BREAKING NEWS

राहुल को सजा मामले को राजनीतिक मुद्दा बनाएगी कांग्रेस, राष्ट्रपति से भी मांगा समय ◾सांसद के भाषण के व्यापक प्रभाव से अपराध की गंभीरता बढ़ जाती है : अदालत ने राहुल मामले में कहा◾भारत और चीन अंतरराष्ट्रीय संबंधों को बेहतर बनाने और उन्हें अधिक लोकतांत्रिक बनाने में मदद करने के लिए मिलकर काम करेंगे◾मल्लिकार्जुन खरगे ने कहा- Rahul Gandhi को संसद से बाहर रखने का प्रयास हो रहा◾ममता बनर्जी और नवीन पटनायक के बीच हुई लोकतांत्रिक अधिकारों पर चर्चा◾ब्रिटिश केंद्रीय बैंक ने मुद्रास्फीति को नियंत्रण में रखने की कोशिश करने के लिए नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत की वृद्धि की◾ओडिशा विधानसभा में महानदी जल विवाद को लेकर हुआ हंगामा, कार्यवाही को किया गया स्थगित ◾ राहुल की सजा पर NCP ने BJP पर किया पलटवार, बड़बोले देर-सबेर कानून की गिरफ्त में आएंगे◾CM योगी ने कहा- छह सालों में साढ़े पांच लाख से ज्यादा को नौकरी दी ◾राहुल गांधी की सजा के ऐलान पर प्रियंका गांधी ने कहा- 'मेरे भाई न कभी डरे हैं, न कभी डरेंगे...'◾राहुल गांधी के समर्थन में उतरे थे केजरीवाल, 'बीजेपी ने किया तीखा हमला' ◾CM हेमंत सोरेन ने राहुल की सजा पर कहा- धनतंत्र के आगे जनतंत्र की कोई बिसात नहीं◾भाजपा विधायक विजेंद्र गुप्ता ने High Court का दरावाजा खटखटाया◾महाराष्ट्र की विधानसभा में राहुल गांधी के पोस्टर को कथित तौर पर चप्पलों से मारने पर छिड़ा विवाद◾दिल्ली समेत 4 राज्यों में बदले बीजेपी ने अपने प्रदेशाध्यक्ष, 'ये है अब नए चेहरे' ◾Imran Khan ने किया दावा, कहा- हत्या की हो रही है साजिश◾श्रीलंकाई नौसेना ने तमिलनाडु के 12 मछुआरे किए गिरफ्तार, पुदुकोट्टई में जोरदार प्रदर्शन◾CM पुष्कर सिंह धामी बोले- सरकार के कामकाज में तेजी लाने के लिए जवाबदेही तय होगी◾Rahul Gandhi की सजा के खिलाफ कांग्रेस हाईकोर्ट में करेंगी अपील◾CM केजरीवाल ने कहा- मेरे खिलाफ पोस्टर लगाने वालों को गिरफ्तार न करें, मुझे कोई आपत्ति नहीं◾

ताजमहल में कब से पढ़ी जा रही नमाज... इतिहासकार ने लगाई RTI, ASI ने दिया यह चौंकाने वाला जवाब

देश में लगातार सुर्ख़ियों में बने हुए ज्ञानवापी मस्जिद (Gyanvapi Masjid) और श्रृंगार गौरी (Shirngar Gauri) मामले ने कई और विवादों को जन्म दिया है, इन्हीं विवादों में से एक है आगरा (Agra) में स्थित ताजमहल (Taj Mahal) से जुड़ा मामला। दरअसल एक इतिहासकार जिनका नाम राजकिशोर राजे है उन्होंने नमाज को लेकर सूचना का अधिकार (आरटीआई) दाखिल की थी, जिसका बेहद ही चौंकाने वाला जवाब भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग (Archaeological Survey of India) द्वारा दिया गया है। दरअसल नमाज को लेकर पूछे गए सवाल पर एएसआई ने कहा कि उनके पास इसका कोई ब्यौरा मौजूद नहीं है। 

इतिहासकार ने ताजमहल में नमाज पढ़ने पर किया यह बड़ा दावा 

वहीं इस पूरे मामले में इतिहासकार राजकिशोर का कहना है कि शाहजहां के समय में लिखी गई किताबों में कहीं भी नमाज का कोई जिक्र नहीं किया गया है। उनके मुताबिक उस समय में आम जनता को ताजमहल में प्रवेश करने की भी अनुमति नहीं दी गई थी, ऐसे में ताजमहल में नमाज पढ़ने का तो कोई प्रश्न ही नहीं उठता है। आगे इतिहासकार राजकिशोर ने कहा कि ऐतिहासिक स्थलों पर फिर चाहे वह कोई भी हो धार्मिक गतिविधियों की मंजूरी नहीं होनी चाहिए।  

हिरासत में लिए गए शाही मस्जिद में नमाज पढ़ने वाले पर्यटक

बताते चलें कि हालही में ताजमहल में नमाज पढ़ने वाले 4 पर्यटकों को जिसमें तीन हैदराबाद और एक आजमगढ़ का रहने वाला है, पुलिस ने इन लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर इन्हें गिरफ्तार कर लिया था। मोहोब्बत की मिसाल के नाम से मशहूर ताजमहल की खूबसूरती का दीदार करने आये इन चारों लोगों ने शाही मस्जिद में शाम को नमाज अदा की थी। इसपर वहां मौजूद सीआईएसएफ के जवानों ने चारों लोगों को हिरासत में ले लिया था।  

जानिए संत मत्स्येंद्र गोस्वामी ने क्यों दी आमरण अनशन की चेतावनी?

बता दें कि चारों आरोपियों का कहना है कि वह अभी स्टूडेंट्स हैं और उन्हें नहीं पता था कि ताजमहल में नमाज पढ़ने पर मनाही है। बता दें कि ताजमहल पर विवाद का यह पहला मामला नहीं है इससे पहले भगवा वस्त्र धारण किए हुए संत मत्स्येंद्र गोस्वामी  ने परिसर में हंगामा किया, उनका दावा था की ताजमहल में शौचालय के पास हिन्दू देवी-देवताओं की प्रतिमाएं लगाई गईं हैं। उन्हें वहां से हटाया जाये नहीं तो वह ताजमहल परिसर में ही आमरण अनशन पर बैठ जाएंगे। 

Gyanvapi Masjid: वाराणसी अदालत और फास्ट ट्रैक कोर्ट में अहम सुनवाई, सर्वे रिपोर्ट पर होगा बड़ा फैसला?