BREAKING NEWS

कांग्रेस के नेतृत्व वाली विपक्षी दलों ने Adani group के मामले में JPC जांच की मांग की◾मनीष सिसोदिया ने कहा- LG वीके सक्सेना के दखल की वजह से दिल्ली सरकार शिक्षकों को प्रशिक्षण के लिए विदेश नहीं भेज पा रही◾पाकिस्तान में बलूचिस्तान के लासबेला में भूकंप के झटके महसूस किए गए◾बिहार में बड़ा रेल हादसा : दो हिस्सों में बटी सत्याग्रह एक्सप्रेस, बाल-बाल बचे यात्री◾अडानी पर हमलावर हुआ विपक्ष, पवन खेड़ा ने कहा- PM मोदी ने एक गुब्बारा फुलाया और वो फुस्स हो गया◾ईंट निर्माता संघ ने उठाया बड़ा कदम, बिहार के 450 सरकारी विद्यालयों में लड़कियों के लिए बनवाएगा शौचालय◾CM शिवराज ने दिया संकेत, केंद्रीय बजट की तर्ज पर बनेगा मध्य प्रदेश का बजट◾पाकिस्तान: इमरान समर्थकों के खिलाफ कार्रवाई तेज, पूर्व मंत्री शेख राशिद गिरफ्तार◾AAP ने LG सक्सेना पर टीचर्स को विदेश भेजने से रोकने का लगाया आरोप, कहा- फाइल अक्टूबर से पड़ी है पेंडिंग ◾Iran ने ड्रोन हमले के लिए इजराइल को जिम्मेदार ठहराया, जवाबी कार्रवाई की धमकी दी◾Budget 2023: वित्त मंत्री ने किया ऐलान, कहा- सिगरेट, सोना-चांदी महंगा, मोबाइल पार्ट्स-LED टीवी होंगे सस्ते ◾ममता बनर्जी बोलीं- भाजपा कुछ नेताओं के फायदे के लिए LIC, राष्ट्रीयकृत बैंकों के पैसे का कर रही इस्तेमाल ◾उत्तर प्रदेश : रामपुर में निर्वस्त्र महिला ने फैलाया खौफ, रातभर जागने पर मजबूर हुए लोग, जांच में जुटी पुलिस◾मनीष के साथ भागी मुस्लिम युवती...परिवार ने लगाए गंभीर आरोप, लड़की ने वीडियो जारी कर पलटवार किया ◾अखिलेश यादव को मुरादाबाद में Plane Landing की नहीं मिली अनुमति, सपा ने कहा- बेहद निंदनीय एवं अलोकतांत्रिक कृत्य◾प्रयागराज पहुंचे धीरेंद्र शास्त्री , बागेश्वर धाम में करेंगे 121 कन्याओं का विवाह ◾बलात्कार के आरोपी आसाराम को एक और मामले में उम्र कैद, जानें उस रात की पुरी कहानी◾स्वीडन को नाटो के लिए मंजूरी नहीं देगा तुर्की, जानिए क्या है पूरा मामला ◾धीरेंद्र शास्त्री ने स्वामी प्रसाद मौर्य को दिया जवाब, कहा- रामचरितमानस का विरोध करने वालों को भारत में रहने का अधिकार नहीं◾असम : G-20 बैठक की हुई शुरुआत, सतत वित्तीय समाधान पर होगी चर्चा◾

ज्ञानवापी मस्जिद मामले में आज नहीं आएगा कोर्ट का फैसला, जानें क्यों?

उत्तर प्रदेश के वाराणसी स्थित ज्ञानवापी मस्जिद मामले में आज वाराणसी की एक फास्ट ट्रैक कोर्ट का फैसला नहीं आएगा। जज के छुट्टी पर होने के चलते मामले में अगली सुनवाई के लिए 14 नवंबर की तारीख दी गई है। याचिका में मस्जिद के परिसर में पाए गए कथित शिवलिंग की पूजा करने की अनुमति मांगी गई है।

हिंदू पक्ष के वकील अनुपम द्विवेदी ने बताया कि ज्ञानवापी मस्जिद मामले में आज जो आदेश आना था वो जज साहब की छुट्टी पर होने की वजह से नहीं आ पाया। अगली तारीख 14 नवंबर की दी गई है। हम उम्मीद करते हैं कि उस दिन आदेश आ जाएगा।

याचिका में शिवलिंग की पूजा-अर्चना की मांग

किरन सिंह बिसेन द्वारा दायर याचिका में वजूखाने में मिले कथित भगवान आदि विश्वेश्वर के स्वयंभू ज्योतिर्लिंग की पूजा-अर्चना शुरू करवाने, पूरा ज्ञानवापी परिसर हिंदुओं को सौंपा जाए और वहां मुस्लिमों का प्रवेश प्रतिबंधित करने की मांग की गई। इस मांग को मसजिद कमेटी ने चुनौती दी है। उसने ऑर्डर 7 रूल 11 के तहत केस पर सवाल उठाया है।

कोर्ट ने इस मामले में 27 अक्टूबर को दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने क बाद फैसला सुरक्षित कर लिया था। आज इसपर फैसला आना था कि हिंदू वादी का केस चलने लायक है या नहीं। अगर कोर्ट का फैसला किरन सिंह बिसेन के पक्ष में आता है, तो मसजिद कमेटी इसे हाईकोर्ट में चुनौती दे सकेगी। ज्ञानवापी मस्जिद के बारे में हिंदू पक्ष का दावा है कि मुगल बादशाह औरंगजेब के आदेश पर यहां पहले बने आदि विश्वेश्वर के भव्य मंदिर को ध्वस्त कर दिया गया था। हिंदू पक्ष के मुताबिक यहां मंदिर की दीवारों पर ही मस्जिद बना दी गई।

कोर्ट के आदेश पर हुआ था सर्वे 

मस्जिद में कोर्ट के आदेश पर सर्वे भी हुआ था। सर्वे से पता चला था कि मस्जिद में कई जगह हिंदू देवी-देवता और प्रतीक चिन्ह हैं। मस्जिद के गुंबदों के भीतर भी पिरामिड जैसे पुराने गुंबद होने की जानकारी मिली थी। साथ ही वजूखाने में शिवलिंग जैसी आकृति भी सर्वे के दौरान पता चली थी। हिंदू इसे भगवान विश्वेश्वर का ज्योतिर्लिंग बता रहे हैं। वहीं, मस्जिद कमेटी इसे फव्वारा कह रही है।