BREAKING NEWS

ज्ञानवापी सर्वे: विवादित पोस्ट करने पर AIMIM नेता की बढ़ी मुश्किलें, पुलिस ने किया गिरफ्तार ◾CBI रेड को लेकर मांझी ने तेजस्वी पर साधा निशाना, बहन रोहिणी ने हम प्रमुख को बताया 'बिन पेंदी का लोटा'◾पेगासस मामले में SC द्वारा नियुक्त पैनल जून तक सौंपेगा रिपोर्ट, पूरी हो चुकी है 29 फोनों की जांच ◾विवादों में घिरे राज ठाकरे ने रद्द किया अयोध्या दौरा, BJP सांसद बृजभूषण ने दी थी मनसे प्रमुख को चेतावनी! ◾सिद्धू को जाना होगा जेल, सरेंडर से राहत वाली मांग पर SC ने तत्काल सुनवाई से किया इनकार ◾विजय पताका के बावजूद आज हम अधीर और बेचैन, क्योंकि..., जयपुर में BJP कार्यकर्ताओं से बोले मोदी◾World Corona : 52.39 करोड़ हुए कोविड के मामले, 11.43 अरब लोगों का हो चुका है टीकाकरण ◾बाबरी मस्जिद के पक्षकार हाजी महबूब ने ज्ञानवापी पर दी प्रतिक्रिया, बोले- मुसलमानों ने किया आंदोलन तो...◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,259 नए केस, 191.96 करोड़ दी जा चुकी है वैक्सीन ◾पिता के खिलाफ CBI की कार्रवाई से भड़कीं लालू की बेटी, जांच एजेंसी को बताया 'बेशर्म तोता'◾भर्ती घोटाला मामले में लालू यादव की बढ़ी मुश्किलें, बिहार से लेकर दिल्ली तक CBI ने 17 ठिकानों पर मारी रेड ◾MP : दलित युवक की बारात पर किया था पथराव, अब शिवराज सरकार ने घर पर चलाया बुलडोजर ◾सामना में शिवसेना का तंज, चीन द्वारा कब्जाई जमीन पर भगवान शिव, ताज महल में ढूंढ रहे हैं भक्त ◾ज्ञानवापी : जुमे की नमाज में कम से कम शामिल हों लोग, मस्जिद कमेटी की अपील◾J&K : जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर सुरंग का एक हिस्सा गिरा, 10 फंसे, जारी है रेस्क्यू ऑपरेशन ◾UP : 27 महीने बाद जेल से बाहर आए आजम खान, अखिलेश यादव ने Tweet कर किया स्वागत◾कृष्ण जन्मभूमि मामला : Court मस्जिद हटाने का अनुरोध करने वाली याचिका पर करेगी विचार ◾आज का राशिफल ( 20 मई 2022) ◾RCB vs GT ( IPL 2022 ) : कोहली के बल्ले से निकली आरसीबी की जीत और प्लेऑफ की उम्मीद◾पंजाब में कांग्रेस को पड़ी दोहरी मार : सिद्धू को एक साल की सजा, जाखड़ ने थामा भाजपा का दामन◾

यूपी : गृहमंत्री शाह कैराना में करेंगे चुनाव प्रचार, काफी सुर्खियों में था यहां पलायन का मुद्दा

उत्तर प्रदेश में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव की तैयारियों के मद्देनजर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह कैराना में प्रचार करेंगे। कैराना प्रदेश में वही स्थान है जहां पलायन का मुद्दा काफी सुर्खियों में था। शाह चुनावी प्रचार के दौरान यहां पर पलायन से लौटे परिवारों से भी मुलाकात करेंगे। बीते दिनों मुख्यमंत्री योगी ने भी पलायन से लौटे परिवारों से मुलाकात की थी और उन्हें सुरक्षित रहने का भरोसा भी दिलाया था। भाजपा ने यहां से पूर्व सांसद हुकुम सिंह की बेटी मृगांका सिंह को टिकट दिया है। कैराना के बारे में दावा किया जाता है कि सांप्रदायिक तनाव की वजह से यहां के हिंदू अपना घर बेचकर पलायन के लिए मजबूर हो गए थे। साल 2017 के विधानसभा चुनाव कैराना से पलायन एक बड़ा मुद्दा बना था। 

