BREAKING NEWS

सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर PM मोदी ने लोगों से किया अनुरोध, बोले- सशस्त्र बल के कल्याण के लिए योगदान दें◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के विरोध में BJP मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के बाद विधानसभा के बाहर धरने पर बैठे अखिलेश यादव, कहा- वो जिंदा रहना चाहती थी◾उन्नाव पीड़िता की मौत पर बोली स्वाति मालीवाल- सरकार बलात्कार पीड़िताओं के प्रति असंवेदनशील ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत पर बोली प्रियंका गांधी- यह हम सबकी नाकामयाबी है हम उसे न्याय नहीं दिला पाए◾उन्नाव रेप केस: बुजुर्ग पिता की गुहार, बेटी के गुनहगारों को मिले मौत की सजा◾उन्नाव रेप पीड़िता की दर्दनाक मौत अति-कष्टदायक : मायावती◾सीएम बनने के बाद PM मोदी से पहली बार मिले उद्धव ठाकरे, सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए मुम्बई रवाना हुए मोदी ◾झारखंड विधानसभा चुनाव : सिल्ली में जीत का 'चौका' लगा पाएंगे सुदेश महतो?◾झारखंड: विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के लिए 20 सीटों पर मतदान जारी, PM मोदी ने की लोगों से वोट डालने की अपील ◾जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव रेप पीड़िता, सफदरजंग अस्पताल में हुई मौत◾महिलायें अपने हाथ में लें देश की बागडोर : प्रियंका गांधी वाड्रा◾हैदराबाद मुठभेड़ मामले में पुलिस ने आत्मरक्षा में गोली चलाई : येदियुरप्पा◾प्रियंका गांधी वाड्रा ने ताबड़तोड़ बैठकें कर जनमुद्दों पर सरकार को जगाने की रणनीति पर चर्चा की ◾TOP 20 NEWS 6 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भाजपा महाराष्ट्र में सरकार नहीं बना पाई, झारखंड में भी हारेगी : पी. चिदंबरम ◾हैदराबाद गैंगरेप : एनकाउंटर पर बोले पुलिस कमिश्नर-आरोपियों ने पिस्टल छीनकर की थी फायरिंग, 2 पुलिसकर्मी भी हुए घायल◾झारखंड में बोले चिदंबरम- नाकाबिल लोगों के हाथ में होने से भारी संकट में है भारत की अर्थव्यवस्था◾राष्ट्रपति को भेजी गई निर्भया गैंगरेप के दोषी की दया याचिका, गृह मंत्रालय ने की खारिज करने की मांग◾अधीर रंजन के बयान पर स्मृति का पलटवार, लोकसभा में बोलीं-रेप को राजनीतिक हथियार बनने वाले दे रहे भाषण ◾

उत्तर प्रदेश

वरिष्ठ कांग्रेस नेताओं को नोटिस भेजा जा चुका है, जवाब का है इंतजार : लल्लू कुमार सिंह

 ajay kumar lallu

उप्र कांग्रेस अध्यक्ष ने शुक्रवार को कहा कि अनुशासनहीनता के चलते वरिष्ठ नेताओं को नोटिस भेजा जा चुका है और उनके जवाब का इंतजार किया जा रहा है। उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने गुरुवार को पार्टी के 11 वरिष्ठ नेताओं को अनुशासनहीनता के चलते नोटिस जारी कर 24 घंटे में स्पष्टीकरण मांगा। 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष लल्लू कुमार सिंह द्वारा डेंगू बीमारी पर आयोजित संवाददाता सम्मेलन के बाद पत्रकारों ने वरिष्ठ नेताओं को भेजे गये नोटिस पर सवाल पूछे। इस पर उन्होंने कहा कि अभी उन्हें नोटिस भेजा गया है, जवाब का इंतजार किया जा रहा है। 

मुंबई में शिवसेना ने मारी बाजी, किशोरी पेडनेकर बीएमसी की नई मेयर चुनीं गईं  

जवाब के क्रम में अभी कोई सूचना प्राप्त नही हुई है क्योंकि अभी समय है, समय बीतने के बाद नोटिस का जवाब नही आता है तब देखा जायेगा। उनसे पूछा गया कि इससे पहले कांग्रेस की रायबरेली सदर की विधायक अदिति सिंह को भी अनुशासनहीनता का एक नोटिस भेजा गया था, उसका क्या हुआ। इस पर उन्होंने कहा ''विधायक अदिति सिंह को नोटिस भेजा गया था। अब इसका क्या जवाब आया है वह उन्हें मालूम नही है। इस बारे में वह कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता अराधना मिश्रा से पता करेंगे तब कोई जानकारी दे पायेंगे।’’ 

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष लल्लू से पूछा गया कि क्या उनके अध्यक्ष पद संभालते ही पार्टी के वरिष्ठ नेता बगावती तेवर अपना रहे है, इस पर उन्होंने इस मामले को टालते हुये कहा कि ''यह प्रेस कांफ्रेस डेंगू को लेकर आयोजित की गयी है ।'' पार्टी की ओर से गुरूवार को जारी विज्ञप्ति में कहा गया, अनुशासन समिति के सदस्य अजय राय, पूर्व विधायक द्वारा उत्तर प्रदेश की प्रभारी राष्ट्रीय महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी व प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के निर्देश पर विगत दिनों में अनुशासनहीनता करने पर नोटिस जारी कर चौबीस घण्टे में स्पष्टीकरण प्रस्तुत करने हेतु जवाब मांगा गया है। 

विज्ञप्ति में कहा गया था कि संतोष सिंह पूर्व सांसद, सिराज मेंहदी पूर्व विधान पार्षद, रामकृष्ण द्विवेदी पूर्व गृहमंत्री, सत्य देव त्रिपाठी पूर्व मंत्री, राजेन्द्र सिंह सोलंकी सदस्य एआईसीसी, भूधर नारायण मिश्र पूर्व विधायक, हाफिज मोहम्मद उमर पूर्व विधायक, विनोद चैधरी पूर्व विधायक, नेक चन्द्र पाण्डेय पूर्व विधायक, स्वयं प्रकाश गोस्वामी पूर्व अध्यक्ष युवा कांग्रेस, संजीव सिंह पूर्व जिलाध्यक्ष गोरखपुर को नोटिस जारी किया गया है। 

नेताओं को भेजे नोटिस में कहा गया था कि अनुशासन समिति के संज्ञान में अखबारों के जरिए आया है कि आप अनावश्यक रूप से लगातार यूपीसीसी से जुड़े अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के फैसलों का सार्वजनिक बैठकें कर विरोध करते आए हैं। इसमें कहा गया कि इन बैठकों और मीडिया बयानों से कांग्रेस की छवि धूमिल हुई है। आप जैसे वरिष्ठ नेताओं से यह उम्मीद नहीं थी। आपका बर्ताव पार्टी की नीतियों और विचारों के खिलाफ है। नोटिस में कहा गया था कि ये बर्ताव अनुशासनहीनता के दायरे में आता है। आप 24 घंटे में स्पष्ट करें कि आपके खिलाफ क्यों न अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाए ।