उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों से काशी विश्वनाथ मंदिर से गंगा घाट तक सड़क की प्रस्तावित 10-15 फीट चौड़करण कार्य अक्टूबर में नवरात्र शुरु होने से पहले पूरा करने का निर्देश अधिकारियों को दिया है। सीएम योगी बुधवार देर रात तक काशी विश्वनाथ मंदिर में पूजा-अर्चना एवं प्रस्तावित मंदिर कॉरिडोर के कार्यों की समीक्षा तथा स्थलीय निरीक्षण के बाद संबंधित अधिकारियों को ये निर्देश दिया। सीएम योगी मंदिर के गर्भगृह में शयन आरती में भी शामिल हुए।

काशी विश्वनाथ  मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह ने मंदिर परिसर स्थित अपने कार्यालय में सीएम योगी को अंगवस्त्रम् भेंट कर सम्मानित किया और उनके समक्ष मंदिर कॉरिडोर का प्रेजेंटेशन दिया। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों से कहा कि प्रधानमंत्री की इस परियोजना में विशेष रुचि है तथा उनकी इच्छा है कि जन भावना का सम्मान करते हुए कार्य निर्धारित समय पर पूरा किया जाए। सीएम योगी ने कहा कि स्थानीय निवासियों एवं संबंधित पक्षों से तालमेल कर कॉरिडोर के निर्माण का कार्य शीघ, पूरा किया जाए ताकि नवरात्र के मौके पर श्रद्धालुओं को बाबा विश्वनाथ के दर्शन-पूजन करने में पहले से अधिक सुविधा हो।

सीएम योगी ने रात करीब 11 बजे तक काशी विश्वनाथ मंदिर परिसर में पूजा-अर्चना एवं निरीक्षण करते रहे। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों से कहा कि मंदिर कॉरिडोर बनाने के लिए खरीदी गई इमारतों को ढहाने में आवश्यक सावधानियां बरती जाए ताकि किसी प्रकार की जान-माल की हानि न हो। अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मंदिर पहुंचने से पहले सीएम योगी से सर्किट में आला अधिकारियों के साथ वाराणसी के विकास कार्यों की समीक्षा की तथा स्थानीय व्यवसायियों के प्रतिनिधियों, बीजेपी के नेताओं एवं जनप्रतिनिधियों से मुलाकात कर उनकी समस्याएं सुनीं और समाधान का आश्वासन दिया। सूत्रों ने बताया कि मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान कई स्थानीय विधायकों ने विकास कार्यों के प्रति अधिकारियों के सुस्त रवैये की शिकायत की।