BREAKING NEWS

नीतीश नहीं तेजस्वी यादव के हाथों में होगी बिहार की बागडोर? राजद नेताओं ने कर दिया ऐलान ◾ '... जाके कछु नहीं चाहिए, वे शाहन के शाह', दिग्विजय सिंह के इस tweet के क्या हैं मायने?◾Amazing स्पीड के साथ...No बफरिंग, 10 गुना होगी इंटरनेट की रफ्तार, देश में लॉन्च हुई 5G सर्विस◾दिल्ली : पुरानी आबकारी नीति से मालामाल हुई दिल्ली सरकार, एक महीने में कमाए 768 करोड़◾Pitbull का बढ़ता कहर, अब पंजाब में एक रात एक अंदर 12 लोगों को बनाया शिकार◾RBI Hike Repo Rate : ग्राहकों को लगा बड़ा झटका, रेपो रेट के बाद SBI समेत इन बैंकों में बयाज दर में बढ़ोतरी◾अशोक गहलोत का बड़ा खुलासा, जानिए अंतिम समय में क्यों अध्यक्ष पद चुनाव लड़ने से किया मना◾दिल्ली : हैवानियत का शिकार हुआ मासूम हारा जिंदगी की जंग, LNJP अस्पताल में 14 दिन बाद मौत◾कोविड19 : देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना संक्रमण के 3,805 नए मामले दर्ज़, 26 मरीजों मौत ◾अजब प्रेम की गज़ब कहानी : पाकिस्तान की लड़की को हुई नौकर से मोहब्बत, कहा- प्यार अमीर-गरीब नहीं देखता ◾उत्तराखंड : केदारनाथ मंदिर के पास खिसका बर्फ का पहाड़, देखें Video◾LPG Price Update : 25.5 रुपए की कटौती के साथ सस्ता हुआ कमर्शियल LPG गैस सिलेंडर◾मल्लिकार्जुन खड़गे के समर्थन में उतरे गहलोत, जानिए अध्यक्ष पद चुनाव को लेकर क्या कहा ◾आखिरकार क्यों अध्यक्ष पद चुनाव से कटा दिग्विजय सिंह का पत्ता? जानिए हाईकमान ने खड़गे के नाम पर कैसे लगाई मुहर◾आज का राशिफल (01 अक्टूबर 2022)◾RSS चीफ ने चीन , अमेरिका पर साधा निशाना , कहा - महाशक्तियां दूसरे देशों की स्वार्थी तरीके से मदद करती हैं◾T20 World Cup : 6 अक्टूबर को ऑस्ट्रेलिया के लिए रवाना होगा भारत◾PM मोदी ने देरी से पहुंचने की वजह से जनसभा को नहीं किया संबोधित◾PM मोदी ने दादा साहब फाल्के पुरस्कार मिलने पर आशा पारेख को दी बधाई ◾तरंगा-आबू रोड रेल लाइन की योजना 1930 में बनाई गई थी लेकिन दशकों तक ठंडे बस्ते में पड़ी रही : PM मोदी◾

अमेरिका में तीन भारतीय नागरिकों को किया गया गिरफ्तार, जानिए क्या है मामला

अमेरिका के संघीय कानून प्रवर्तन अधिकारियों ने तीन भारतीय नागरिकों को देश में अवैध रूप से प्रवेश करने के आरोप में यूएस वर्जिन द्वीप समूह से गिरफ्तार किया है। यह तीनों नागरिक फ्लोरिडा राज्य से फोर्ट लॉडरडेल के लिए उड़ान भरने वाले थे लेकिन उससे पहले ही अधिकारियों ने इन्हें पकड़ लिया। इन नागरिकों की पहचान कृष्णाबेन पटेल (25), निकुंजकुमार पटेल (27) और अशोककुमार पटेल (39) के रूप में हुई है। यह घटना 24 नवंबर को हुई थी। 

दो दिंसबर को हुई कोर्ट में पेशी

अमेरिका में उनके कथित अवैध प्रवेश से संबंधित आपराधिक आरोपों पर प्रारंभिक सुनवाई के लिए सेंट क्रिक्स में मजिस्ट्रेट कोर्ट के न्यायाधीश जॉर्ज डब्ल्यू कैनन के समक्ष तीनों दो दिसंबर को पेश हुए। अमेरिकी वकील ग्रेटचेन सी एफ शैपर्ट ने बताया कि, एक संभावित कारण पाया गया था और प्रतिवादियों को आगे की कार्यवाही के लिए जिला अदालत में पेश किया गया। अमेरिकी वकील के अनुसार, तीनों विमान में सवार होने वाले थे, जब एक सिस्टम जांच से पता चला कि, फ्लोरिडा में वाहन चालक के उनके लाइसेंस वैध रूप से जारी नहीं किए गए थे और इसे धोखाधड़ी माना गया।

पहले भी हो चुकी है गिरफ्तारी 

इन नागरिकों की गिरफ्तारी के बाद जांच से पता चला कि, अगस्त 2019 में तीनों को पहले टेकेट कैलिफ़ोर्निया में हिरासत में लिया गया था, और उन्हें शीघ्र वापस भेजने की कार्रवाई शुरू की गई थी। मीडिया विज्ञप्ति में कहा गया है कि, बाद में उन्हें अमेरिका से भारत भेज दिया गया था। तीनों पर धोखाधड़ी वाले दस्तावेज़ों का इस्तेमाल करने तथा अमेरिका से निकाले जाने के बावजूद किसी विदेशी की मदद से यहां पुनः प्रवेश करने के आरोप लगाए गए। न्याय मंत्रालय ने कहा कि, दोषी ठहराए जाने की स्थिति में उन्हें संभावित 10 साल तक की जेल और बाद में निर्वासन का सामना करना पड़ सकता है।