BREAKING NEWS

मैं खुश हूँ की केंद्र सरकार ने किसान संगठनों को बातचीत के लिए बुलाया है : अमरिंदर सिंह◾अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने ट्रंप के सत्ता हस्तांतरण पर कहा 'चुनाव बीत गया'◾मुफ्ती और अब्दुल्ला परिवार ने अपनी संपत्ति बनाने के लिए निजी कंपनियों की तरह काम किया :भाजपा ◾संजय राउत के बयान पर फडणवीस बोले- शिवसेना ने ‘लव जेहाद’ पर अपना रूख ‘नरम’ कर लिया है◾राकांपा प्रमुख शरद पवार बोले- शिवसेना विधायक सरनाईक के खिलाफ ईडी की कार्रवाई विपक्ष की निराशा है◾नेशनल कांफ्रेस के नेताओं ने सरकारी जमीन का किया अतिक्रमण : अनुराग ठाकुर◾'लव जिहाद' के खिलाफ अध्यादेश लाई योगी सरकार, जल्द बनेगा कानून ◾राहुल गांधी ने ‘निवार’ तूफान के मद्देनजर कांग्रेस कार्यकर्ताओं से जरूरतमंदों की मदद करने की अपील की ◾मोदी सरकार ने सुरक्षा का हवाले देते हुए बैन किए 43 मोबाइल ऐप्स, अधिकतर चाइनीज ऐप्स है शामिल ◾J&K प्रशासन का दावा - अब्दुल्ला का मकान गैरकानूनी तरीके से अतिक्रमण वाली जमीन पर बनाया गया ◾बंबई HC ने दी अभिनेत्री कंगना और उनकी बहन को बड़ी राहत, गिरफ्तारी पर लगाई अंतरिम रोक ◾CM ममता ने PM मोदी को दिलाया विश्वास, कहा- बंगाल कोविड-19 के टीकाकरण लिए केंद्र के साथ मिलकर करेगा काम ◾पीएम मोदी बोले- कोरोना को लेकर फिर से जागरूकता फैलाने की जरूरत, वैक्सीन अभियान एक नेशनल कमिटमेंट ◾Covid 19 : PM मोदी के साथ समीक्षा बैठक में ममता बनर्जी ने उठाया GST का मुद्दा◾पीएम मोदी ने स्वतंत्रता सेनानी सर छोटू राम को उनकी जयंती पर किया नमन ◾PM मोदी के साथ संवाद में बोले सीएम गहलोत - राजस्थान में हर दिन हो रही हैं 30,000 से अधिक जांच◾भारत ने किया ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण, जल-थल और वायु में वार करने में सक्षम ◾PM मोदी के खिलाफ चुनाव में नामांकन रद्द करने के मामले में तेज बहादुर को SC से झटका, याचिका खारिज ◾मुख्यमंत्रियों संग पीएम मोदी की बैठक में बोले केजरीवाल- दिल्ली में 1000 बेड हो रिजर्व, प्रदूषण के मामले में दें दखल ◾केंद्रीय मंत्री रावसाहेब के दावे पर बोले राउत- हमारी सरकार 4 साल और करेगी पूरे, विपक्ष के सारे प्रयास फेल◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सुप्रीम कोर्ट ने मथुरा में यमुना नदी के प्रदूषण पर केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से मांगी रिपोर्ट

उच्चतम न्यायालय ने मथुरा में यमुना नदी में प्रदूषण की स्थिति पर केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को अपनी रिपोर्ट पेश करने का निर्देश दिया है। न्यायालय ने नदी की सफाई के लिये उठाये जाने वाले कदमों के बारे में भी बोर्ड से जानकारी मांगी है। न्यायमूर्ति अरूण मिश्रा और न्यायमूर्ति रवीन्द्र भट्ट की पीठ ने केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को यह रिपोर्ट छह सप्ताह के भीतर पेश करने का निर्देश दिया है। इस रिपोर्ट में सुझाव भी होंगी। 

शीर्ष अदालत राष्ट्रीय हरित अधिकरण के चार अप्रैल, 2017 के निर्देश को चुनौती देने वाली उप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। अधिकरण ने इस आदेश में मथुरा में प्रदूषण के लिये पांच लाख रूपए का जुर्माने के रूप में भुगतान करने का निर्देश दिया था। 

अधिकरण ने राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को कूड़ा डालने वाले स्थल और नदी के किनारे चाहरदीवारी बनाने का निर्देश दिया था ताकि यमुना में कोई कचरा नहीं जा सके। अधिकरण ने यहां हरित पट्टी विकसित करने का भी निर्देश दिया था। पीठ ने अपने आदेश में कहा, ‘‘केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एक अधिकारी को तैनात करे जो मौके का निरीक्षण करके रिपोर्ट दे कि क्या चाहरदीवारी का निर्माण किया गया है। वह हरित पट्टी के विकास के बारे में भी अपनी रिपोर्ट देंगे और यह भी बतायेंगे कि नदी को साफ करने के लिये और किन सुधारों की आवश्यकता है।’’ 

अधिकरण ने 2017 में कहा था कि उसे यह कहने में कोई संकोच नहीं है कि उप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और मथुरा छावनी बोर्ड पर्यावरण का संरक्षण करने और कानून के अनुरूप अपने दायित्वों का निर्वहन करने में बुरी तरह विफल रहे हैं। इसलिए उन्हें राष्ट्रीय हरित अधिकरण कानून की धारा 15 और 17 के तहत पर्यावरण मुआवजे का भुगतान करना होगा। 

अधिकरण ने कहा था कि राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को पर्यावरण मुआवजे के रूप में पांच लाख रूपए और छावनी बोर्ड को लगातार वायु, जल और भूजल को प्रदूषित करने के सिलसिले में दस लाख रूपए के भुगतान का आदेश दिया जाता है।शीर्ष अदालत ने बाद में अधिकरण के इस आदेश पर रोक लगा दी थी। 

अधिकरण ने मथुरा निवासी तपेश भारद्वाज तथा अन्य की याचिका पर यह फैसला सुनाया था। इस याचिका में आरोप लगाया गया था कि छावनी बोर्ड अपने इलाके से ठोस कचरा एकत्र करने के बाद उसे यमुना नदी के तट पर फेंक रहा है। 

फडणवीस को नैतिक आधार पर मुख्यमंत्री बने रहने का अधिकार नहीं : कांग्रेस