BREAKING NEWS

कोरोना वायरस के 6.87 लाख मामलों के साथ रूस को पीछे छोड़ भारत तीसरे स्थान पर पहुंचा ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कोहराम जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख के पार, बीते 24 घंटे में 6,555 नए केस◾खालिस्तानी समर्थक संगठन SFJ पर सरकार की बड़ी कार्रवाई, 40 वेबसाइट्स पर लगाया प्रतिबंध◾घाटे के चलते आने वाले दिनों में टेलीकॉम कंपनियां बढ़ा सकती है फ़ोन कॉल और इंटरनेट के रेट ◾तमिलनाडु में कोरोना वायरस के 4,150 नये मामले आये सामने , मृतकों की संख्या 1,510 पहुंची ◾राजधानी दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 2,244 नए केस, संक्रमितों का आंकड़ा 99 हजार के पार◾गुजरात के कच्छ जिले में 4.2 तीव्रता का भूकंप आया, वहीं 4.6 तीव्रता के झटकों से फिर थर्राया मिजोरम ◾गाजियाबाद की अवैध पटाखा फैक्ट्री में धमाके से 7 की मौत, कई लोग घायल◾कानपुर एनकाउंटर : शक के दायरे में चौबेपुर थाना, IG बोले-सबूत मिले तो पुलिसवालों पर दर्ज होगा हत्या का केस◾TMC नेता कल्याण बनर्जी का विवादित बयान, वित्तमंत्री सीतारमण को बताया 'काली नागिन'◾राहुल गांधी का केंद्र पर तंज, कहा-सूर्य, चंद्रमा और सत्य ज्यादा देर छिप नहीं सकते◾रक्षा मंत्री राजनाथ के साथ अमित शाह ने सरदार पटेल कोविड-19 केयर सेंटर का किया दौरा ◾कानपुर घटनाक्रम के लिए ओवैसी ने CM योगी की 'ठोक देंगे' पॉलिसी को बताया जिम्मेदार◾देश में 24 घंटों के दौरान 25 हजार से अधिक कोरोना मामलों की पुष्टि,मरीजों की संख्या 6 लाख 73 हजार के पार ◾कानपुर : 8 पुलिसकर्मियों को जान से मारने वाले आरोपी विकास दुबे का साथी दयाशंकर गिरफ्तार◾कोरोना रिकवरी रेट बढ़ने पर बोले CM केजरीवाल- 2 करोड़ लोगों की मेहनत रंग ला रही◾J&K : पुलवामा में आतंकियों ने CRPF के काफिले को IED ब्लास्ट के जरिये बनाया निशाना,एक जवान घायल◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का प्रकोप जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 11 लाख के पार ◾दिल्ली में रातभर चली तेज हवाओं और बारिश ने दिलाई गर्मी से राहत, मौसम हुआ सुहाना ◾ पूर्वी लद्दाख गतिरोध : चीन से लगी सीमा पर प्रमुख केंद्रों पर तैनाती बढ़ा रही है वायु सेना ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

यमुना एक्सप्रेसवे पर एक साल में 250 से ज्यादा की मौत, ड्राइवरों का होगा ब्रीद एनालाइजर टेस्ट

लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे और यमुना एक्सप्रेसवे के निर्माण का मकसद सफर के वक्त को कम करना था, लेकिन तेज रफ्तार, लापरवाही और टायर फटने जैसी घटनाओं के कारण यह लोगों की जिंदगी के सफर को खत्म कर रहे हैं। एक्सप्रेसवे पर हादसों में बीते वित्त वर्ष ढाई सौ से ज्यादा लोगों को अपनी जान गंवानी पडी।

दुर्घटनाओं को कम करने के उपायों के तहत लंबी दूरी की बसों में दो ड्राइवर रखने तथा ड्राइवरों का ब्रीद एनालाइजर टेस्ट कराने का फैसला किया गया है। उत्तर प्रदेश सरकार के आंकडों के अनुसार पिछले वित्त वर्ष में लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर 123 दुर्घटनाएं हुईं, जिनमें 130 लोगों की जान गयी जबकि लगभग 250 लोग घायल हुए । इसी अवधि में यमुना एक्सप्रेसवे पर 162 दुर्घटनाएं हुईं, जिनमें 145 लोगों को जान गंवानी पडी जबकि लगभग 200 लोग घायल हुए। 

