BREAKING NEWS

विकास दुबे के एनकाउंटर पर राहुल गांधी का शायराना तंज- 'कई जवाबों से अच्छी खामोशी उसकी'◾एनकाउंटर के दौरान विकास दुबे को 3 सीने में और 1 हाथ में लगी थी गोली◾Vikas Dubey Encounter : कानपुर शूटआउट से लेकर हिस्ट्रीशीटर के खात्मे तक, जानिए हर दिन का घटनाक्रम◾STF की गाड़ी पलटने के बाद विकास दुबे ने की भागने की कोशिश, एनकाउंटर में मारा गया हिस्ट्रीशीटर ◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 25 लाख के करीब, साढ़े पांच लाख से अधिक की मौत ◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले दिग्विजय-जिसका शक था वह हो गया◾विकास दुबे के एनकाउंटर पर बोले अखिलेश- कार नहीं पलटी बल्कि सरकार पलटने से बचाई गयी◾देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 8 लाख के करीब, अब तक 21604 लोगों ने गंवाई जान ◾भारत-चीन सीमा विवाद: गलवान घाटी पर चीन के दावे को भारत ने एक बार फिर ठुकराया, शुक्रवार को हो सकती है वार्ता◾यूपी में कल रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक फिर से लॉकडाउन, आवश्यक सेवाओं पर कोई रोक नहीं ◾दिल्‍ली में 24 घंटे में कोरोना के 2187 नए मामले, 45 की मौत, 105 इलाके सील◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, 24 घंटे 219 लोगों की मौत, 6875 नए मामले◾उप्र एसटीएफ ने उज्जैन से गिरफ्तार विकास दुबे को अपनी हिरासत में लिया, कानपुर लेकर आ रही पुलिस◾वार्ता के जरिए एलएसी पर अमन-चैन का भरोसा, जारी रहेगी सैन्य और राजनयिक बातचीत : विदेश मंत्रालय◾दिल्ली में कोरोना की स्थिति में सुधार, रिकवरी रेट 72% से अधिक : गृह मंत्रालय◾केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन बोले-देश में नहीं हुआ कोरोना वायरस का कम्युनिटी ट्रांसमिशन◾ इंडिया ग्लोबल वीक में बोले PM मोदी-वैश्विक पुनरुत्थान की कहानी में भारत की होगी अग्रणी भूमिका◾कुख्यात अपराधी विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मां ने कहा- हर वर्ष जाते है महाकाल मंदिर में दर्शन के लिए ◾मोस्ट वांटेड गैंगस्टर विकास दुबे के बारे में शुरुआत से लेकर गिफ्तारी तक का जानिए पूरा घटनाक्रम◾काशीवासियों से बोले PM मोदी- जो शहर दुनिया को गति देता हो, उसके आगे कोरोना क्या चीज है◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सपा नेता ने की बिजली मंत्री और बड़े अफसरों को बर्खास्त कर जेल में डालने की मांग

उत्तर प्रदेश विधानसभा में सपा के नेता राम गोविंद चौधरी ने बिजलीकर्मियों की भविष्य निधि में हुए 2600 करोड़ रुपये के कथित घोटाला मामले में ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा और विभाग के प्रमुख सचिव को बर्खास्त कर जेल भेजने तथा घोटाले की उच्च न्यायालय के किसी न्यायाधीश से जांच कराने की मांग की है। चौधरी ने सोमवार को यहां कहा कि बिजलीकर्मियों की भविष्य निधि के 2600 करोड़ रुपये का निजी संस्था डीएचएफएल में निवेश करना सीधे तौर पर लूट है। इतनी बड़ी लूट ऊर्जा मंत्री, पावर कार्पोरेशन के चेयरमैन और ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव की जानकारी के बगैर हो ही नहीं सकती। 

उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग की कि इन तीनों को तत्काल बर्खास्त करके जेल में डाला जाये और इस लूट की जांच उच्च न्यायालय के न्यायाधीश से करायी जाये, ताकि इसमें शामिल अन्य बडे़ लोग भी गिरफ्त में आ सकें। इन लोगों के अपने पद पर बने रहने तक मामले की निष्पक्ष जांच नहीं हो सकती। चौधरी ने कहा कि अगर सरकार ने यह कार्रवाई नहीं की तो सपा इस मसले पर सड़क से सदन तक आंदोलन करेगी। 

दिल्ली: मनीष सिसोदिया साइकिल से पहुंचे दफ्तर, कहा- पराली के जलने से भारत में धुंआ हो गया है

भ्रष्टाचार के इस मामले में बिजली मंत्री श्रीकांत शर्मा की सफाई और राज्य सरकार द्वारा की गयी कार्रवाई पर नेता विपक्ष ने योगी सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि इसी तरह की लूट महाराष्ट्र के पीएमसी बैंक में भी हुई है। उसी की जांच पड़ताल में पता चला कि पीएमसी बैंक को लूटने वाली कम्पनी को ही उत्तर प्रदेश के ऊर्जा विभाग ने भी भारी रकम अंतरित की है। इससे स्पष्ट लग रहा है कि इस लूट की साजिश बड़े स्तर पर हुयी है। 

नेता प्रतिपक्ष ने कहा है कि इस मामले में ऊर्जा मंत्री, पावर कार्पोरेशन के चेयरमैन और ऊर्जा विभाग के प्रमुख सचिव लगातार सफाई दे रहें है कि कर्मचारियों का रुपया सुरक्षित है। उनका यह दावा सीधे-सीधे सच पर पर्दा डालने जैसा है। कर्मचारी लूटे जा चुके है। मंत्री और अफसर इस घोटाले से अपनी जान बचाने के लिए सफाई दे रहें हैं। 

गौरतलब है कि बिजलीकर्मियों की भविष्य निधि के करीब 2600 करोड़ रुपये नियमविरुद्ध तरीके से निजी बैंकिंग संस्था डीएचएफएल में जमा कराये जाने का मामला सामने आया है। सरकार ने एक शिकायत पर इसकी जांच करायी और प्रथम दृष्ट्या दोषी पाये गये दो पूर्व अफसरों को गिरफ्तार कर लिया गया है। बिजली मंत्री श्रीकांत शर्मा ने इस घोटाले के लिये प्रदेश की पूर्ववर्ती सपा सरकार को जिम्मेदार ठहराया है।