BREAKING NEWS

28 अगस्त को महंगाई पर 'हल्ला बोल रैली' करेगी कांग्रेस, कहा - पीएम हताश है और जनता त्रस्त ◾जगदीप धनखड़ ने उपराष्ट्रपति पद की शपथ ली, राजघाट जा कर महात्मा गांधी को दी श्रद्धांजलि ◾मेस का खाना देखकर रोया कॉन्स्टेबल, बोला- मिलती हैं पानी वाली दाल और कच्ची रोटियां◾बिहार में मंत्रिमंडल को लेकर RJD की नजर 'ए टू जेड' पर, मंत्रियों की सूची पर लालू लगाएंगे अंतिम मुहर ◾बिज़नेस टाइकून एलन मस्क ने टेस्ला में अपने 80 लाख शेयर बेचे, क्या फिर करने जा रहे है बड़ा धमाका ◾राजस्‍थान : गौवंश पर कहर बनकर टूटा लम्‍पी रोग, हजारों मवेशियों की मौत के बाद पशु मेलों पर रोक◾गुरुग्राम के क्लब में बाउंसर ने की लड़की से छेड़छाड़, विरोध करने पर दोस्तों से हुई मारपीट, सात लोग गिरफ्तार◾ताइवान के खिलाफ चीन की 'आक्रामकता' पर ब्रिटेन सख्त, उठाया ये कदम ◾जम्मू कश्मीर में आतंकी हमला, सेना कैंप में घुस रहे 2 आतंकी ढेर, 3 जवान शहीद◾आज का राशिफल (11 अगस्त 2022)◾हर घर तिरंगा अभियान : शौर्य चक्र से सम्मानित सिपाही औरंगजेब की मां ने अपने घर पर फहराया 'तिरंगा'◾दिल का दौरा पड़ने के बाद राजू श्रीवास्तव एम्स में भर्ती , वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखे गए◾माकपा ने 'मुफ्त उपहार' वाले बयान को लेकर PM मोदी पर निशाना साधा◾कांग्रेस ने महाराष्ट्र मंत्रिमंडल में संजय राठौर को शामिल किए जाने को लेकर BJP पर साधा निशाना◾High Court में जनहित याचिका : याददाश्त खो चुके हैं सत्येंद्र जैन, विधानसभा और मंत्रिमंडल से अयोग्य घोषित किया जाए◾केजरीवाल ने गुजरात में सत्ता में आने पर महिलाओं को 1000 रुपये मासिक भत्ता देने का किया ऐलान ◾ISRO ने गगनयान से जुड़ा LEM परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा किया◾Corbevax Corona Vaccine : केंद्र सरकार ने वयस्कों को कॉर्बेवैक्स की बूस्टर खुराक देने को दी मंजूरी ◾भारत के अतीत, वर्तमान के लिए प्रतिबद्धता और भविष्य के सपनों को झलकाता है तिरंगा : PM मोदी◾ हिमाचल में भी खिसक सकती हैं भाजपा की सरकार ! कांग्रेस ने विधानसभा में लाया अविश्वास प्रस्ताव ◾

क्यों विवादों में घिरे हैं ताजमहल के 22 कमरे... किन कारणों से किए बंद? इलाहाबाद HC तक पहुंचा मामला

भारत के 7 अजूबों में से एक माना जाने वाला आगरा का ताजमहल, वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद-काशी विश्वनाथ मंदिर विवाद के बीच एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। दरअसल, इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ पीठ में एक याचिका दायर कर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को आगरा में ताजमहल के अंदर 22 कमरों की जांच करने और खोलने का निर्देश देने की मांग की गई है ताकि यह पता लगाया जा सके कि इन कमरों में हिंदू मूर्तियां और शिलालेख छिपे हैं या नहीं? भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के अयोध्या जिले के मीडिया प्रभारी डॉ रजनीश सिंह ने याचिका दायर की है जिस पर सुनवाई अभी नहीं हुई है। 

ताजमहल के 22 कमरों में हो सकती है हिंदू भगवानों की प्रतिमा?

भाजपा नेता के मुताबिक,“ताजमहल में करीब 22 कमरे हैं जिन्हें बंद रखा गया है, इन कमरों में किसी को जाने की इजाजत नहीं है। ऐसा माना जाता है कि इन कमरों में हिंदू देवताओं की मूर्तियां हैं।" उन्होंने कहा, 'मैंने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर एएसआई को फैक्ट का पता लगाने के लिए इन कमरों को खोलने का निर्देश देने की मांग की है। मुझे नहीं लगता इन कमरों को खोलने और सभी विवादों को शांत करने में किसी को कोई परेशानी हो सकती है।”

भाजपा नेता ने अदालत से एक समिति गठित करने का निर्देश देने की भी मांग की है जो इन कमरों की जांच करेगी और वहां हिंदू मूर्तियों या शास्त्रों से संबंधित किसी भी सबूत की तलाश करेगी। रजनीश सिंह ने कहा कि वह सूचना के अधिकार अधिनियम (आरटीआई) के माध्यम से 2020 से ताजमहल के 22 बंद कमरों के बारे में तथ्यों का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं।

2020 में रजनीश सिंह ने आरटीआई दायर कर मांगा जवाब

बता दें कि रजनीश सिंह ने इससे पहले 2020 में केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय में एक आरटीआई दायर कर बंद कमरों के बारे में जानकारी मांगी थी। उन्होंने कहा कि “2020 से मैं ताजमहल के बंद कमरों के बारे में फैक्ट का पता लगाने की कोशिश कर रहा हूं। मैंने आरटीआई दाखिल की थी। आरटीआई के जवाब में केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने केंद्रीय सूचना आयोग को सूचित किया कि इन कमरों को सुरक्षा कारणों से बंद कर दिया गया था और इन कमरों के बारे में कोई विवरण नहीं दिया गया था।

रजनीश सिंह ने कहा, "आरटीआई में, मैंने बंद कमरों को खोलने के निर्देश के बारे में विवरण मांगा था।" उन्होंने कहा, "जब मेरे सभी प्रयास विफल हो गए तो मैंने लखनऊ हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और सरकार को इन कमरों को खोलने और यह पता लगाने के लिए एक समिति गठित करने का निर्देश देने की मांग की ।"

जानें कैसे शुरू हुआ ताजमहल को लेकर यह विवाद 

बता दें कि आगरा के ताजमहल को मोहब्बत का प्रतीक माना जाता है, इसके इतिहास में झांक कर देखा जाये तो  ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज की याद में बनवाया था। यमुना के किनारे सफेद संगमर्मर और इस्लामी वास्तुकला की अनोखी शैली के इस्तेमाल से इसे बनवाया गया था। जितनी खूबसूरती से इस महल को बनाया गया है इसपर उतने ही विवाद भी उठते रहे हैं। अक्सर ताजमहल को तेजोमहल और हिंदू समुदाय के लिए आस्था का केंद्र बताया जाता है। बता दें कि ताजमहल को लेकर यह विवाद एक किताब के कारण शुरू हुआ। 

दरअसल, इतिहासकार पीएन ओक की किताब 'ट्रू स्टोरी आफ ताज' के अंदर ताजमहल में शिव मंदिर से संबंधित कई दावे किये गए हैं। कुछ इतिहासकारों का दावा है कि ताजमहल में मुख्य मकबरे व चमेली फर्श के नीचे 22 कमरे बने हैं, जिन्हें बंद कर दिया गया है और अपनी याचिका में भाजपा नेता ने इन्हीं 22 कमरों को खोलकर जांच करने की मांग की है।