BREAKING NEWS

गणतंत्र दिवस पर सैन्य शक्ति, सांस्कृतिक विरासत और सामाजिक-आर्थिक प्रगति का होगा भव्य प्रदर्शन◾अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार मिलने पर हरदीप सिंह पुरी ने दी बधाई ◾पूर्व मंत्रियों अरूण जेटली, सुषमा स्वराज और जार्ज फर्नांडीज को पद्म विभूषण से किया गया सम्मानित, देखें पूरी लिस्ट !◾कोरोना विषाणु का खतरा : करीब 100 लोग निगरानी में रखे गए, PMO ने की तैयारियों की समीक्षा◾गणतंत्र दिवस : चार मेट्रो स्टेशनों पर प्रवेश एवं निकास कुछ घंटों के लिए रहेगा बंद ◾ISRO की उपलब्धियों पर सभी देशवासियों को गर्व है : राष्ट्रपति ◾भाजपा ने पहले भी मुश्किल लगने वाले चुनाव जीते हैं : शाह◾यमुना को इतना साफ कर देंगे कि लोग नदी में डुबकी लगा सकेंगे : केजरीवाल◾उमर की नयी तस्वीर सामने आई, ममता ने स्थिति को दुर्भाग्यपूर्ण बताया◾ओम बिरला ने देशवासियों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी◾PM मोदी ने पद्म पुरस्कार पाने वालों को दी बधाई◾भारत और ब्राजील आतंकवाद के खिलाफ आपसी सहयोग बढ़ाने का किया फैसला◾370 के खात्मे के बाद कश्मीर में शान से फहरेगा तिरंगा : अमित शाह◾देशवासियों को बांटने, संविधान को कमजोर करने की हो रही साजिश : सोनिया◾PM मोदी और नेतन्याहू ने फोन पर वैश्विक और क्षेत्रीय मामलों पर चर्चा की◾गांधी शांति यात्रा पहुंची आगरा ◾भारत-नेपाल सीमा पर पहुंचा कोरोना वायरस, बॉर्डर पर होगी स्क्रीनिंग◾ दिल्ली चुनाव : 250 नेता, हर दिन 500 जनसभाएं, इस तरह माहौल बनाने में जुटी है भाजपा◾आर्थिक विकास के लिए संविधान के मुताबिक चलना होगा - कोविंद◾भूमि सुधार कानून में बदलाव होगा : येदियुरप्पा◾

SIT ने किया पीड़िता के छात्रावास का निरीक्षण

शाहजहांपुर (उप्र) : पूर्व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद मामले में विशेष जांच दल (एसआईटी) ने मंगलवार को पीड़िता के छात्रावास के कमरे का निरीक्षण किया और साक्ष्य जुटाए। 

एसआईटी दोपहर को कॉलेज परिसर पहुंची। टीम ने करीब पांच घंटे तक पीड़िता के कमरे का बारीकी से निरीक्षण किया। टीम के साथ फॉरेंसिक विशेषज्ञ भी मौजूद थे। 

स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय के प्रधानाचार्य संजय बरनवाल ने बताया कि छात्रा छात्रावास के कमरे में अकेली रहती थी। 

कॉलेज के प्रशासनिक सूत्रों ने बताया कि जांच के दौरान एसआईटी के साथ पीड़िता और उसका परिवार भी मौजूद था। 

सूत्रों के मुताबिक स्वामी चिन्मयानंद कॉलेज परिसर में बने अपने आवास दिव्य धाम में मंगलवार को मौजूद नहीं थे। पीड़िता जिस कमरे में रहती थी, पुलिस ने उसे सील कर दिया था। एसआईटी ने उसकी सील तोड़ कर मुआयना किया। 

इस बीच पुलिस सूत्रों ने बताया कि मंगलवार शाम तक भी चिन्मयानंद के खिलाफ बलात्कार का मामला दर्ज नहीं किया गया है । 

पिछले महीने एक वायरल वीडियो के जरिए चिन्मयानंद पर जान से मारने की धमकी देने का आरोप लगाने वाली एलएलएम की छात्रा सोमवार को पहली बार मीडिया के सामने आयी। उसने पूर्व केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री पर बलात्कार का भी आरोप लगाते हुए कहा कि वह मामले की जांच कर रही एसआईटी को भी यह बात बता चुकी है। एसआईटी ने गत रविवार को करीब 11 घंटे तक उससे पूछताछ की थी। 

युवती के मुताबिक उसने जांच दल को बताया कि स्वामी चिन्मयानंद ने उसका बलात्कार किया और एक वर्ष तक उसका शारीरिक शोषण भी किया है। यह रिपोर्ट दिल्ली के लोधी रोड थाने में जीरो क्राइम नंबर पर दर्ज करके शाहजहांपुर भेज दी गई, मगर स्थानीय पुलिस बलात्कार और शारीरिक शोषण की रिपोर्ट दर्ज नहीं कर रही है। 

पीड़िता ने कहा कि जांच दल को सारी बातें बताने के बाद भी चिन्मयानंद को गिरफ्तार नहीं किया गया। उसने आरोप लगाया कि इससे पहले जब उसके पिता ने चिन्मयानंद के खिलाफ शारीरिक शोषण के आरोप में मुकदमे की तहरीर दी थी तब मुकदमा दर्ज करना तो दूर, जिलाधिकारी इंद्र विक्रम सिंह ने उसके पिता को धमकी देते हुए चिन्मयानंद के रसूख का हवाला दिया था और बेटी की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराने को कहा था। 

छात्रा ने दावा किया कि उसके पास सारे साक्ष्य हैं। सही समय आने पर साक्ष्य (वीडियो क्लिप) भी पेश किया जाएगा। 

उसने कहा कि उसने अपनी और अपने परिवार की सुरक्षा के लिए ही अपना वह वीडियो वायरल किया था, जिसमें उसने चिन्मयानंद से जान का खतरा बताया था। 

स्वामी चिन्मयानंद के अधिवक्ता ओम सिंह की ओर से दर्ज कराए गए पांच करोड़ रुपए की रंगदारी मांगे जाने के मामले में कथित पीड़िता ने कहा कि इसकी जांच होनी चाहिए। चिन्मयानंद ने जो आरोप लगाया है, वह फर्जी है।

एक सवाल के जवाब में छात्रा ने बताया कि उसके साथ दिल्ली के होटल में देखा गया संजय सिंह नामक युवक उसका भाई है। 

ज्ञातव्य है कि चिन्मयानंद के कॉलेज स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में एलएलएम की छात्रा ने 24 अगस्त को एक वीडियो वायरल किया था जिसमें उसने चिन्मयानंद पर आरोप लगाया था कि उसने उसकी तथा कई अन्य लड़कियों की जिंदगी बर्बाद कर दी है। इसके साथ ही उसने अपने और अपने परिवार की जान को खतरा बताया था। 

वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने चिन्मयानंद के खिलाफ अपहरण और जान से मारने की धमकी की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था। 

उच्चतम न्यायालय के आदेश पर राज्य सरकार ने मामले की पड़ताल के लिये विशेष जांच दल गठित किया है, जो मामले की तफ्तीश कर रहा है।