BREAKING NEWS

राजधानी में फूटा कोरोना बम, 24 घंटे में आए 19,486 नये मामले और 141 कि हुई मौत◾पश्चिम बंगाल चुनाव : EC ने शाम सात से सुबह 10 बजे तक रैलियों, जनसभाओं पर लगाया प्रतिबंध ◾कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए CICSE ने 10वीं,12वीं की परीक्षा टाली ◾ममता संविधान की रक्षा करने में विफल रहीं, केंद्रीय बलों पर लगा रही है आरोप : नड्डा ◾वीकेंड कर्फ्यू के दौरान ज्यादा अंतराल पर चलेंगी दिल्ली मेट्रो ट्रेनें, इन लाइन्स पर आधे घंटे का होगा इंतजार ◾भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी जल्द आएगा भारत, प्रत्यर्पण की मांग को ब्रिटेन सरकार ने दी मंजूरी◾अदार पूनावाला की अमेरिका से अपील, टीका उत्पादन बढ़ाने के लिए बाइडन हटाए कच्चे माल पर लगा निर्यात प्रतिबंध◾उत्तर प्रदेश में कोविड-19 की बेकाबू रफ़्तार, रिकॉर्ड 27,426 नये मामले, 103 और मरीजों की मौत ◾बंगाल में कोरोना मामलों में बढ़ोतरी के लिए BJP जिम्मेदार, बाहरी लोगों के आने पर रोक लगाए EC : ममता बनर्जी ◾बंगाल में समाज को बांटने का रचा जाता है षड्यंत्र, ममता जी सहित TMC के सभी नेता दलित विरोधी : नड्डा ◾देश में ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर PM मोदी ने की समीक्षा, राज्यों के साथ सहयोग सुनिश्चित करने के दिए निर्देश◾बंगाल में पांचवें चरण में 45 सीटों पर कल होगा मतदान, सुरक्षा के मद्देनजर केन्द्रीय बलों की 853 कम्पनियां तैनात◾यूपी में हर रविवार को होगा कंप्लीट लॉकडाउन, बिना मास्क पकड़े जाने पर 1000 रू जुर्माना : CM योगी ◾अमित शाह ने राहुल को बताया ‘पर्यटक राजनेता’, कहा- दीदी मतुआ समुदाय को नहीं देगी नागरिकता◾डॉ. हर्षवर्धन ने AIIMS का किया दौरा, कहा- कोरोना जंग जीतने के लिए किसी चीज की नहीं है कमी ◾कोरोना से जंग जीतने के लिए केंद्र ने निकाला उपाय, राज्यों को UK मॉडल पर काम करने की दी सलाह ◾केंद्र की कोरोना रणनीति पर राहुल का तंज, 'तुगलकी लॉकडाउन लगाओ-घंटी बजाओ-प्रभु के गुण गाओ'◾रणदीप सुरजेवाला और जिग्नेश मेवाणी कोरोना पॉजिटिव, दिग्विजय सिंह भी हुए संक्रमित◾EC की आज सर्वदलीय बैठक, चुनावी रैलियों में कोविड नियमों के पालन पर होगी चर्चा◾देश में फिर टूटे कोरोना के सारे रिकॉर्ड, पिछले 24 घंटे में 2 लाख 16 हजार केस, 1185 लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

SIT ने की विकास दुबे की संपत्ति की ED से जांच की सिफारिश

कानपुर के बिकरू गांव में जुलाई में आठ पुलिसकर्मियों की सामूहिक हत्या की जांच करने वाले विशेष जांच दल (एसआईटी) ने इस घटना के मास्टरमाइंड रहे विकास दुबे द्वारा जुटाई गई 150 करोड़ रुपये की संपत्ति की प्रवर्तन निदेशालय से जांच की सिफारिश की है। दुबे गत 10 जुलाई को लखनऊ में विशेष कार्यबल (एसटीएफ) के साथ हुई कथित मुठभेड़ में मारा गया था।

अधिकारियों ने बताया कि अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अगुवाई में गठित तीन सदस्यीय एसआईटी ने गैंगस्टर द्वारा अवैध तरीके से हासिल की गई 150 करोड़ रुपये की संपत्ति की प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गहराई से जांच कराए जाने की सिफारिश की है। एसआईटी ने पिछले महीने के शुरू में सरकार को सौंपी गई अपनी जांच रिपोर्ट में यह भी कहा है कि दुबे और उसके गैंग की मदद करने वाले सभी अधिकारियों के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई की जानी चाहिए।

जांच रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि दुबे को मुखबिरी के चलते पहले से ही पुलिस की दबिश के बारे में जानकारी मिल गई थी। गत दो-तीन जुलाई की मध्यरात्रि कानपुर के बिकरू गांव में दुबे को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर गैंगस्टर के साथियों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थीं जिसमें एक क्षेत्राधिकारी और एक थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे तथा पांच पुलिसकर्मी, एक होमगार्ड और एक आम नागरिक घायल हुआ था।

घटना की जांच के लिए बनाई गई तीन सदस्यीय एसआईटी की जांच रिपोर्ट में 80 से अधिक पुलिस, प्रशासनिक अधिकारियों और कर्मियों को दोषी पाया गया है। जांच रिपोर्ट के करीब 700 पन्ने मुख्य हैं, जिनमें दोषी पाए गए अधिकारियों व कर्मियों की भूमिका के अलावा करीब 36 संस्तुतियां शामिल हैं। गृह विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि 100 से ज्यादा गवाहियों के आधार पर एसआईटी ने अपनी जांच रिपोर्ट तैयार की है। 12 जुलाई, 2020 को एसआईटी ने अपनी जांच शुरू की जो 20 अक्टूबर को पूरी हुई।

उन्होंने बताया कि एसआईटी ने मुख्य रूप से नौ बिंदुओं पर जांच को आधार बनाकर रिपोर्ट तैयार की है। एसआईटी को 31 जुलाई को जांच रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपनी थी, लेकिन गवाहियों का आधार बढ़ने के कारण यह 20 अक्टूबर को पूरी की जा सकी। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार जांच में सामने आया है कि पुलिस के ही लोग विकास दुबे के लिए मुखबिरी करते थे और घटना की रात गैंगस्टर को पहले से ही मालूम था कि उसके घर पर पुलिस की छापेमारी होने वाली है।

सूत्रों का कहना है कि जांच में दुबे के घर पुलिस टीम के दबिश देने की सूचना पहले ही लीक कर दिए जाने से जुड़े कई तथ्य उजागर हुए हैं। दुबे के कथित मुठभेड़ में मारे जाने के बाद 11 जुलाई को एसआईटी का गठन किया गया था।

नोएडा : किशोरी को अगवा कर जबरन शादी और दुष्कर्म करने का मामला दर्ज