प्रदेश के औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने बताया, ''पिछले दिनों एक्सप्रेसवे पर हुए बस हादसे के बाद हुई समीक्षा में पाया गया कि वाहनों की रफ्तार, रात में ड्राइवरों को नींद आना ओर टायर फटना हादसों की प्रमुख वजह है ।'' उल्लेखनीय है कि यमुना एक्सप्रेसवे पर आठ जुलाई को उत्तर प्रदेश राज्य सडक परिवहन निगम :यूपीएसआरटीसी: की जनरथ बस की दुर्घटना में 29 लोगों की जान गयी थी। इसी संदर्भ में यमुना एक्सप्रेसवे पर होने वाले हादसों को लेकर बीएसपी विधायक सुकदेव राजभर ने दो दिन पूर्व विधानसभा में सवाल उठाया था। 

सरकारी आंकडे बताते हैं कि चालू वित्त वर्ष  (2019 -20 ) में अब तक लखनऊ-आगरा एक्सप्रेसवे पर लगभग 54 दुर्घटनाएं हुई, जिनमें 65 से अधिक लोगों की मौत हो गयी जबकि यमुना एक्सप्रेसवे पर भी 54 दुर्घटनाएं हुईं, जिनमें 75 से अधिक लोगों की जान गयी । राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि यमुना एक्सप्रेसवे दुर्घटना के बाद सुधारात्मक उपाय सुझाने के लिए बनी समिति की सिफारिशों को स्वीकार कर लिया गया है।

 समिति ने लंबी दूरी पर चलने वाले ड्राइवरों का 'ब्रीद एनालाइजर' टेस्ट कराने की सिफारिश की है । ब्रीद एनालाइजर खून में एल्कोहल की मात्रा का पता लगाने वाला उपकरण है। संसदीय कार्य मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने विधानसभा में कहा कि समिति की उक्त सिफारिश को सरकार ने मान लिया है। सोलह महीने में हुए हादसों को देखें तो इनमें यूपी रोडवेज की बसों के कारण हुई दुर्घटनाओं में 49 लोगों की जान गयी। महाना ने कहा, ''परिवहन विभाग को निर्देश दिये गये हैं कि 300 किलोमीटर से अधिक दूरी तय करने वाली बसों में दो ड्राइवर भेजने की व्यवस्था की जाए। 

सौ किलोमीटर की दूरी तय होने के बाद ड्राइवर के लिए आधे घंटे का आराम सुनिश्चित किया जाए।'' उन्होंने कहा कि एक्सप्रेसवे पर ब्रेकर लगाने का नियम नहीं है लेकिन सडक दुर्घटनाएं रोकने के लिए हर 15 किलोमीटर पर 'रंबल स्ट्रिप' लगाने का काम शुरू कर दिया गया है। महाना ने कहा कि नशे में गाडी चलाने वालों के लाइसेंस निरस्त कर दिये जाएंगे। इस बीच परिवहन निगम के एक अधिकारी ने बताया कि सरकार द्वारा संचालित 286 बस स्टेशनों पर ब्रीद एनालाइजर लगाने की प्रक्रिया शुरू हो गयी है। 

उन्होंने बताया कि कि अगर कोई ड्राइवर चेकिंग के दौरान नशे में पाया गया तो उसे तत्काल निलंबित कर दिया जाएगा जबकि संविदा ड्राइवर की सेवा वहीं मौके पर समाप्त कर दी जाएगी । महाना ने बताया कि एक्सप्रेसवे के साथ अन्य मार्गों पर अधिकतम रफ्तार सौ किलोमीटर प्रति घंटा तय की गयी है । इसका उल्लंघन करने पर चालान किया जाएगा। रास्ते में गति मापने वाले कैमरे लगाये गये हैं। राज्य सरकार ने दुर्घटना के आंकडे विधानसभा में भी पेश किये हैं और दुर्घटनाओं को रोकने के लिए किये जा रहे प्रयासों के बारे में भी जानकारी दी है ।