BREAKING NEWS

भाजपा ने AAP पर साधा निशाना , कहा - फेल हो गया है केजरीवाल का दिल्ली मॉडल◾जल्द CNG और PNG के दाम होंगे कम, सरकार ने शहर गैस वितरण कंपनियों को बढ़ाई आपूर्ति◾जातिगत जनगणना के बहाने ओमप्रकाश राजभर का नीतीश सरकार पर तंज- 'जल्द साबित करिये कि आप...' ◾'उपराष्ट्रपति बनने की इच्छा' BJP के आरोपों को CM नीतीश ने नकारा, बोले- 'जिसको जो बोलना है बोलते रहें'◾SCO Summit 2022: भारत-पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की होगी मुलाकात, 6 साल बाद दिखेगा ये नजारा◾गृहमंत्रालय की गाइड लाइन्स : 15 अगस्त के कार्यक्रमों में न बजें फ़िल्मी गाने , इन नियमों का हो पालन ◾सुशील मोदी पर भड़के सीएम नीतीश, पूर्व उपमुख्यमंत्री के दावों को बताया 'बकवास'◾मप्र: जेल में बंद भाइयों को राखी बांधने पहुंची बहनें , अनुमति न मिलने पर किया चक्काजाम◾महाराष्ट्र: एकनाथ शिंदे के 'मिनी कैबिनेट' में 75 फीसदी मंत्रियों के खिलाफ दर्ज अपराधिक मामले◾ गोवा सीएम का केजरीवाल पर पलटवार, बोले- स्कूल चलाने के लिए हमें सलाह की नहीं जरूरत ◾नीतीश को अवसरवादी बताने पर तेजस्वी का भाजपा पर तंज - जो बिकेगा उसे खरीद लो है इनकी नीति ◾प्रधानमंत्री ने पीएमओ में कार्यरत कर्मचारियों की बेटियों से बंधवाई राखी, देशवासियों को दी शुभकामनायें ◾शिवसेना का बीजेपी पर प्रहार, कहा- मोदी के लिए नीतीश ने खड़ा किया तूफ़ान◾28 अगस्त को महंगाई पर 'हल्ला बोल रैली' करेगी कांग्रेस, कहा - पीएम हताश है और जनता त्रस्त ◾जगदीप धनखड़ ने उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली, राजघाट जा कर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि ◾मेस का खाना देखकर रोया कॉन्स्टेबल, बोला- मिलती हैं पानी वाली दाल और कच्ची रोटियां◾बिहार में मंत्रिमंडल को लेकर RJD की नजर 'ए टू जेड' पर, मंत्रियों की सूची पर लालू लगाएंगे अंतिम मुहर ◾बिज़नेस टाइकून एलन मस्क ने टेस्ला में अपने 80 लाख शेयर बेचे, क्या फिर करने जा रहे है बड़ा धमाका ◾राजस्‍थान : गौवंश पर कहर बनकर टूटा लम्‍पी रोग, हजारों मवेशियों की मौत के बाद पशु मेलों पर रोक◾गुरुग्राम के क्लब में बाउंसर ने की लड़की से छेड़छाड़, विरोध करने पर दोस्तों से हुई मारपीट, सात लोग गिरफ्तार◾

लखीमपुर केस : पूर्व जज की निगरानी में जांच को तैयार UP सरकार, SC ने SIT के लिए मांगे नए IPS के नाम

उत्तर प्रदेश सरकार ने लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में प्रतिदिन के आधार पर राज्य की एसआईटी जांच की निगरानी उच्चतम न्यायालय की ओर से नियुक्त पूर्व न्यायाधीश से कराने के सुझाव पर सोमवार को सहमति व्यक्त की। तीन अक्टूबर को हुई इस हिंसा में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत हो गई थी।

प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण, न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने एसआईटी जांच में छोटी रैंक के पुलिस अधिकारियों के शामिल होने के मुद्दे को भी उठाया और उत्तर प्रदेश काडर के उन भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के अधिकारियों के नाम भी मांगे जो राज्य के मूल निवासी नहीं हैं ताकि उन्हें जांच टीम में शामिल किया जा सके। पीठ ने कहा कि उसे संबंधित न्यायाधीश की सहमति भी लेनी होगी और इस सनसनीखेज मामले की निगरानी के लिए शीर्ष अदालत और उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीशों के नाम पर भी विचार करना होगा।

पीठ ने कहा कि नाम की घोषणा वह बुधवार को करेगी। वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने दलील दी कि राज्य को शीर्ष अदालत द्वारा जांच की निगरानी के लिए अपनी पसंद के पूर्व न्यायाधीश की नियुक्ति से कोई समस्या नहीं है, लेकिन वह उत्तर प्रदेश का मूल निवासी नहीं होना चाहिए यह बात मन में नहीं होनी चाहिए क्योंकि संबंधित व्यक्ति एक प्रासंगिक कारक है।

उच्चतम न्यायालय ने आठ नवंबर को जांच पर असंतोष व्यक्त करते हुए सुझाव दिया था कि जांच में 'स्वतंत्रत और निष्पक्षता' लाने के लिए, एक 'अलग उच्च न्यायालय' के एक पूर्व न्यायाधीश को दिन-प्रतिदिन आधार पर इसकी निगरानी करनी चाहिए।पीठ ने यह भी कहा था कि उसे भरोसा नहीं है और वह नहीं चाहती कि राज्य द्वारा नियुक्त एक सदस्यीय न्यायिक आयोग मामले की जांच जारी रखे। लखीमपुर खीरी जिले में तिकोनिया-बनबीरपुर मार्ग पर हुई हिंसा की जांच के लिए राज्य सरकार ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के सेवानिवृत्त न्यायाधीश प्रदीप कुमार श्रीवास्तव को नामित किया था।

वायु प्रदूषण पर अंकुश लगाने के लिए SC ने केंद्र को दिया निर्देश, मंगलवार तक मांगा एक्शन प्लान