BREAKING NEWS

निर्यात को लेकर अधिकारियों, मिशन प्रमुखों को संबोधित कर सकते हैं PM मोदी◾IND vs ENG (1st Test Match) : तेज गेंदबाजी चौकड़ी ने इंग्लैंड को किया 183 पर ढेर, भारत की सतर्क शुरुआत◾भारत के पहले स्वदेश निर्मित विमानवाहक पोत विक्रांत का समुद्र में परीक्षण शुरू◾15 अगस्त पर तिरंगा रैली निकालेंगे प्रदर्शनकारी किसान◾दक्षिण चीन सागर पर आचार संहिता संरा संधि के अनुरूप होनी चाहिए - जयशंकर◾दिल्ली सरकार दलित बच्ची की मौत की मजिस्ट्रेट जांच का आदेश देगी, राहुल के तस्वीर ट्वीट करने से छिड़ा विवाद◾श्रद्धालुओं के लिए 16 अगस्त से खुलेगा पुरी का जगन्नाथ मंदिर, जान लें क्या है निर्देश !◾ईरान के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति के शपथग्रहण में शामिल होंगे जयशंकर : विदेश मंत्रालय◾MP में बारिश का कहर, बाढ़ की चपेट में 1250 से अधिक गांव, 6,000 लोगों को बचाया गया◾बिहार सरकार ने अनलॉक 5 में स्कूलों,दुकाने और सिनेमा हॉल खोलने के आदेश दिए◾CM ममता बनर्जी ने बाढ़ की स्थिति पर PM मोदी को लिखा पत्र, डीवीसी ठहराया दोषी◾एनसीपीसीआर ने ट्विटर इंडिया को जारी किया नोटिस, राहुल गांधी के हैंडल के खिलाफ कार्रवाई की मांग◾जम्मू-कश्मीर में सेना ने तोड़ी आतंकवाद की कमर, 400 मुठभेड़ में मार गिराए 630 आतंकी: सरकार ◾प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन से उड़ी भाजपा की नींद, खुलकर कर रही सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग : मायावती◾केंद्र का दावा- कोविड-19 से हुई मौतों को दर्ज करने में चूकने की संभावना नहीं, भारत में मजबूत व्यवस्था ◾उत्तर प्रदेश में अकेले विधानसभा चुनाव लड़ेगी बसपा : सतीश मिश्रा◾ओलंपिक: सेमीफाइनल में भारतीय महिला हॉकी टीम की हार से टूटा गोल्ड का सपना, ब्रॉन्ज के लिए लड़ेंगी◾'चाट-पापड़ी नहीं पसंद तो फिश करी ले सकते हैं', TMC सांसद ब्रायन पर केंद्रीय मंत्री नकवी का तंज◾दिल्ली दुष्कर्म : बच्ची के परिजनों की तस्वीर शेयर करने पर घिरे राहुल, BJP बोली-NCPCR जारी करे नोटिस◾रेसलर रवि दहिया ने रचा इतिहास, फाइनल में बनाई जगह, ओलंपिक में चौथा मेडल पक्का◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

‘तख्तापलट की साजिश’ के आरोप में सऊदी अरब के तीन राजकुमारों को हिरासत में लिया गया

सऊदी अरब में शाही परिवार के तीन सदस्यों को हिरासत में लिया गया हैं। तीनो पर सत्ता के लिए साज़िश रचने के आरोप लगाए जा रहे हैं।गौरतलब हैं की इन आरोपों के पीछे  सदस्यों द्वारा की गई तख्तापलट की साजिश है। इसके साथ ही देश के शक्तिशाली राजकुमार (क्राउन प्रिंस) ने सत्ता पर अपनी पकड़ मजबूत बनाये रखने के संकेत दिये है।

