BREAKING NEWS

ऑड-ईवन योजना विस्तार पर निर्णय सोमवार को : केजरीवाल ◾कश्मीर में हालात हो रहे सामान्य, हिरासत से नेताओं को रिहा किया जाएगा, समयसीमा तय नहीं : गृह मंत्रालय ◾शिवसेना 25 सालों तक राज करेगी : संजय राउत ◾भाजपा ने कांग्रेस मुख्यालय पर लगाए नारे, राहुल ने क्या किया, देश को किया शर्मसार◾शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस सरकार कार्यकाल पूरा करेगी : पवार ◾शीतकालीन सत्र के लिए सरकार के एजेंडा में नागरिकता विधेयक ◾कश्मीर में आतंकियों एवं शहरी नक्सलियों के खिलाफ प्रभावी एवं निर्णायक कार्रवाई करे सीआरपीएफ : शाह ◾पाकिस्तान अगर भारत से अच्छे संबंध चाहता है तो वांछित भारतीय अपराधियों को सौंपे : जयशंकर ◾बाबरी मस्जिद के पास रहने वाले परिवार ने खोलीं अयोध्या विवाद की परतें ◾दिल्ली -NCR में प्रदूषण पर बैठक से सांसद गंभीर और शीर्ष अधिकारी गैरहाजिर रहे ◾दिल्ली की जिला अदालतों में वकीलों की हड़ताल खत्म ◾CJI गोगोई ने सेवानिवृत्त होने से पहले अयोध्या पर फैसले के साथ इतिहास के पन्नों में नाम दर्ज कराया ◾प्रधानमंत्री ने प्रदूषण की ‘आपात स्थिति’ पर मुख्यमंत्रियों के साथ कितनी बैठकें कीं?: कांग्रेस ◾दिल्ली में प्रदूषण से निपटने के लिए सभी एजेंसियों को साथ मिलकर काम करना होगा : जावड़ेकर ◾प्रदूषण पर संसदीय समिति की बैठक में नहीं आने पर गंभीर की सफाई◾महाराष्ट्र : चन्द्रकांत पाटिल बोले- भाजपा के पास 119 विधायकों का समर्थन, जल्दी ही सरकार बनाएंगे◾TOP 20 NEWS 15 NOV : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾प्रियंका गांधी बोली- भाजपा सरकार भी डींगें हांकने के लिए डाटा छिपाने में लगी है◾प्रदूषण को लेकर SC ने 4 राज्यों के चीफ सेक्रेटरी को किया तलब, कहा- ऑड-ईवन स्थायी समाधान नहीं◾INX मीडिया : दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज की चिदंबरम की जमानत याचिका ◾

उत्तर प्रदेश

UP : अयोध्या फिर छावनी में तब्दील, लगाई गई धारा 144, ये है वजह !

एक ओर दशहरा की हफ्ते भर की छुट्टी के बाद उच्चतम न्यायालय में अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले की सुनवाई सोमवार को अंतिम चरण में प्रवेश कर जाएगी। वही दूसरी ओर इसे देखते हुए अयोध्या में धारा 144 लगा दी गई है। बता दे कि जिलाधिकारी अनुज झा ने अयोध्या में धारा 144 लगाई है। 

हालांकि अयोध्या में आने वाले दर्शनार्थियों और दीपावली महोत्सव पर धारा 144 का कोई असर नहीं होगा। अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के पहले धारा 144 लगाई गई है। इससे पहले, उच्चतम न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा था कि आयोध्या मामले की सुनवाई 17 अक्टूबर को समाप्त होगी।

रामलला के दरबार में दीपोत्सव के आयोजन की अनुमति मांगेगा विहिप

विश्व हिन्दू परिषद (विहिप) विवादित श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के दरबार में दीपोत्सव मनाने संबंधी मांग पत्र परिसर के रिसीवर और अयोध्या के मण्डलायुक्त को सौंपेगा। 

विहिप के प्रांतीय मीडिया प्रभारी शरद शर्मा ने रविवार को बताया कि विश्व हिन्दू परिषद का एक प्रतिनिधिमण्डल सोमवार को विवादित परिसर के रिसीवर एवं अयोध्या के मंडलायुक्त मनोज मिश्र से मिलेगा और उन्हे श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के दरबार में दीपोत्सव मनाने की अनुमति देने संबंधी एक मांग पत्र सौंपेगा। 

उन्होंने बताया कि विवादित परिसर में विश्व हिन्दू परिषद दीपोत्सव मनाना चाहता है। अगर श्रीरामजन्मभूमि परिसर के रिसीवर ने दीपोत्सव मनाने की अनुमति दे दी तो रामलला के दरबार में 5100 दीप जलाने की योजना है। 

दीपोत्सव का त्यौहार पूरे देश में मनाया जाता है। प्रदेश सरकार ने यहां छोटी दीवाली यानी 26 अक्टूबर को आयोजित दीपोत्सव को प्रांतीयकृत मेला भी घोषित कर दिया है और उसके लिये बजट का आवंटन भी किया गया है। 

श्री शर्मा ने कहा कि जब पूरे अयोध्या में दीपोत्सव मनाया जा रहा है तो विवादित श्रीरामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के दरबार में क्यों नहीं दीपोत्सव मनाया जा सकता है। दीपोत्सव के आयोजन का नाता सीधे प्रभु राम से ही है इसलिये उनके जन्मस्थान पर दीपोत्सव मनाना चाहिये। 

विवादित श्रीरामजन्मभूमि के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येन्द, दास ने इस बारे में कहा कि मेक शिफ्ट स्ट्रक्चर में विराजमान रामलला के समक्ष और चारों ओर की बाहरी दीवारों पर दिये जलाये जाते हैं। लावा मिठाई इत्यादि का भोग लगाकर प्रसाद का वितरण किया जाता है लेकिन उन्हे दीवाली का कोई अतिरिक्त बजट नहीं मिलता है।

SC में अयोध्या मामले की सुनवाई 14 अक्टूबर को अंतिम दौर में प्रवेश करेगी 

उच्चतम न्यायालय में अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद मामले की सुनवाई सोमवार को अंतिम चरण में प्रवेश कर जाएगी और न्यायालय की संविधान पीठ 38 वें दिन इस मामले की सुनवाई करेगी। 

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने इस जटिल मुद्दे का सौहार्दपूर्ण हल निकालने के लिये मध्यस्थता प्रक्रिया के नाकाम होने के बाद मामले में छह अगस्त से प्रतिदिन की कार्यवाही शुरू की थी। 

इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 2014 के फैसले के खिलाफ शीर्ष न्यायालय 14 अपीलों पर सुनवाई कर रहा है। पीठ ने इस मामले में न्यायालय की कार्यवाही पूरी करने की समय सीमा की समीक्षा की थी और इसके लिए 17 अक्टूबर की सीमा तय की है। 

पीठ के सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़, न्यायामूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस ए नजीर भी शामिल हैं। 

न्यायालय ने अंतिम चरण की दलीलों के लिये कार्यक्रम निर्धारित करते हुए कहा था कि मुस्लिम पक्ष 14 अक्टूबर तक अपनी दलीलें पूरी करेंगे और इसके बाद हिंदू पक्षकारों को अपना प्रत्युत्तर पूरा करने के लिये 16 अक्टूबर तक दो दिन का समय दिया जाएगा। 

इस मामले में 17 नवंबर तक फैसला सुनाये जाने की उम्मीद है। इसी दिन प्रधान न्यायाधीश गोगोई सेवानिवृत्त हो रहे हैं।