BREAKING NEWS

KXIP vs SRH ( IPL 2022) : पंजाब किंग्स ने सनराइजर्स हैदराबाद को 5 विकेट से हराया◾PM मोदी टोक्यो में क्वाड इनिशिएटिव, द्विपक्षीय संबंधों पर चर्चा करने के लिए उत्सुक◾WHO चीफ ने कोविड महामारी को लेकर दिया बड़ा बयान◾राजभर ने अखिलेश पर कसा तंज , कहा - यादव जी को लग गई है एयर कंडीशनर की हवा ◾ केंद्र के बाद इन राज्य सरकारों ने भी पेट्रोल-डीजल पर घटाया VAT , जानें क्या हैं नई कीमतें◾ होशियारपुर में 300 फीट गहरे बोरवेल में गिरे 6 साल के बच्चे की नहीं बचाई जा सकी जान, कुत्ते से कर रहा था बचाव◾ श्रीलंका के लिए संकट मोचन बना भारत, जरूरी राहत सामग्री लेकर कोलंबो पहुंचा जहाज◾ SA टी20 सीरीज और इंग्लैंड के साथ एक टेस्ट के लिए भारतीय टीम हैं तैयार, यहां देखें किसे-किसे मिला मौका◾ SRH vs PBKS: हैदराबाद ने पंजाब के खिलाफ टॉस जीतकर चुनी बल्लेबाजी, यहां देखें Playing XI◾ बंगाल में BJP को लगा बड़ा झटका, सांसद अर्जुन सिंह ने थामा टीएमसी का हाथ◾'न उगली जाए, न निगली जाए' की स्थिति में विपक्ष! ज्ञानवापी विवाद में सपा, बसपा और कांग्रेस ने क्यों साधी चुप्पी?◾ आज से नौकरशाहों के हाथों में दिल्ली MCD की डोर, स्पेशल अफसर अश्वनी कुमार और कमिश्नर ज्ञानेश भारती ने संभाला चार्ज◾2024 की तैयारी में राजनीतिक समीकरण साध रहे KCR... CM केजरीवाल से की मुलाकात, इन मुद्दों पर हुई चर्चा ◾दिल्ली: कुतुब मीनार परिसर में खुदाई को लेकर नहीं लिया गया कोई फैसला, केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने कही यह बात ◾ इटालियन चश्मा उतारें तो पता चलेगा विकास....,राहुल गांधी पर अमित शाह ने कसा तंज◾ज्ञानवापी से लेकर ईदगाह मस्जिद तक... जानें क्यों कटघरे में खड़ा है पूजा स्थल अधिनियम 1991? पढ़े खबर ◾भारत में जनता के हित में लिए जाते हैं फैसले, बाहरी दबावों को किया जाता है दरकिनार : इमरान खान ◾ क्वाड के लिए जापान रवाना हुए पीएम मोदी, बैठक के बारे में बताया क्या-क्या होगा खास◾Gyanvapi Case: ज्ञानवापी मामले ने लिया दिलचस्प मोड़... विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत ने किया यह बड़ा दावा! ◾यूपी : विधानसभा सत्र से एक दिन पहले SP के विधायक दल की हुई बैठक, शामिल नहीं हुए आजम और शिवपाल ◾

यूपी: AIMIM ने उमैर मदनी को मैदान में उतारा, चुनावी घमासान में तेज हुई मुस्लिम वोटों के लिए खींचतान

हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने सहारनपुर जिले की देवबंद विधानसभा सीट से मौलाना उमैर मदनी को मैदान में उतारा है, जिससे पश्चिमी उत्तर प्रदेश में मुस्लिम वोटों की लड़ाई अब और तेज हो गई है। 

मदनी परिवार से संबंध रखते हैं उमैर मदनी  

मौलाना उमैर मदनी देवबंद के एक प्रमुख मदनी परिवार से संबंध रखते हैं। उनके पिता मौलाना मसूद मदनी उत्तराखंड सरकार में पूर्व मंत्री थे, उनके चाचा मौलाना महमूद मदनी जमीयत उलमा-ए-हिंद के अध्यक्ष हैं और उनके दादा अरशद मदनी इस्लामिक मदरसा दारुल उलूम देवबंद के प्रिंसिपल हैं। परिवार का क्षेत्र में मुसलमानों पर काफी प्रभाव है। एक स्थानीय पत्रकार तौफीक कुरैशी ने कहा, विधानसभा चुनावों में मदनी परिवार के सदस्य के प्रवेश ने पश्चिमी यूपी क्षेत्र में प्रतियोगिता को दिलचस्प बना दिया है क्योंकि उनका स्थानीय लोगों पर प्रभाव है। 

सहारनपुर के आसपास मुस्लिम वोट रहेंगे निर्णायक 

सहारनपुर और आसपास के जिलों में उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला करने में मुस्लिम वोट निर्णायक है। मुस्लिम बहुल रोहिलखंड क्षेत्र में अपने उम्मीदवारों की जीत सुनिश्चित करने के लिए सपा, बसपा और एआईएमआईएम मुस्लिम वोटों के लिए होड़ कर रहे हैं। 

भारत ने जताई चिंता, कहा- आतंकवाद की साझा परिभाषा पर अभी सहमत नहीं है संयुक्त राष्ट्र

एआईएमआईएम के चुनावी महारथी जो उतरे मैदान में  

एआईएमआईएम ने संभल से मुशीर तरीन, असमोली विधानसभा सीट से शकील अशरफी, नगीना सीट से ललिता कुमार, बरहापुर सीट से मोहिउद्दीन, बिलारी सीट से खालिद जामा, नानपारा सीट से मौलाना लाइक और कुर्सी विधानसभा सीट से हाजी कुमैल अशरफ खान को मैदान में उतारा है। 

दोनों चरण पश्चिमी यूपी में हैं, बना रहा एक नया मोर्चा 

दिलचस्प बात यह है कि बहुजन समाज पार्टी भी मुस्लिम वोटों के लिए बोली लगा रही है। पार्टी ने पहले चरण में मतदान के लिए जाने वाले निर्वाचन क्षेत्रों में 16 और दूसरे चरण में 23 मुसलमानों को मैदान में उतारा है। बता दे कि दोनों चरण पश्चिमी यूपी में हैं। 

इससे पहले पिछले हफ्ते, असदुद्दीन ओवैसी ने 2022 के यूपी विधानसभा चुनावों के लिए मुसलमानों, अन्य पिछड़े वर्गों (ओबीसी) और दलितों के समर्थन वाले दलों को शामिल करते हुए एक नया मोर्चा, भागीदारी परिवर्तन मोर्चा शुरू करने की घोषणा की थी।मोर्चे में बाबू सिंह कुशवाहा के नेतृत्व वाली जन अधिकार पार्टी, वामन मेश्राम के नेतृत्व में भारत मुक्ति मोर्चा, अनिल सिंह चौहान के नेतृत्व वाली जनता क्रांति पार्टी और राम प्रसाद कश्यप के नेतृत्व वाली भारतीय वंचित समाज पार्टी शामिल हैं।