 अमेरिकी अख़बार ‘वॉल स्ट्रीट जर्नल’ ने अज्ञात सूत्रों के हवाले से बताया कि शाही गार्ड ने शाह सलमान के भाई राजकुमार अहमद बिन अब्दुल अजीज अल-सउद और भतीजे राजकुमार मोहम्मद बिन नयेफ को शुक्रवार सुबह उनके घर से हिरासत में ले लिया। उन पर राजद्रोह के आरोप लगे हैं। साथ ही इस समाचार पत्र में यह भी बताया गया है कि सऊदी अरब की अदालत ने कभी सत्ता के संभावित दावेदार रहे दो लोगों पर ‘‘शाह तथा क्राउन प्रिंस को हटाने के लिए तख्तापलट करने की साजिश’’ रचने का आरोप लगाया तथा उन्हें ताउम्र कैद या मौत की सजा सुनाई जा सकती है। 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने व्हाइट हाउस के नए चीफ ऑफ स्टॉफ की घोषणा की

न्यूयॉर्क टाइम्स ने भी हिरासत में लिए जाने की खबर देते हुए बताया कि राजकुमार नयेफ के छोटे भाई राजकुमार नवाफ बिन नयेफ को भी हिरासत में लिया गया है। सऊदी अरब के अधिकारियों ने तत्काल इस पर कोई टिप्पणी नहीं की है।इससे पहले क्राउन प्रिंस मोहम्मन बिन सलमान ने सत्ता पर अपनी पकड़ मजबूत करते हुए प्रतिष्ठित मौलवियों और कार्यकर्ताओं के साथ-साथ राजकुमारों और कारोबारियों को जेल में डाला था। 

शाह के बेटे प्रिंस मोहम्मद ने इस्तांबुल दूतावास में अक्टूबर 2018 में आलोचक जमाल खशोगी की हत्या को लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आलोचना का भी सामना किया। मुल्क के रक्षा से लेकर अर्थव्यवस्था तक सभी बड़े मामलों को देखने वाले वास्तविक नेता के तौर पर देखे जा रहे क्राउन प्रिंस अपने 84 वर्षीय पिता शाह सलमान से औपचारिक रूप से सत्ता के हस्तांतरण से पहले आंतरिक असंतोष को खत्म करने की राह पर दिख रहे हैं। 

अमेरिका स्थित आरएएनडी कोरपोरेशन में नीति विश्लेषक बेका वासेर ने कहा, ‘‘ प्रिंस मोहम्मद ने पहले ही अपनी राह में आने वाले खतरों को हटा दिया है और अपनी सत्ता के आलोचकों को जेल भेज दिया या उनकी हत्या करा दी है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह सत्ता पर अपनी पकड़ मजबूत बनाने की ओर एक कदम है और साथ ही शाही परिवार के सदस्यों समेत किसी के लिए भी संदेश है कि उनको हटाने की हिम्मत न करें।’’ 

राजकुमार अहमद, खशोगी की हत्या के बाद लंदन से सऊदी अरब लौटे थे जिसे कुछ लोगों ने राजतंत्र के लिए समर्थन जुटाने के प्रयास के तौर पर देखा। जून 2017 में क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने पूर्व क्राउन प्रिंस नयेफ को दरकिनार करते हुए अरब देश की सत्ता पर कब्जा जमाया था। उस समय खाड़ी देश के टेलीविजन चैनलों ने प्रिंस मोहम्मद को पूर्व प्रिंस का हाथ चूमते हुए और उनके सम्मान में घुटनों के बल बैठते हुए दिखाया था। 

बाद में पश्चिमी मीडिया में आई खबरों में कहा गया कि अपदस्थ प्रिंस को घर में नजरबंद कर दिया गया है। हालांकि सऊदी अरब के अधिकारियों ने इस दावे का खंडन किया था। हिरासत में लेने की यह कार्रवाई ऐसे समय में की गई है जब सऊदी अरब ने कोरोना वायरस के डर से मुस्लिम जायरीनों को इस्लाम के पवित्र स्थल की यात्रा करने से रोक दिया है। 

सऊदी अरब ने मक्का और मदीना में इस बीमारी के फैलने के डर से ‘उमरा’ स्थगित कर दिया है जिससे आगामी हज यात्रा पर भी अनिश्चितता के बादल मंडरा रहे हैं। तेल संपन्न सऊदी अरब कच्चे तेल की गिरती कीमतों से भी जूझ रहा है जो उसके राजस्व का मुख्य स्रोत है।