BREAKING NEWS

पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल पानी के मुद्दों पर वार्ता के लिए अगले हफ्ते भारत आएगा◾वेंकैया नायडू ने तमिलनाडु में करुणानिधि की 16 फुट ऊंची प्रतिमा का किया अनावरण ◾ योगी सरकार का कामकाजी महिलाओं के लिए बड़ा फैसला, जानें ऑफिस टाइमिंग को लेकर क्या दिया आदेश ◾ J&K : अनंतनाग इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, दो दहशतगर्द हुए ढेर ◾ Asia Cup 2022: रोमांचक मुकाबले में टीम इंडिया का शानदार प्रदर्शन, जापान को 2-1 से दी मात ◾ नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल मॉडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾ पंजाब में AAP ने राज्यसभा की सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए इन 2 नामों पर लगाई मुहर◾ हिजाब पहनकर कॉलेज आई छात्राओं को भेजा गया वापस, CM बोम्मई बोले- हर कोई करें कोर्ट के निर्देश का पालन ◾DGCA ने इंडिगो पर लगाया पांच लाख का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को नहीं दी थी विमान में सवार होने की अनुमति ◾J&K : सुरक्षाबलों ने आतंकवादी मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, एक महिला सहित 3 गिरफ्तार, IED बरामद ◾ नवनीत राणा और रवि राणा का आज नागपुर में हनुमान चालीसा पाठ, क्या राज्य में फिर हो सकता है बवाल◾एलन मस्क ने दिया बयान- भारत में मिले बिक्री की मंजूरी, फिर टेस्ला का संयत्र लगाने का लेंगे फैसला◾ कथावाचक देवकी नंदन ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट के खिलाफ SC में दायर की याचिका, अब तक कुल 7 अर्जी दाखिल◾ WEATHER UPDATE: दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में बारिश के आसार, यहां जानें मौसम का मिजाज◾ जमीयत की बैठक में भावुक हुए मुस्लिम धर्मगुरू मदनी, बोले- जुल्म सह लेंगे लेकिन वतन पर आंच नहीं आने देंगे...◾श्रीलंका में 50वें दिन भी जारी है प्रदर्शन, राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर बैठे हैं लोग ◾ऐसा काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए, देश सेवा में नहीं छोड़ी कोई कसर : PM मोदी ◾म्यांमार की मौजूदा स्थिति को लेकर हुई बैठक, रूस और चीन ने जारी नहीं होने दिया UN का बयान ◾BSF ने पाकिस्तानी तस्करों की साजिश को किया नाकाम, ड्रोन पर की गोलीबारी, भागने पर हुआ मजबूर ◾

अफगानिस्तानः काबुल में अस्पताल के बाहर धमाका, 19 लोगों की मौत और 43 घायल

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में मंगलवार को मिलिट्री हॉस्पिटल के पास 2 जोरदार धमाके हुए। इसमें 19 लोगों की मौत हो गई और 43 घायल हैं। बताया जा रहा है कि यह धमाका एक आत्मघाती हमला था, जो सरदार मोहम्मद दाऊद खान अस्पताल के सामने हुआ। मौके पर मौजूद सूत्रों का कहना है कि घटना वाली जगह से गोलियों की आवाज भी सुनी गई है। चश्मदीदों ने बताया कि पहले एक जबरदस्त धमाका हुआ, जिसके बाद गोलियों की आवाज सुनाई दी। इसके अलावा विस्फोट की वजह का भी पता नहीं चल पाया है।

राजधानी में हुए धमाके को लेकर तालिबान के उप प्रवक्ता बिलाल करीमी ने एसोसिएटेड प्रेस (एपी) को बताया कि काबुल में सरदार मोहम्मद दाऊद खान सैन्य अस्पताल के बाहर नागरिकों को निशाना बनाकर विस्फोट किया गया। उन्होंने कहा कि अब तक हताहतों की संख्या के बारे में पता नहीं चल पाया है। उन्होंने घटनास्थल पर एक और विस्फोट होने की पुष्टि नहीं की है। अफगानिस्तान पर अगस्त में कब्जा जमाने के बाद से ही लगातार काबुल में धमाके हो रहे हैं। इनमें से अधिकतर धमाके इस्लामिक स्टेट से जुड़े संगठनों द्वारा अंजाम दिए जा रहे हैं। हालांकि, तालिबान ने कहा है कि वह इस्लामिक स्टेट पर जल्द काबू पा लेगा और देश में शांति स्थापित करेगा। हालांकि युद्धग्रस्त मुल्क के उत्तरी हिस्से में इस्लामिक स्टेट मजबूत हुआ है।

अगस्त में काबुल एयरपोर्ट पर हुआ जबरदस्त धमाका

काबुल में सबसे खतरनाक धमाका अगस्त महीने में एयरपोर्ट पर देखने को मिला था. अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से ही बड़ी संख्या में देश छोड़ने की राह देख रहे लोग काबुल एयरपोर्ट पर जमा थे। 26 अगस्त को हुए इस धमाके में 100 से अधिक लोगों की मौत हुई थी, जबकि 150 से ज्यादा लोग घायल हुए थे। हमलों को लेकर रूस के अधिकारियों ने बताया कि काबुल एयरपोर्ट के बाहर दो आत्मघाती हमले किए गए। लोगों को हवाई मार्ग से देश से बाहर निकालने की 31 अगस्त की समयसीमा के नजदीक आने के बीच पश्चिमी राष्ट्रों ने पहले ही एयरपोर्ट पर संभावित हमले की आशंका जताई थी।

धमाके की पहले ही दी गई थी जानकारी

इस धमाके को इस्लामिक स्टेट ने अंजाम दिया था। कई देशों ने धमाके से पहले अपने लोगों से हवाईअड्डे से दूर रहने को कहा था और उनमें से एक ने कहा था कि आत्मघाती बम धमाके की आशंका थी। ब्रिटिश सरकार ने चेतावनी दी थी कि इस्लामिक स्टेट (आईएस या आईएसआईएस) के आतंकवादियों द्वारा अफगानिस्तान में काबुल एयरपोर्ट पर जमा लोगों को निशाना बनाकर ‘आशंकित’ हमले की ‘बहुत विश्वसनीय’ खुफिया रिपोर्ट है। हालांकि, इन सबके बाद भी हमलों को रोका नहीं जा सका। हालांकि, हमले के बाद अमेरिका ने तालिबान से कहा था कि वह इस्लामिक स्टेट से लड़ने के लिए साथ आ सकता है, मगर तालिबान ने मदद से इनकार किया।