BREAKING NEWS

पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंडल पानी के मुद्दों पर वार्ता के लिए अगले हफ्ते भारत आएगा◾वेंकैया नायडू ने तमिलनाडु में करुणानिधि की 16 फुट ऊंची प्रतिमा का किया अनावरण ◾ योगी सरकार का कामकाजी महिलाओं के लिए बड़ा फैसला, जानें ऑफिस टाइमिंग को लेकर क्या दिया आदेश ◾ J&K : अनंतनाग इलाके में सुरक्षाबलों और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, दो दहशतगर्द हुए ढेर ◾ Asia Cup 2022: रोमांचक मुकाबले में टीम इंडिया का शानदार प्रदर्शन, जापान को 2-1 से दी मात ◾ नैनो यूरिया संयंत्र का उद्घाटन कर पीएम मोदी, बोले- आत्मनिर्भरता में भारत की अनेक मुश्किलों का हल ◾ Gujarat News: देश में गुजरात का सहकारी आंदोलन एक सफल मॉडल, गांधीनगर में बोले अमित शाह ◾ पंजाब में AAP ने राज्यसभा की सीटों पर होने वाले चुनाव के लिए इन 2 नामों पर लगाई मुहर◾ हिजाब पहनकर कॉलेज आई छात्राओं को भेजा गया वापस, CM बोम्मई बोले- हर कोई करें कोर्ट के निर्देश का पालन ◾DGCA ने इंडिगो पर लगाया पांच लाख का जुर्माना, दिव्यांग बच्चे को नहीं दी थी विमान में सवार होने की अनुमति ◾J&K : सुरक्षाबलों ने आतंकवादी मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, एक महिला सहित 3 गिरफ्तार, IED बरामद ◾ नवनीत राणा और रवि राणा का आज नागपुर में हनुमान चालीसा पाठ, क्या राज्य में फिर हो सकता है बवाल◾एलन मस्क ने दिया बयान- भारत में मिले बिक्री की मंजूरी, फिर टेस्ला का संयत्र लगाने का लेंगे फैसला◾ कथावाचक देवकी नंदन ने प्लेसेस ऑफ वर्शिप एक्ट के खिलाफ SC में दायर की याचिका, अब तक कुल 7 अर्जी दाखिल◾ WEATHER UPDATE: दिल्ली समेत देश के इन इलाकों में बारिश के आसार, यहां जानें मौसम का मिजाज◾ जमीयत की बैठक में भावुक हुए मुस्लिम धर्मगुरू मदनी, बोले- जुल्म सह लेंगे लेकिन वतन पर आंच नहीं आने देंगे...◾श्रीलंका में 50वें दिन भी जारी है प्रदर्शन, राष्ट्रपति के इस्तीफे की मांग को लेकर सड़कों पर बैठे हैं लोग ◾ऐसा काम नहीं किया जिससे लोगों का सिर शर्म से झुक जाए, देश सेवा में नहीं छोड़ी कोई कसर : PM मोदी ◾म्यांमार की मौजूदा स्थिति को लेकर हुई बैठक, रूस और चीन ने जारी नहीं होने दिया UN का बयान ◾BSF ने पाकिस्तानी तस्करों की साजिश को किया नाकाम, ड्रोन पर की गोलीबारी, भागने पर हुआ मजबूर ◾

अमेरिकी की रिपोर्ट में किया गया दावा, DDOS साइबर हमले के हथियारों की मेजबानी में चीन सबसे आगे

अमेरिका में स्तिथ टेक फर्म ए10 नेटवर्क्‍स की एक रिपोर्ट में दवा किया गया है कि, चीन वैश्विक स्तर पर संगठनों पर आधुनिक मैलवेयर स्थापित करने के लिए प्रवर्धन हथियारों और बॉटनेट एजेंटों दोनों सहित संभावित वितरित डेनियल ऑफ सर्विस (डीडीओएस) साइबर हमले के हथियारों की सबसे अधिक संख्या की मेजबानी करने में अग्रणी है। मंगलवार को एक नई रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है। रिपोर्ट के अनुसार 2021 की पहली छमाही में कुल बॉटनेट एजेंटों की संख्या लगभग आधी हो गई थी जिसमें चीन दुनिया भर में उपलब्ध ड्रोनों की कुल संख्या का 44 प्रतिशत होस्ट कर रहा था। समीक्षाधीन अवधि में डीडीओएस हथियारों की कुल संख्या में लगभग 2.5 मिलियन की वृद्धि हुई।

हथियारों का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत बना हुआ है डीडीओएस : रिपोर्ट 

यूएस डीडीओएस हथियारों का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत बना हुआ है जिसमें विशेष रूप से प्रवर्धन हथियार शामिल हैं। एक डीडीओएस हमला एक ऑनलाइन सेवा को कई स्रोतों से ट्रैफिक से भरकर अनुपलब्ध बनाने का एक प्रयास है। रिपोर्ट के मुताबिक, डीडीओएस हमले एक विशिष्ट भौगोलिक स्थान तक सीमित नहीं हैं और दुनिया में कहीं भी संगठनों से उत्पन्न हो सकते हैं और हमला कर सकते हैं। ये हमले हथियारों से संचालित होते हैं जो विश्व स्तर पर वितरित किए जाते हैं, जहां उच्च कंसन्ट्रेशन पाई जाती है जहां इंटरनेट से जुड़ी आबादी सबसे घनी होती है। लगातार दूसरी रिपोटिर्ंग अवधि के लिए चीन ने लगभग 2 मिलियन प्रवर्धन हथियारों और बॉटनेट एजेंटों के साथ सबसे अधिक डीडीओएस हथियारों की मेजबानी करने वाले देशों की सूची का नेतृत्व किया। अमेरिका काफी पीछे चल रहा था।

सतकर्ता समूहों ने उपाय करना किए शुरू 

रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है, आखिरकार संगठन मोजी डॉट इन जैसे संक्रामक मैलवेयर पर अधिक ध्यान दे रहे हैं। वास्तव में, कुछ सतर्कता समूहों ने डीडीओएस हमलों का उपयोग रक्षात्मक उपाय के रूप में करना शुरू कर दिया है, जो स्कैनिंग व्यवहार प्रदर्शित करने वाले सिस्टम पर हमला कर रहे हैं।