BREAKING NEWS

अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबुल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾ अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबूल के स्कूल में फिदायीन हमला ◾पंजाब : कांग्रेस ने भगवंत मान पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप, पूछा- क्या हुआ उन उपदेशों का ?◾CDS जनरल चौहान ने कार्यभार संभालने के बाद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से की मुलाकात ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव में नामांकन कर सबको चौंकाने वाले केएन त्रिपाठी कौन ? चुनाव को लेकर कितने गंभीर ◾इलाहाबाद HC ने मुख्यमंत्री योगी द्वारा दिए गए राजस्थान में आपत्तिजनक भाषण पर दायर याचिका को खारिज किया ◾खड़गे vs थरूर! कांग्रेस अध्यक्ष पद को लेकर बोले मल्लिकार्जुन- मुझे पूरा विश्वास... मैं ही जीतूंगा◾कांग्रेस मुख्यालय में पहुंचे गहलोत, सचिन पायलट के समर्थकों ने की नारेबाजी◾Ankita Murder Case : अंकिता हत्याकांड में विशेष जांच दल को हाथ लगा बड़ा सबूत, SIT को मिला मोबाइल ?◾प्रमोद तिवारी का भाजपा पर तंज, कहा- अपनी आंख खोलो और देखो कांग्रेस में चुनाव होता है आपके यहां नहीं ◾हाथ पर हाथ धरी रह गई सपा, दफ्तर पर चल गया सरकार का बुल्डोजर◾गुजरात में बोले PM मोदी-21वीं सदी के भारत को देश के शहरों से मिलने वाली नई गति◾कौन होगा कांग्रेस का अध्यक्ष? गहलोत बोले- हम मल्लिकार्जुन खड़गे के साथ खड़े, वह एक अनुभवी नेता है ◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव : थरूर, त्रिपाठी , खड़गे में कड़ा मुकाबला, असमंजस में बनी स्थिति साफ ◾SC ने संसद भवन के शेर की मूर्ति को लेके दायर याचिका कि खारिज, कहा- कानून का नहीं हुआ कोई उल्लंघन ◾रोचक बनी कांग्रेस अध्यक्ष की लड़ाई, खड़गे के समर्थन में उतरे गहलोत◾राहुल गांधी के फर्जी वीडियो वायरल करने पर कांग्रेस ने अशोक पंडित के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत◾गुजरात के सूरत से एंबुलेंस से बरामद किए 25 करोड़ के नकली नोट, शूटिंग के लिए किया जा रहा था इस्तेमाल ◾गुजरात चुनाव के पहले अरविंद केजरीवाल को डर राघव चड्ढा हो सकते है गिरफ्तार, बताई बड़ी वजह ◾Afghanistan Blast : जुमे के दिन बम धमाके से दहली राजधानी काबुल, 19 लोगों की मौत◾

राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन ने सरकार पर किसान आंदोलन को खत्म करने का लगाया आरोप

नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन का अहम हिस्सा रहे राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के अध्यक्ष वी. एम. सिंह ने सरकार पर आंदोलन को खत्म करने की कोशिश का आरोप लगाते हुए कहा कि ऐसा इसलिए किया गया, ताकि वर्ष 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में ‘‘किसानों की सरकार’’ नहीं बन पाए।सिंह ने रविवार को टेलीफोन पर 'भाषा' से बातचीत में कहा कि वह अपने मकसद से पीछे नहीं हटे हैं और जल्द ही उनकी मुहिम एक नए स्वरूप में सामने आएगी।उन्होंने सरकार पर किसान आंदोलन को खत्म करने की कोशिश का आरोप लगाया और भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत पर कटाक्ष करते हुए कहा, सरकार ने टिकैत को हवा दी। 

एक आदमी जिसके पास सिर्फ 300-400 लोग थे। बाकी हमारे लोग थे। जब आंदोलन वापस लेने की बात हुई तो सरकार को लगा कि अगर आंदोलन वापस हो जाएगा तो पूरा श्रेय वी. एम. सिंह को जाएगा, यह कि सिंह के आदमियों की वजह से यह आंदोलन खड़ा था।सिंह ने आरोप लगाया, एक आदमी को नौ घंटे की फुटेज मिलेगी तो वह नेता तो बन ही जाएगा। यह पूरा खेल इसलिए हुआ है ताकि 2022 में उत्तर प्रदेश में किसानों की सरकार न बनने पाए।गौरतलब है कि सिंह का संगठन 26 जनवरी को दिल्ली में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद किसान आंदोलन से अलग हो गया था।

सिंह ने कहा कि नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसानों के आंदोलन से वह भले ही अलग हो गए हों, लेकिन वह अपने मकसद से पीछे नहीं हटे हैं।उन्होंने कहा, मैं अपने संगठन के साथियों से चर्चा कर रहा हूं। आंदोलन तो रहेगा बस इसका स्वरूप बदल जाएगा। हम जल्द ही एक नए स्वरूप के साथ आंदोलन शुरू करेंगे।सिंह ने कहा कि न्यूनतम समर्थन मूल्य गारंटी की उनकी मांग कोई नई नहीं। 

उन्होंने कहा, ‘‘यह मांग अक्टूबर 2000 से चली आ रही है। यही आंदोलन आगे बढ़कर यहां तक पहुंचा है।’’किसान आंदोलन से अलग होने के कारण के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने कहा, मेरा मकसद आंदोलन को खराब करने का नहीं था, बल्कि मैंने तो आंदोलन का बीज बोया था। मैंने जो भी निर्णय लिया, वह नैतिकता के आधार पर और देशहित में था।सिंह ने आरोप लगाया, ‘‘अब दिल्ली की सीमा पर जो भी शेष आंदोलन रह गया है, वह राजनीतिक हो चुका है।

उन्होंने कहा कि वहां कांग्रेस, राष्ट्रीय लोक दल और आम आदमी पार्टी समेत कई दलों के नेता खुलकर बोलने लगे हैं।सिंह ने कहा, ‘‘जब मैं वहां था तब मंच से कोई भी राजनीतिक व्यक्ति नहीं बोल सकता था। अब सब मंच पर हैं और सब कुछ राजनीतिक हो रहा है। समर्थन करना अलग बात है और खुलकर सामने आना अलग बात।