BREAKING NEWS

पंचतत्व में विलीन हुए पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार चोपड़ा◾BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का निगम बोध घाट में हुआ अंतिम संस्कार◾अश्विनी कुमार चोपड़ा - जिंदगी का सफर, अब स्मृतियां ही शेष...◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾

चिन्मयानंद मामले में पीड़िता के परिवार ने SIT पर लगाया प्रताड़ना का आरोप

स्वामी चिन्मयानंद से जुड़े शाहजहांपुर दुष्कर्म मामले में पीड़िता के परिवार के सदस्यों ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में 15 पृष्ठों का एक हलफनामा दाखिल कर विशेष जांच दल (एसआईटी) पर शारीरिक तौर पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। पीड़ित परिवार ने जांच टीम पर अविश्वास भी जताया है। 

दुष्कर्म पीड़िता के भाई द्वारा दायर हलफनामे में आरोप लगाया गया है कि एसआईटी उन्हें शारीरिक और मानसिक तौर पर प्रताड़ित कर रही है, साथ ही उनके परिवार के सभी सदस्यों को झूठे मामलों में फंसाने की धमकी भी दी जा रही है। शाहजहांपुर में 1 नवंबर को एसआईटी कार्यालय में मां, पिता और भाई के कथित तौर पर शारीरिक शोषण करने के बाद यह परिवार भयवश भूमिगत हो गया था। 

छिपे हुए परिवार से मिलने के बाद ऑल इंडिया डेमोक्रेटिक वीमेंस एसोसिएशन (एआईडीडब्ल्यूए) की प्रदेश अध्यक्ष मधु गर्ग ने कहा कि परिवार बेहद डरा हुआ है और सीआरपीएफ सुरक्षा की मांग कर रहा है, क्योंकि उन्हें अब पुलिस पर जरा भी भरोसा नहीं है। उत्तर प्रदेश महिला संगठनों का एक संयुक्त प्रतिनिधिमंडल जल्द ही राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मुलाकात कर पीड़ित परिवार की मांगों को उनके सामने रखेगा। 

साथ ही वे एफआईआर और चार्जशीट में धारा 376 को भी जोड़ने की मांग करेंगे। इन मांगों में चिन्मयानंद को शिक्षण संस्थानों के मैनेजमेंट से हटाना भी शामिल है। पीड़ित परिवार ने गर्ग को बताया कि 1 नवंबर को उन्हें शाहजहांपुर पुलिस लाइंस स्थित एसआईटी कैंप ऑफिस में बुलाया गया था। वहां उन पर यह स्वीकार करने का दबाव बनाया जा रहा था कि चिन्मयानंद से जबरन वसूली करने में पूरा परिवार शामिल था। 

जब उन्होंने यह मानने से मना कर दिया तो उनके साथ गाली-गलौज की गई और जेल में बंद करने की धमकी दी गई। वहीं 2 नवंबर को दुष्कर्म पीड़िता की मां ने सुप्रीम कोर्ट के प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और इलाहाबाद हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश को एक आवेदन सौंपा था, जिसमें एसआईटी के प्रमुख निरीक्षक नवीन अरोड़ा और अन्य सदस्यों के हाथों उन्हें प्रताड़ित किए जाने का विवरण दिया गया था।