BREAKING NEWS

जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾कृषि कानूनों की वापसी का बिल लोकसभा में हुआ पारित, टिकैत बोले- यह तो होना ही था... आंदोलन रहेगा जारी ◾बिना चर्चा कृषि कानून बिल वापसी को विपक्ष ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन, मिला ये जवाब ◾प्रदूषण के मद्दे पर SC ने अपनाया सख्त रुख, कहा- राज्य दिशानिर्देश नहीं मानेंगे, तो हम करेंगे टास्क फोर्स का गठन ◾कांग्रेस का केंद्र पर निशाना -बिल वापसी नहीं हुई चर्चा क्योंकि सरकार को हिसाब और जवाब देना पड़ता◾पीएम मोदी ने निभाया किसानों को दिया वादा, लोकसभा में हंगामे के बीच पास हुआ कृषि कानून वापसी बिल ◾प्रधानमंत्री मोदी की अपील का नहीं हुआ विपक्ष पर असर, हंगामेदार हुई दोनों सदनों की शुरुआत ◾

अफगानिस्तान में जो हो रहा है, वो भारत के लिए ठीक नहीं , सिर्फ पाकिस्तान को ही फायदा होगा : ओवैसी

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि अफगानिस्तान में जो तब्दीली आयी है वह भारत के लिये सही नहीं हैं और काबुल में हो रहे घटनाक्रम से पाकिस्तान को ही फायदा होने वाला है। उत्तर प्रदेश में अगले साल के शुरू में होने जा रहे विधानसभा चुनावों के लिए अपनी पार्टी के अभियान की शुरूआत करने यहां आए ओवैसी ने मंगलवार को यह भी कहा कि इन चुनावों में उनकी पार्टी सौ सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी तथा सभी वर्गों के लोगों को टिकट दिया जाएगा। 

अफगानिस्तान के घटनाक्रम पर यह पूछे जाने पर, ओवैसी ने संवाददाताओं से कहा ‘‘ भारत के आयकर दाताओं के 35 हजार करोड़ रूपये अफगानिस्तान के विकास कार्यों में लगे हैं । इन विकास कार्यों में पुल तथा वहां की संसद का निर्माण शामिल है। पिछले बीस सालों में हमने वहां के 16 हजार लोगों को अपने यहां पढ़ा कर डॉक्टर इंजीनियर बनाया । सरकार की बुलाई सर्वदलीय बैठक में मैंने यह पूछा था कि क्या तालिबान एक आतंकवादी संगठन हैं ? अगर है तो संयुक्त राष्ट्र में भारत प्रतिबंध समिति के अध्यक्ष उसे क्या आतंकी संगठन की सूची में रखेंगे या नहीं ? क्या उसे गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम कानून में आतंकवादी गुट के रूप में शामिल किया जाएगा ? सरकार को इन सवालों के जवाब देना चाहिए।’’ उन्होंने कहा ‘‘ मेरा मानना है कि अफगानिस्तान में जो तब्दीली आयी है वह भारत के लिये ठीक नही हैं । जो अफगानिस्तान में हुआ हैं और होने जा रहा हैं उससे सिर्फ और सिर्फ पाकिस्तान को ही फायदा होगा । इससे हमारे लिये भविष्य में चुनौतियां पैदा हो सकती हैं।’’ 

ओवैसी ने आरोप लगाया कि समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने मुस्लिमों के वोट लेने के बावजूद उनको सत्ता में पर्याप्त हिस्सेदारी नहीं दी। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी आगामी उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में करीब 100 सीटों पर चुनाव लड़ेगी और सभी वर्गों के लोगों को टिकट देंगी । उन्होंने आज, कई आपराधिक मामलों में जेल में बंद, इलाहाबाद के फूलपुर के पूर्व सांसद और माफिया अतीक अहमद, उनकी पत्नी शायस्ता परवीन तथा उनके परिवार के सदस्यों को एआईएमआईएम की सदस्यता दिलाई । अतीक अहमद स्वयं मौजूद नहीं थे लेकिन उन्होंने एक पत्र के माध्यम से पार्टी की सदस्यता ली । उनकी पत्नी शायस्ता परवीन और उनके परिवार के लोग कार्यक्रम में मौजूद थे । 

रैली से पहले ओवैसी ने संवाददाताओं से कहा कि उत्तर प्रदेश के मुसलमानों के लिए नेतृत्व हिस्सेदारी की बात की जाए तो सांप्रदायिकता बढ़ने का तर्क दिया जाता है। उन्होंने कहा ‘‘सपा बसपा ने मिलकर चुनाव लड़ा, फिर भी भाजपा जीत गयी । मुसलमानों ने आपको झोली भर भर कर वोट दिया, फिर कहां गया वह वोट, बदले में उन्हें क्या मिला ?'' ओवैसी ने कहा ''हम सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी तथा कई अन्य दलों के साथ हैं, हमारे साथ दलित और पिछड़ा वर्ग के लोग हैं । हमारी पार्टी सौ सीटों पर चुनाव लड़ेगी ।'' हिंदुओं को टिकट दिये जाने के सवाल पर उन्होंने कहा ‘‘ ओबीसी भी हमारे भाई हैं, दलित समाज के लोगों को टिकट भी देंगे और वह जीतेंगे ।’’ 

माफिया अतीक अहमद को पार्टी में शामिल किये जाने पर ओवैसी ने कहा '' उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी के 37 प्रतिशत विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामले हैं । भाजपा के 116 सासंदों के खिलाफ आपराधिक मामले हैं । ’’ 

जाति आधारित जनगणना के सवाल पर ओवैसी ने कहा कि देश में जाति आधारित जनगणना होनी चाहिये और अन्य पिछड़ा वर्ग की आबादी पता करना चाहिये । गौरतलब हैं कि पांच बार के विधायक और एक बार सांसद रह चुके अतीक अहमद के खिलाफ हत्या, अपहरण, अवैध खनन, रंगदारी, धमकी और धोखाधड़ी समेत 90 से अधिक आपराधिक मामले हैं। वह इस समय गुजरात की जेल में बंद हैं। 2019 में उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर उन्हें उत्तर प्रदेश से वहां स्थानांतरित किया गया था । 

अतीक अहमद को एआईएमआईएम में शामिल होने पर भारतीय जनता पार्टी के कन्नौज से सांसद सुब्रत पाठक ने कड़ी प्रतिक्रिया दी हैं । उन्होंने एक ट्वीट में कहा ''पहले अयोध्या से चिढ़ कर पुराना नाम फैजाबाद इस्तेमाल करना और अब संप्रदाय के नाम पर अतीक अहमद जैसे दुर्दांत अपराधी को संरक्षण देते हुये उसकी पत्नी को एआईएमआईएम में शामिल करना ओवैसी की मानसिकता को दर्शाता है। लेकिन उत्तर प्रदेश में ऐसी मानसिकता पनपने नहीं दी जाएगी।’’