BREAKING NEWS

CBI रेड को लेकर मांझी ने तेजस्वी पर साधा निशाना, बहन रोहिणी ने हम प्रमुख को बताया 'बिन पेंदी का लोटा'◾पेगासस मामले में SC द्वारा नियुक्त पैनल जून तक सौंपेगा रिपोर्ट, पूरी हो चुकी है 29 फोनों की जांच ◾विवादों में घिरे राज ठाकरे ने रद्द किया अयोध्या दौरा, BJP सांसद बृजभूषण ने दी थी मनसे प्रमुख को चेतावनी! ◾सिद्धू को जाना होगा जेल, सरेंडर से राहत वाली मांग पर SC ने तत्काल सुनवाई से किया इनकार ◾विजय पताका के बावजूद आज हम अधीर और बेचैन, क्योंकि..., जयपुर में BJP कार्यकर्ताओं से बोले मोदी◾World Corona : 52.39 करोड़ हुए कोविड के मामले, 11.43 अरब लोगों का हो चुका है टीकाकरण ◾बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब ने ज्ञानवापी पर दी प्रतिक्रिया, बोले- मुसलमानों ने किया आंदोलन तो...◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,259 नए केस, 191.96 करोड़ दी जा चुकी है वैक्सीन ◾पिता के खिलाफ CBI की कार्रवाई से भड़कीं लालू की बेटी, जांच एजेंसी को बताया 'बेशर्म तोता'◾भर्ती घोटाला मामले में लालू यादव की बढ़ी मुश्किलें, बिहार से लेकर दिल्ली तक CBI ने 17 ठिकानों पर मारी रेड ◾MP : दलित युवक की बारात पर किया था पथराव, अब शिवराज सरकार ने घर पर चलाया बुलडोजर ◾सामना में शिवसेना का तंज, चीन द्वारा कब्जाई जमीन पर भगवान शिव, ताज महल में ढूंढ रहे हैं भक्त ◾ज्ञानवापी : जुमे की नमाज में कम से कम शामिल हों लोग, मस्जिद कमेटी की अपील◾J&K : जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर सुरंग का एक हिस्सा गिरा, 10 फंसे, जारी है रेस्क्यू ऑपरेशन ◾UP : 27 महीने बाद जेल से बाहर आए आजम खान, अखिलेश यादव ने Tweet कर किया स्वागत◾कृष्ण जन्मभूमि मामला : Court मस्जिद हटाने का अनुरोध करने वाली याचिका पर करेगी विचार ◾आज का राशिफल ( 20 मई 2022) ◾RCB vs GT ( IPL 2022 ) : कोहली के बल्ले से निकली आरसीबी की जीत और प्लेऑफ की उम्मीद◾पंजाब में कांग्रेस को पड़ी दोहरी मार : सिद्धू को एक साल की सजा, जाखड़ ने थामा भाजपा का दामन◾भारतीय मुक्केबाज निकहत जरीन बनीं विश्व चैंपियन , PM मोदी ने दी बधाई ◾

बाहरी नेताओं के SP में शामिल होने से कोई मनमुटाव नहीं, नंदा का दावा- कुशल रणनीति से शांत हुआ असंतोष

उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव से पहले सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सहित अन्य दलों से समाजवादी पार्टी (सपा) में शामिल हुए नेताओं के कारण पार्टी के पुराने नेताओं में पनपने वाले संभावित असंतोष को शांत करने की पार्टी नेतृत्व ने पहले ही तैयारी कर ली थी। विधानसभा चुनाव के लिए सपा के मुख्य रणनीतिकार और पूर्व राज्य सभा सांसद किरणमय नंदा ने रविवार को बताया कि भाजपा के विधायकों में पिछले कुछ महीनों में भारी पैमाने पर असंतोष उपजा था।

UP चुनाव में SP के पक्ष में बन रहा सकारात्मक माहौल 

उन्होंने बताया कि प्रदेश में सपा के पक्ष में बन रहे सकारात्मक माहौल को भांप कर भाजपा सहित अन्य दलों के असंतुष्ट नेता पहले से ही सपा नेतृत्व के संपर्क में थे। नंदा ने कहा कि बाहरी नेताओं को पार्टी में शामिल करने से सपा के समर्पित नेताओं में, जो खुद चुनाव लड़ने की तैयारी में जुटे थे, असंतोष उपजना लाजिमी भी है। नंदा ने बताया कि पिछले कुछ महीनों में उन्होंने लगभग 150 विधान सभा क्षेत्रों का दौरा कर पार्टी के जमीनी नेताओं से इस संभावित असंतोष के बारे में पहले ही विचार मंथन कर लिया था।

पार्टी के पुराने नेताओं में नहीं है असंतोष की भावना

गौरतलब है कि इस सप्ताह पूर्व मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य की अगुवाई में एक-एक कर भाजपा और अपना दल (एस) के तमाम विधायकों ने सपा का दामन थाम लिया। पिछले दो महीनों में सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, भाजपा सहित अन्य दलों के लगभग 2 दर्जन मौजूदा एवं पूर्व विधायकों को पार्टी में शामिल करा चुके हैं। सपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष नंदा ने कहा कि इस खास अभियान को सफल बनाने की तैयारी पहले ही कर ली गयी थी। इस अभियान का मूल मकसद पार्टी में अंदरूनी असंतोष उपजने के रोकना एवं अन्य दलों से आये नेताओं को भी उनके हक के मुताबिक सीटें देकर संतुष्ट करना है।

जनता चाहती है भाजपा सरकार से छुटकारा 

उन्होंने पूरे अभियान को सफल बताते हुये कहा कि पार्टी में शामिल होने की संभावना वाले नेताओं के क्षेत्र में उन्होंने खुद जाकर सपा नेताओं की नब्ज टटोल कर अंदाजा लगा लिया था कि हर तरफ लोग भाजपा सरकार से छुटकारा पाना चाहते हैं। नंदा ने कहा कि सपा नेताओं ने पहले ही कह दिया था कि उनकी प्राथमिकता भाजपा को चुनाव में परास्त करना है, इसके लिये अगर दूसरे दलों से आने वाले नेताओं को अगर उनकी जगह टिकट देना पड़ा तो वे उन्हें भी जिताने का काम करेंगे।

असंतोष को पार्टी नेतृत्व की कुशल रणनीति से किया गया शांत 

उन्होंने कहा कि इस प्रकार से सपा में पनपने वाले संभावित असंतोष को पार्टी नेतृत्व की कुशल रणनीति के बलबूते पहले ही शांत कर लिया गया। नंदा ने कहा कि इसी का नतीजा है कि इतने बड़ पैमाने पर पूर्व मंत्रियों और विधायकों को सपा में शामिल करने के बावजूद पार्टी में विरोध का कहीं से कोई स्वर नहीं उठा।