BREAKING NEWS

झारखंड में रविवार को राजनाथ सिंह और स्मृति ईरानी की चुनाव सभाएं◾सोनिया ने रविवार को बुलाई संसदीय रणनीति समूह की बैठक, नागरिकता विधेयक पर होगी चर्चा ◾PM मोदी ने वैज्ञानिकों का कम लागत वाली प्रौद्योगिकियों के विकास का किया आह्वान ◾NIA ने आईएसआईएस 2 संदिग्धों के खिलाफ आरोप पत्र किया दायर◾उन्नाव दुष्कर्म पीड़िता ने मरने से पहले कहा-'मुझे बचाओ, मैं मरना नहीं चाहतीं' ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता युवती का शव उसके गांव लाया गया ◾राम मंदिर के ट्रस्ट में संघ प्रमुख भागवत को नहीं होना चाहिए : विहिप◾मेरी मानसिक ताकत तोड़ना चाहती है केंद्र सरकार : चिदंबरम ◾भारत की पहचान 'दुष्कर्म राजधानी' के रूप में बन गई है : राहुल◾TOP 20 NEWS 7 DEC : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का नारा 'अबकी बार, तीन पार' होगा : केजरीवाल◾एनआरसी के खिलाफ कल जंतर-मंतर पर प्रदर्शन करेगी पार्टी : संजय सिंह◾राकांपा नेता उमाशंकर यादव बोले- नैतिकता के आधार पर तत्काल इस्तीफा दें CM योगी◾बलात्कारी के लिए मृत्युदंड से सख्त सजा कुछ नहीं हो सकती, पालक भी जिम्मेदारी समझें : स्मृति ईरानी◾CM केजरीवाल ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता की मौत को बताया शर्मनाक, ट्वीट कर कही ये बात ◾बलात्कार की घटनाओं पर स्वत: संज्ञान लें सुप्रीम कोर्ट : मायावती◾PM मोदी, अमित शाह और अजीत डोभाल पुणे में शीर्ष पुलिस अधिकारियों के सम्मेलन में हुए शामिल ◾केरल में बोले राहुल गांधी- महिलाओं के खिलाफ हिंसा और ज्यादतियों में हुई बढ़ोतरी◾सशस्त्र सेना झंडा दिवस के अवसर PM मोदी ने लोगों से किया अनुरोध, बोले- सशस्त्र बल के कल्याण के लिए योगदान दें◾उन्नाव रेप पीड़िता की मौत के विरोध में BJP मुख्यालय पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, पुलिस ने किया लाठीचार्ज◾

उत्तर प्रदेश

चाणक्य ने नंदवंश को उखाडने तो अमित शाह ने कांग्रेस मुक्त भारत बनाने का लिया संकल्प : CM योगी

 cm yogi

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को कहा कि भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर आदि शंकराचार्य, चाणक्य, सावरकर और मोदी की छाप है और जिस तरह भारत की गुलामी का कारण बने नंद वंश को उखाडने का संकल्प चाणक्य ने लिया था कांग्रेस मुक्त भारत बनाने का संकल्प शाह ने लिया है। 

योगी ने यहां लोकभवन में ‘अमित शाह और भाजपा की यात्रा’ पुस्तक पर आयोजित परिचर्चा में लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि अमित शाह के जीवन में चार महापुरुषों की छाप देखने को मिलती है। उनमें आदि शंकराचार्य की साधना, आचार्य चाणक्य की नीति, वीर सावरकर का राष्ट्रवाद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की राष्ट्र के प्रति प्रतिबद्धता का भाव है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि आदि शंकराचार्य की सांस्कृतिक विरासत को संभालने का भाव अमित शाह में है। उन्होंने कहा, ''भारत की गुलामी का कारण बने नंदवंश को उखाड़ फेकने का संकल्प चाणक्य ने लिया था और कांग्रेस मुक्त भारत बनाने का संकल्प अमित शाह ने लिया।'' योगी ने कहा कि अन्य दलों ने देश की कीमत पर राजनीति की। भारतीय जनसंघ अकेला दल था, जिसने कहा कि दल से बड़ा देश है। 

1976 में लोकतंत्र को बचाने के लिए जनसंघ ने जनता पार्टी में अपना विलय किया था। उन्होंने कहा कि जनता पार्टी जब स्थिति नहीं संभाल पाई, तो 1980 में भारतीय जनता पार्टी ने अपनी यात्रा प्रारम्भ की जिसने अपने सिद्धान्तों से समझौता किए बिना मात्र 16 वर्ष में देश में अपनी पहली सरकार बनाई। उन्होंने कहा कि सबका साथ सबका विकास का नारा सनातन धर्म की मूल भावना ‘’सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया’’ को प्रकट करने वाला है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी की यात्रा से दो नेता निकले हैं। पहला प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और दूसरा भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह हैं। मोदी ने आज देश ही नहीं, बल्कि दुनिया में एक लोकप्रिय नेता के रूप में अपना विशिष्ट स्थान बनाया है। 

अमित शाह की यात्रा बूथ अध्यक्ष से प्रारम्भ होकर आज भारत के गृहमंत्री के रूप में देखने को मिलती है। कोई व्यक्ति अचानक बड़ा व्यक्तित्व नहीं बन जाता है। उस व्यक्ति का समाज, लोकतंत्र एवं राष्ट्र के लिए भाव और अंत:करण क्या है यह समझने की आवश्यकता है। योगी ने कहा, ''लोकसभा उपचुनाव में निराशाजनक हार के बाद मैं राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के पास गया था। 

महागठबंधन के विषय में उनसे चर्चा की, तब उन्होंने कहा था कि सपा, बसपा या जो भी दल महागठबंधन में शामिल होना चाहते हैं, हो जाएं यह सब गायब हो जाएंगे, विपरीत से विपरीत परिस्थितियों में भी भारतीय जनता पार्टी उत्तर प्रदेश में बड़ी जीत दर्ज करेगी। बस आप परिश्रम करते रहिए, क्योंकि परिश्रम का कोई विकल्प नहीं होता।'' 

योगी ने कहा कि शाह रात में दो बजे सोते थे, सुबह छह बजे प्रचार के लिए निकल जाते थे। उनमें परिश्रम की पराकाष्ठा का भाव है जिसका परिणाम आज सबके सामने है। इस दौरान कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, संगठन महामंत्री सुनील बंसल, पुस्तक के दोनों लेखक श्यामा प्रसाद मुखर्जी फाउंडेशन के निदेशक अनिर्बान गांगुली और सीनियर रिसर्च फेलो शिवानंद द्विवेदी मौजूद रहे।