BREAKING NEWS

नए कोविड दिशा-निर्देश: सभी जरूरी इंतजाम समय पर किए जाएंगे: दिल्ली हवाई अड्डा◾भारत में‘ओमीक्रोन’ का एक भी मामला नहीं, दक्षिण अफ्रीका से आये एक व्यक्ति में डेल्टा से अलग वायरस प्रतीत ◾किसानों को फसल बुवाई के लिए पर्याप्त बिजली आपूर्ति सुनिश्चित की जाए : मुख्यमंत्री ◾केजरीवाल जी दिल्लीवासियों तक आयुष्मान भारत योजना नहीं पहुंचने दे रहे हैंः BJP राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा◾1 दिसंबर को सिंघु बॉर्डर पर किसान संगठनों की बैठक, क्या आंदोलन खत्म करने पर होगी चर्चा ?◾कोविड अनुकंपा राशि के कम दावों पर SC ने जताई चिंता, कहा- मुआवजे के लिए प्रक्रिया को सरल बनाया जाए◾जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾

ओवैसी के पोस्टर से भड़के अयोध्या के संत, रैली को रोकने की दी धमकी

अयोध्या में साधु संत 7 सितंबर को होने वाली एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी की अयोध्या यात्रा के खिलाफ हैं, क्योंकि उनकी पार्टी के पोस्टर में अयोध्या के बजाय 'फैजाबाद' का इस्तेमाल किया गया है। योगी आदित्यनाथ सरकार ने 2018 में फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया था।

संतों ने अयोध्या में उनके प्रवेश पर रोक लगाने की धमकी देते हुए कहा कि ये हरकत जानबूझकर और धार्मिक आधार पर लोगों का ध्रुवीकरण करने के लिए की गई थी। वहीं अगर फैजाबाद को पोस्टरों से नहीं हटाया गया तो संतों ने 'शोषित वंचित समाज सम्मेलन' के तत्वावधान में हो रही उनकी रैली को रोकने की धमकी भी दी है।

ओवैसी 7 सितंबर को राम जन्मभूमि से लगभग 40 किलोमीटर दूर मुस्लिम बहुल निर्वाचन क्षेत्र रुदौली में एक जनसभा को संबोधित करने वाले हैं। हनुमान गढ़ी के महंत राजू दास ने कहा कि ओवैसी अयोध्या का नाम फैजाबाद क्यों लिख रहे हैं? हम उनकी सांप्रदायिक विचारधारा की निंदा करते हैं और पोस्टर हटाने की मांग करते हैं।

तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने कहा कि ओवैसी का हिंदू विरोधी कदम भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का अपमान है। अगर फैजाबाद नाम के पोस्टर नहीं हटाए गए तो अयोध्या में ओवैसी का प्रवेश वर्जित होगा और रुदौली में जनसभा बाधित होगी।

अयोध्या केस से जुड़े सबसे पुराने शख्स इकबाल अंसारी ने भी, अयोध्या में ओवैसी के राजनीतिक प्रवेश की निंदा की है। उन्होंने कहा कि मुसलमानों को ओवैसी से सावधान रहना चाहिए। वे उत्तर प्रदेश के लाखों मुसलमानों की भावनाओं से न खेलें। मैं लोगों से उनकी ध्रुवीकरण की रणनीति से प्रभावित न होने की अपील करता हूं।

इस बीच, एआईएमआईएम के जिलाध्यक्ष शाहनवाज सिद्दीकी ने कहा कि हमें फैजाबाद को इसके पुराने नाम से बुलाने की आदत है। नए नाम को याद रखने में समय लगता है। यह एक मामूली मुद्दा है और इसे अनुपात से बाहर नहीं किया जाना चाहिए।