पलायन याद करके मेरा तो खून ही खौल उठता है : शाह 

इससे पहले पिछले वर्ष अक्टूबर में अपने लखनऊ दौरे पर अमित शाह ने एक सभा में कहा था कि, कैराना का पलायन याद करके मेरा तो खून ही खौल उठता है। इसी जनसभा में उन्होंने तंज कसा था कि पलायन कराने वालों का ही अब पलायन हो गया है। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह कैराना में सपा सरकार में पलायन कर गए और बाद में लौटकर आए व्यापारियों व परिवारों से मुलाकात करेंगे। इसके बाद गृह मंत्री बागपत और शामली जिले के पार्टी के प्रत्याशियों और नेताओं को जीत का मंत्र देंगे। इससे साफ हो रहा है कि भाजपा पश्चिमी उत्तर प्रदेश में विधान सभा चुनाव में कैराना पलायन मुद्दे को इस बार भी प्रमुखता से उठाने जा रही है। भाजपा जिलाध्यक्ष सतेंद्र तोमर ने बताया कि गृहमंत्री कैराना में मोहल्ला गुंबद स्थित 70 साल पुरानी दुकान साधु स्वीट्स पर पहुंचेंगे और वहां पर वर्ष 2014 में बदमाशों के भय से पलायन करने के बाद भाजपा सरकार में वापस लौटे साधु स्वीट्स के मालिक राकेश गर्ग व अन्य चार-पांच परिवारों से मुलाकात करेंगे। उन्होंने बताया कि इस दौरान वह अन्य लोगों से भी मुलाकात करेंगे।

कैराना के लोगों ने की थी सीएम योगी की जमकर तारीफ 

तीन महीने पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी पलायन के बाद कैराना वापस लौटे परिवारों के साथ बातचीत की थी। इस दौरान पीड़ित परिवारों और कैराना के लोगों ने योगी सरकार की जमकर तारीफ करते हुए कहा था कि भाजपा सरकार ने जो कहा था, वह कर दिखाया। भाजपा पदाधिकारियों का कहना है कि अमित शाह कैराना कस्बे के जोड़वां कुआं मोहल्ला निवासी राकेश उर्फ टीटू के घर जाएंगे। यहीं पर वह गौरव गर्ग, लोकेश कुमार, सोनाक्षी मित्तल, रमन गर्ग और राजकुमार सिंघल के परिवार वालों से भी मुलाकात करेंगे। इसके बाद वह वैश्य धर्मशाला में भी कुछ लोगों से बात करेंगे। बीजेपी पदाधिकारियों ने बताया कि, अपनी यात्रा के दौरान गृहमंत्री कैराना के सभी लोगों को भरोसा दिलाएंगे कि अब उन्हें गुंडे-बदमाशों से भयभीत होने की जरूरत नहीं है। अब यहां के लोगों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा पाएगा। 

सीएम योगी ने दिया था जिले के लोगों को भरोसा 

कैराना के पलायन पीड़ितों से मिलने के लिए योगी आदित्यनाथ नवंबर में यहां आए थे। यहां एक बच्ची को अपने बगल में बैठाकर मुख्यमंत्री ने पूछा था कि अब डर तो नहीं लगता। इसपर बच्ची ने कहा था कि जब आप हैं तो डर कैसा। वहीं बैठे स्वतंत्र देव ने कहा था कि बाबा के बगल में बैठी हो, अब बिल्कुल डरने की जरूरत नहीं है। यह दृश्य बताता है कि मुख्यमंत्री ने किस तरह इन पीड़ित परिवारों में भरोसा जगाया था कि अब प्रदेश में केवल कानून का राज है। गौरतलब है कि गत नवंबर माह में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव, कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा, क्षेत्रीय अध्यक्ष मोहित बेनिवाल और सांसद प्रदीप चैधरी ने मूला पंसारी के पोते विजय मित्तल के घर पर भोजन भी किया था और पलायन से लौटकर आए लोगों के परिवार वालों से बात की थी। योगी ने उस समय पीड़ितों के स्वजन और जनसभा के दौरान पूरे जिले के लोगों को भरोसा दिलाया था कि अब कैराना में पलायन नहीं होगा और गुंडे-बदमाशों के लिए कैराना ही नहीं पूरे प्रदेश में कोई जगह नहीं है।