BREAKING NEWS

दिल्ली एयरपोर्ट से 28 करोड़ की 7 घड़ियां जब्त, मात्र एक की कीमत 27 करोड़, मुम्बई एयरपोर्ट से 80 करोड़ का ड्रग्स पकड़ा! ◾दक्षिण भारत में अपना प्रचार करने के दौरान बोले थरूर - कांग्रेस को युवाओं की पार्टी बनाना मकसद ◾66 बच्चों की मौत के बाद सिरफ के खिलाफ चलाया गया वापस लेने का अभियान◾कौन हिंदू बिना मूंछ दाढ़ी रखता हैं, रामायण के इस्लामीकरण पर 'आदिपुरूष' डायरेक्टर को लीगल नोटिस ◾एनी एरनॉक्स ने जीता नोबेल पुरस्कार, बाधाओं को उजागर करने वाली लेखनी के लिए दिया गया पुरस्कार◾कोर्ट से जमानत लेकर फरार हुआ यूटयूबर बॉबी कटारिया, हाथ पर हाथ धरी रह गई उत्तराखंड पुलिस की तैयारी◾बाजवा के बाद पाक सेना का जनरल कौन ? सेना को लेकर इमरान पर बरसे ख्वाजा आसिफ ◾उत्तराखंड हिमस्खलन त्रासदी : खराब मौसम के चलते रेस्क्यू ऑपरेशन में देरी, 9 लाश बरामद, बाकी की तलाश जारी ◾सचिन पायलट की खामोशी ने बढ़ाया सियासी सस्पेंस, किसके 'हाथ' है राजस्थान?◾TRS में टूट की अटकलें ? राष्ट्रीय पार्टी की घोषणा कार्यक्रम में नहीं पहुंची बेटी के कविता, सियासी हलचल तेज ◾Mexico News : मेक्सिको के सिटी हॉल में अंधाधुंध फायरिंग, मेयर समेत 18 की मौत◾शिवसेना सिंबल पर चुनाव आयोग का फैसला जल्द, शिंदे गुट की टिकी निगाह ◾मोहन भागवत के बयान पर भड़के लालू , कहा - सज्जन बिन मांगा ज्ञान बांटने चले आते है ◾बिहार उपचुनाव : दोनों सीटों पर महिलांए तय करेंगी भाजपा का भविष्य, जेडीयू ने अनंत सिंह की पत्नी पर खेला दांव ◾Mulayam Singh Health Update : हालत में बही भी कोई सुधार नहीं, CRRPT सपोर्ट पर रखा ◾नागपुर में संघ के हेडक्वार्टर को घेरने की कोशिश, ईलाके में धारा144 लागू, ◾थाईलैंड : चाइल्ड सेंटर में सामूहिक गोलीबारी, 32 लोगों की मौत, मृतकों में 22 बच्चे शामिल◾छत्तीसगढ़ : बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने की तीन साधुओं की बेरहमी से पिटाई◾महाराष्ट्र : सीएम शिंदे की रैली के आगे फीकी पड़ी उद्धव ठाकरे की दशहरा रैली ◾उत्तर प्रदेश : मैनपुरी में B.SC छात्रा की रेप के बाद हुई हत्या, बहन ने कहा-गला घोंटाकर मारा गया ◾

यूक्रेन के साथ बढ़ते मतभेद को कम करने के लिए रूस ने नाटो अधिकारियों के साथ की बैठक, अमेरिका ने किया नेतृत्व

रूस और यूक्रेन के बीच बढ़ते तनाव को कम करने के लिए  बुधवार को रूस और नाटो के वरिष्ठ अधिकारियों ने आपस में बैठक की। उच्च स्तर पर जारी कूटनीति एवं यूक्रेन पर रूस के आक्रमण की आशंका को देखते हुए इसे रोकने के लिए अमेरिका के नेतृत्व में प्रयासों के बीच यह बैठक हुई। मॉस्को ने यूक्रेन पर हमले की योजना से इंकार किया है लेकिन यूक्रेन और जॉर्जिया में इसकी सैन्य कार्रवाई के इतिहास को देखते हुए नाटो चिंतित है। 

बैठक में अमेरिका की उप विदेश मंत्री भी रहे मौजूद 

नाटो-रूस परिषद में रूस के उप विदेश मंत्री अलेक्जेंडर ग्रुश्को और उप रक्षा मंत्री अलेक्जेंडर फोमिन मॉस्को के प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करेंगे। दो वर्षों में पहली बार यह बैठक आयोजित हुई है। ब्रसेल्स में नाटो मुख्यालय में अमेरिका की उप विदेश मंत्री वेंडी शरमन भी मौजूद रहेंगी। बैठक करीब तीन घंटे चलेगी। नाटो-रूस परिषद् का गठन करीब दो दशक पहले हुआ था, जो उनके बीच बातचीत का मुख्य मंच था। लेकिन रूस ने जब यूक्रेन के क्रीमिया प्रायद्वीप को 2014 में अपने नियंत्रण में ले लिया उसके बाद पूर्ण बैठक बंद हो गई थी। इसके बाद छिटपुट बैठकें होती रहीं और अंतिम बार जुलाई 2019 में बैठक हुई थी।

यूक्रेन की सीमा पर तैनात है रूस के लाखों सैनिक 

इस समय रूस के करीब एक लाख सैनिक टैंक, तोप और भारी उपकरणों के साथ यूक्रेन की पूर्वी सीमा पर तैनात हैं। इन सबके बीच बुधवार की बैठक महत्वपूर्ण है लेकिन इसके सफल होने की संभावना कम है। वार्ता की पूर्व संध्या पर एस्टोनिया के रक्षा मंत्री काले लानेट ने सार्वजनिक प्रसारक ईआरआर से कहा, यह पूरी तरह अस्वीकार्य प्रस्ताव हैं। बाल्टिक क्षेत्र में लाटविया और लिथुआनिया की तरह एस्टोनिया भी नाटो की सदस्यता के कारण अमेरिका की तरफ से मिली सुरक्षा गारंटी पर भरोसा करता है। तीनों बाल्टिक देशों पर कभी सोवियत संघ का शासन था लेकिन अब ये यूरोपीय संघ और नाटो का हिस्सा हैं।