BREAKING NEWS

पंजाब : नवजोत सिंह सिद्धू ने अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए उन्हें बताया फुंका कारतूस◾कांग्रेस पटोले को निगरानी में रखे और PM के खिलाफ टिप्पणी के लिए शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की जांच कराएं : भाजपा ◾दिल्ली कोर्ट ने शरजील इमाम के खिलाफ देशद्रोह का आरोप तय करने का दिया आदेश ◾छत्तीसगढ़ : मुख्यमंत्री बघेल ने भाजपा पर लगाया आरोप, कहा- सत्ता में आने के लिए लोगों को बांटने का काम करती है ◾दिल्ली में कोरोना के 5,760 नए मामले सामने आये, संक्रमण दर गिरकर 11.79 ◾ रामपुर से आजम खां और कैराना से नाहिद हसन लड़ेंगे चुनाव, जानिए सपा की 159 उम्मीदवारों की लिस्ट में किसे कहां से मिली टिकट◾केंद्र सरकार को सुभाषचंद्र बोस को देश के पहले प्रधानमंत्री के रूप में मान्यता देनी चाहिए : TMC◾कपटी 1 दिन में प्राइवेट नंबर पर 5 हजार से ज्यादा मैसेज नहीं आ सकते.....सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना◾कर्नाटक : मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई अपने पहले बजट की तैयारियों में जुटे ◾गणतंत्र दिवस के बाद टाटा को सौंप दी जाएगी एयर इंड़िया, जानें अधिग्रहण की पूरी जानकारी◾पाक PM ने की नवजोत सिद्धू को मंत्रिमंडल में लेने की सिफारिश, अमरिंदर सिंह ने किया बड़ा खुलासा ◾कांग्रेस ने बेरोजगारी को लेकर केंद्र पर कसा तंज, कहा- कोरोना काल में बढ़ी अमीरों और गरीबों के बीच खाई ◾पंजाब: NDA में पूरा हुआ बंटवारे का दौर, नड्डा ने किया ऐलान- 65 सीटों पर BJP लड़ेगी चुनाव, जानें पूरा गणित ◾शरजील इमाम पर चलेगा देशद्रोह का मामला, भड़काऊ भाषणों और विशेष समुदाय को उकसाने के लगे आरोप ◾ गणतंत्र दिवस: 25-26 जनवरी को दिल्ली मेट्रो की पार्किंग सेवा रहेगी बंद, जारी की गई एडवाइजरी◾महिला सशक्तिकरण की बात कर रही BJP की मंत्री हुई मारपीट की शिकार, ऑडियो वायरल, जानें मामला? ◾UP चुनाव: SP को लगा तीसरा बड़ा झटका, BJP में शामिल हुए विधायक सुभाष राय, टिकट कटने से थे नाराज ◾देश में कोरोना के मामलों में 15 फरवरी तक आएगी कमी, कुछ राज्यों और मेट्रो शहरों में कम हुए कोविड केस◾UP चुनाव: BJP के साथ गठबंधन नहीं होने के जिम्मेदार हैं आरसीपी, JDU अध्यक्ष बोले- हमने किया था भरोसा.. ◾फडणवीस का उद्धव ठाकरे को जवाब, बोले- 'जब शिवसेना का जन्म भी नहीं हुआ था तब से BJP...'◾

टीटीपी प्रदर्शनकारियों पर बल प्रयोग का इमरान ने दिया आदेश, सेना हुई फैसले के खिलाफ

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने चरमपंथी संगठन टीएलपी (तहर तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान) के प्रदर्शकारियों के खिलाफ बल प्रयोग करने की अनुमति दी है, लेकिन इस फैसले से पाकिस्तान की सेना खुश नहीं है। पाक मीडिया  की रिपोर्ट के मुताबिक देश में तेजी से हो रहे घटनाक्रम की जानकारी रखने वाले सूत्रों के अनुसार, इमरान खान ने 'टीएलपी' मार्च करने वालों के खिलाफ बल प्रयोग को मंजूरी दी थी। एक बार जब इस आदेश को जारी कर दिया गया, तो पाकिस्तान के सैन्य नेतृत्व की ओर से इसका पालन किए जाने की उम्मीद थी। हालांकि, उन्होंने भीड़ के खिलाफ बल प्रयोग के संभावित परिणामों की समीक्षा की। उन्होंने इसका अनुमान लगाया कि मार्च करने वालों के खिलाफ बल प्रयोग कैसे करना चाहिए और इसमें कितने हताहत हो सकते हैं। 

टीएलपी' के खिलाफ बल प्रयोग का निर्णय लेने वाले कीमत चुकाने के लिए तैयार रहे : पाक सेना

पाक मीडिया के अनुसार, सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने 29 अक्टूबर को राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए राजनीतिक और सैन्य नेतृत्व के एकत्र होने पर 'टीएलपी' कार्यकर्ताओं के खिलाफ बल प्रयोग के सभी पक्ष और विपक्ष प्रस्तुत किए थे। इस बैठक की जानकारी रखने वाले लोगों ने पाक मीडिया को इस बात की पुष्टि की है कि, सेना प्रमुख ने कहा था कि यदि निर्णय लेने वाले 'टीएलपी' के खिलाफ बल प्रयोग के लिए कीमत चुकाने के लिए तैयार थे, तो सेना आदेश के अनुसार कार्य करेगी। जब तक यह बैठक हुई, तब तक सरकार सख्त रुख अपना चुकी थी और पाकिस्तान के सूचना मंत्री 'फवाद चौधरी' ने 27 अक्टूबर को कैबिनेट को बताते हुए प्रधानमंत्री के हवाले से कहा था कि, सरकार किसी को भी कानून अपने हाथ में लेने की अनुमति नहीं देगी।

'टीएलपी' के साथ हस्ताक्षरित समझौते को सार्वजनिक करेगा सरकार

राजनीतिक नेतृत्व को अपने साथ लेने के बाद, पाकिस्तान सरकार ने सैद्धांतिक रूप से 'टीएलपी' के साथ हस्ताक्षरित समझौते को सार्वजनिक करने का फैसला किया है, लेकिन इसे तब तक गुप्त रखा गया जब तक कि, इसका कार्यान्वयन अच्छी तरह से नहीं हो गया। ब्रीफिंग के प्रतिभागियों ने पाक मीडीया को बताया कि,  समझौता कैसे हुआ और इसे इतने लंबे समय तक गुप्त रखने का निर्णय क्यों लिया गया।अधिकारियों के अनुसार, प्राथमिक उद्देश्य 'टीएलपी' प्रदर्शनकारियों को सड़कों से हटाना था ताकि स्थिति सामान्य हो सके। इस संदर्भ में, एक चिंता थी कि प्रारंभिक चरण में समझौते की सामग्री का अनावरण करने से एक सार्वजनिक बहस शुरू हो सकती थी, जो इसके कार्यान्वयन में बाधा उत्पन्न कर सकती थी।