BREAKING NEWS

चरणजीत सिंह चन्नी को मुख्यमंत्री चुने जाने पर बीजेपी ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा- बहुत बढ़िया राहुल ◾चरणजीत सिंह चन्नी को राहुल और अमरिंदर ने दी बधाई, बोले- उम्मीद करता हूं कि पंजाब को सुरक्षित रख सकेंगे◾UP : सलमान खुर्शीद बोले- आगामी चुनाव में जनता नफरत और बंटवारे की राजनीति करने वालों को घर बिठाएगी◾पंजाब के राज्यपाल से मिले चरणजीत सिंह चन्नी, कल सुबह 11 बजे लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ◾चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, रंधावा ने हाईकमान के फैसले का किया स्वागत◾महबूबा मुफ्ती ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- वोट लेने के लिए पाकिस्तान का करती है इस्तेमाल ◾आतंकियों की नापाक साजिश होगी नाकाम, ड्रोन के लिए काल बनेगी ‘पंप एक्शन गन’! सरकार ने सुरक्षा बलों को दिए निर्देश◾TMC में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने रखी दिल की बात, बोले- जिंदगी ने मेरे लिए नया रास्ता खोल दिया है ◾सिद्धू पर लगे एंटीनेशनल के आरोपों पर BJP का सवाल, सोनिया और राहुल चुप क्यों हैं?◾सुखजिंदर रंधावा हो सकते पंजाब के नए मुख्यमंत्री, अरुणा चौधरी और भारत भूषण बनेंगे डिप्टी सीएम◾इस्तीफा देने से पहले सोनिया को अमरिंदर ने लिखी थी चिट्ठी, हालिया घटनाक्रमों पर पीड़ा व्यक्त की◾सिद्धू के सलाहकार का अमरिंदर पर वार, कहा-मुझे मुंह खोलने के लिए मजबूर न करें◾पंजाब : मुख्यमंत्री पद की रेस में नाम होने पर बोले रंधावा-कभी नहीं रही पद की लालसा◾प्रियंका गांधी का योगी पर हमला, बोलीं- जनता से जुड़े वादों को पूरा करने में असफल क्यों रही सरकार ◾पंजाब कांग्रेस की रार पर बोली BJP-अमरिंदर की बढ़ती लोकप्रियता के डर से लिया गया उनका इस्तीफा◾कैप्टन के भाजपा में शामिल होने के कयास पर बोले नेता, अमरिंदर जताएंगे इच्छा, तो पार्टी कर सकती है विचार◾कौन संभालेगा पंजाब CM का पद? कांग्रेस MLA ने कहा-अगले 2-3 घंटे में नए मुख्यमंत्री के नाम का होगा फैसला◾पंजाब में हो सकती है बगावत? गहलोत बोले-उम्मीद है कि कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे कैप्टन ◾CM योगी ने साढ़े चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर गिनाईं अपनी सरकार की उपलब्धियां◾राहुल ने ट्वीट किया कोरोना टीकाकरण का ग्राफ, लिखा-'इवेंट खत्म'◾

UP विधानसभा चुनावों की उलटी गिनती की शुरुआत के साथ ही राजनीति में 'अब्बा जान' और तालिबान बने अहम मुद्दे

अगले साल की शुरूआत में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों की उलटी गिनती शुरू हो गई है। इसी के साथ ही राज्य में शासन और विकास जैसे मुद्दे पीछे हट रहे हैं और 'अब्बा जान' और तालिबान जैसे मुद्दे उत्तर प्रदेश में नए चुनावी मुद्दे के रूप में उभर रहे हैं। राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कहा था कि 2017 से पहले, 'अब्बा जान' कहने वाले लोग गरीबों के लिए भेजा गया मुफ्त राशन खा जाते थे और भ्रष्टाचार में लिप्त होकर गरीबों के लिए सरकारी नौकरियों पर कब्जा कर लेते थे।

इस भाषण के बाद सीएम योगी अदित्यनाथ के खिलाफ विपक्ष ने जमकर हमला बोला। उन्होंने इस भाषण पर आपत्ति जताते हुए कहा कि 'अब्बा जान' शब्द पिता के प्रेम के तौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द है। इसको लेकर भाजपा राजनीति कर रही है। हालांकि मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में किसी विशेष पार्टी का नाम नहीं लिया था, लेकिन यह स्पष्ट था कि वह समाजवादी पार्टी का जिक्र कर रहे थे क्योंकि उन्होंने पहले एक टीवी कार्यक्रम में समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव को 'अब्बा जान' कहा था।

मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि अखिलेश यादव जैसे नेता पहले अपने मुस्लिम वोट-बैंक को ठेस पहुंचाने के डर से मंदिरों में नहीं जाते थे।समाजवादी पार्टी के सांसद शफीकुर-रहमान बरक द्वारा तालिबान को 'स्वतंत्रता सेनानी' कहे जाने के बाद तालिबान को कथा में जोड़ा गया। वहीं इस मामले पर जमकर राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस नेता कह रहे हैं कि भाजपा नेता अपने हिंदू वोट बैंक को मजबूत करने के लिए उनकी टिप्पणी का उल्लेख कर रहे हैं।

हांलांकि, इन तमाम बातों का नतीजा यह है कि विकास जैसे प्रमुख मुद्दों को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है और लगभग सभी राजनीतिक नेता अब अपनी हिंदू साख स्थापित करने के लिए भाजपा नेताओं के उल्लास के लिए झुक रहे हैं। इसी कड़ी में, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के सांसद सतीश मिश्रा ने सबसे पहले अयोध्या का दौरा किया और दावा किया कि मायावती के शासन में भव्य मंदिर बनकर तैयार होगा।

जब मायावती ने हाल ही में लखनऊ में अपनी पार्टी की बैठक को संबोधित किया, तो उनका जय श्री राम के नारों से स्वागत किया गया - बसपा में अब तक इस तरह की कोई बात सुनने में नहीं आई है। आम आदमी पार्टी (आप) के नेता मनीष सिसोदिया और संजय सिंह ने सोमवार को अयोध्या के विभिन्न मंदिरों में पूजा-अर्चना की, जबकि प्रियंका गांधी वाड्रा ने अपनी हालिया यात्रा के दौरान रायबरेली में एक हनुमान मंदिर का दौरा किया।

भाजपा स्पष्ट रूप से तालिबान के मुद्दे पर राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे का इस्तेमाल करते हुए और मुस्लिम तुष्टीकरण पर गैर-भाजपा दलों को कटघरे में खड़ा कर रही है। पार्टी द्वारा संचालित सोशल मीडिया हैंडल और व्हाट्सएप पर समूहों पर साझा की जा रही सामग्री से पता चलता है कि पिछले दो हफ्तों में लगभग एक चौथाई पोस्ट तालिबान से संबंधित थे, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक मजबूत व्यक्तित्व के रूप में संदर्भित कर रहे थे और मुख्यमंत्री को प्रोजेक्ट कर रहे थे। इन ताकतों के खिलाफ योगी आदित्यनाथ एक मजबूत हिंदुत्व ब्रांड के रूप में उभरे हैं।