधियों पर बोला हमला, कहा- 10 मार्च को सपा, बसपा और कांग्रेस का होगा सूपड़ा साफ◾

कृषि कानून का रोड़ा हटाकर मोदी ने खेला "मास्टर स्ट्रोक", विधानसभा चुनाव के लिए विपक्ष को तालशने होंगे नए मुद्दे

उत्तर प्रदेश में आगामीं विधानसभा चुनाव से पहले तीन नए कृषि कानून का रोड़ा हटाकर प्रधानमंत्री मोदी ने भाजपा के लिए मास्टर स्ट्रोक खेला है। भाजपा को उम्मीद है इस फैसले से उसे जाटों और किसानों के बीच अपनी बात रखने में कामयाबी मिल सकती है। कानून वापसी से बिगड़ा हुआ नजरिया बदलेगा और विपक्ष को भी नए मुद्दे तलाशने होंगे। अगले साल 5 राज्यों में चुनाव है ऐसे में यह मुद्दा भाजपा के लिए सिरदर्द बना था। खासकर यूपी, पंजाब और उत्तराखंड में इसका असर भी देखने को मिल रहा था। लेकिन कानून वापसी के बाद अब सियासी रूख मुड़ने की संभावना है। 

कृषि कानूनों की वापसी के दांव से सब बातों पर लग गया विराम 

पश्चिमी यूपी में अगर जातिगत आंकड़ों पर नजर डालें तो यहां पर एक दर्जन जिलों में करीब 20 प्रतिशत जाट है। 25 से अधिक सीटों पर मुस्लिम-जाट वोटरों की संख्या 50 फीसद से अधिक है। पश्चिमी यूपी में भाजपा को 2017 में 136 में 102 सीटों पर विजय मिली थी। लेकिन इस बार आंदोलन के कारण भाजपा को लोग घेर रहे थे। भाजपा के नेताओं को विरोध का सामना करना पड़ रहा था। राज्यपाल सत्यपाल मालिक मंचों से खुलेआम किसान आंदोल का समर्थन कर रहे थे। कृषि कानूनों की वापसी के दांव से सब बातों पर विराम लग गया। अब भाजपा के लिए खुला मैदान जितना चाहे बैंटिंग करे, कोई दिक्कत नहीं होगी।

UP विधानसभा चुनाव पर पड़ेगा गहरा असर 

भाजपा के एक वरिष्ठ नेता ने बताया कि यूपी में होंने वाले विधानसभा चुनाव में इसका असर पड़ने की काफी संभावना थी। इस फैसले से आंदोलन की धार कुंद हो गयी है। किसानों की भी नाराजगी दूर होगी। आंदोलन के चलते कई बार हमारे नेताओं को विरोध का सामना करना पड़ा है। कई जगह तो मार-पीट होते होते बची है। वर्षों से संजोया हुआ जाट वोट बैंक भी खिसकने का अंदेशा था। हमारे मातृ संगठन ने भी कुछ एतराज जताया था। इन्हीं सब मुद्दों को शीर्ष नेतृत्व भांप रहा था और प्रधानमंत्री ने बड़ा अच्छा फैसला लिया है। किसान आंदोलन और जाटों की नाराजगी ने राष्ट्रीय लोकदल को काफी बल दिया है। 

मोदी के मास्टर स्ट्रोक ने उड़ाए विपक्ष के छक्के 

सपा भी इससे गठबंधन करके सत्ता की सीढ़ी चढ़ने की सपने देखेने लगी थी। इस मास्टर स्ट्रोक के बाद विपक्ष जो इसे घूम-घूम कर मुद्दा बना रहा था। वह जड़ से खत्म हो गया है। उसे नई रणनीति तैयार करनी पड़ेगी। क्योंकि हमारी सरकार द्वारा चल रही किसान निधि सम्मान योजना या अन्य कई योजनाएं जो किसानों की दषा बदलने में बड़ी सहायक हो रही है। उनका फायदा मिलेगा। अभी तक जो पष्चिम क्षेत्रों के ग्रामीण आंचल में हम लोग खुलकर योजनाएं नहीं बता पा रहे थे। उसमें भी आसानी होगी। कुल मिलाकर इससे बड़ा संदेश गया है।

सरकार को किसान विरोधी घोषित करने में लगा था विपक्ष 

वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषक राजेन्द्र सिंह कहते हैं कि तीन नए कृषि कानून वापस लेने कुछ देरी हुई है। आंदोलन के कारण भाजपा नेताओं का पष्चिमी यूपी में ज्यादातर जगहों पर विरोध था। लेकिन कानून वापस लेने से यह लोग ग्रामीणों के बीच अपनी बात समझा लेंगे। इससे पहले भाजपाइयों का बॉयकाट हो रहा था। सरकार को किसान विरोधी घोषित करने में लगे थे। यह धारणा टूटेगी। भाजपा के लोग अपनी बात आसानी से समझा लेंगे। कानूनी वापसी के चलते उन्हें विरोध भी नहीं झेलना पड़ेगा। अब सरकार किसानों को एजेंडे को लेकर आगे बढ़ेगी ऐसी संभावना है।

किसान बिल वापस होंने से जाट सामुदाय पर होगा असर 

एक अन्य विश्लेषक राजीव श्रीवास्तव कहते हैं कि पश्चिमी यूपी की राजनीति में किसान बिल वापस होंने से फर्क पड़ेगा। इस बिल के विरोध में जो नेतृत्व था नरेश टिकैत और राकेश टिकैत यह लोग पश्चिमी यूपी से आते है। यह नेता जाट सामुदाय से आते हैं। इस क्षेत्र में जाटों को खासा प्रभाव है। जिसके चलते भाजपा एक संशय की स्थित में थी। उसे लगता था कि जाट अगर दूर हुए तो परेशानी होगी। विपक्ष जाट सामुदाय को भाजपा से दूर करने में सफल हो रहा था। 

इस बिल वापसी से कन्फ्यूजन में जो जाट था उसे निर्णय लेने में आसानी होगी। रालोद को रणनीति बदलनी पड़ेगी। अब तक वह किसान बिल के विरोध के बहाने जाटों को एकजुट कर रहे थे। चौधरी अजीत सिंह के अनुपस्थित में जयंत का यह पहला चुनाव है। इसलिए उन्हें अपने को साबित करना है। पार्टी को बचाना है। अब जाट राजनीति के लिए रालोद को नए सिरे से बढ़ना होगा।