BREAKING NEWS

छत्तीसगढ़: कोयला लेवी घोटाले केस में ED ने पूरक आरोपपत्र दाखिल किया◾नफरत और दुर्व्यवहार के कारण पाकिस्तान टीम को कभी कोचिंग देने के बारे में नहीं सोचा: वसीम अकरम◾राहुल गांधी बोले- ‘मित्रकाल बजट’ से साबित हुआ कि सरकार के पास भविष्य के निर्माण की कोई रूपरेखा नहीं◾Peshawar Mosque Attack: आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई तेज, 17 संदिग्ध गिरफ्तार◾दिल्ली: LG सक्सेना ने 6 फरवरी को मेयर चुनने के लिए MCD सदन का सत्र बुलाने को मंजूरी दी ◾एयर मार्शल एपी सिंह ने भारतीय वायुसेना के उप प्रमुख का पद संभाला◾UP News: मुजफ्फरनगर में तीन वर्ष की बच्‍ची से दुष्कर्म और हत्या के दोषी को फांसी की सजा◾Britain: वेतन बढ़ाने की मांग को लेकर शिक्षकों व सार्वजनिक क्षेत्र के कर्मचारियों की हड़ताल◾चाहे कितनी भी हो आमदनी इन देशों में नहीं देना पड़ता टैक्स◾खाने को मौैहताज पाकिस्तान में गाड़ी की बड़ी कीमतें 26 लाख की हुई वैगनर , तीन लाख की स्पलेंडर ◾PM नरेंद्र मोदी ने कहा- बजट विकसित भारत के संकल्प को पूरा करने के लिए एक मजबूत नींव का निर्माण करेगा◾मल्लिकार्जुन खड़गे बोले- भाजपा पर जनता के लगातार गिरते विश्वास का सबूत है यह बजट◾Noida suicide : डीपीएस स्कूल की टीचर ने सातवीं मंजिल से कूदकर दी जान, जांच में जुटी पुलिस ◾पश्चिम बंगाल : मुख्यमंत्री ममता ने केंद्रीय बजट को बताया जनविरोधी, कहा- गरीबों को अनदेखा किया◾बसपा सुप्रीमो ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, बोलीं- बजट पार्टी से ज्यादा देश के लिए हो तो बेहतर है◾बजट पर केजरीवाल बोले- 1.75 लाख करोड़ आयकर देने के बावजूद दिल्ली को सिर्फ 325 करोड़ रुपये मिले ◾आम बजट अमृतकाल की मजबूत आधारशिला रखने वाला: अमित शाह◾पूर्व फुटबॉलर परिमल डे का निधन, लंबे समय से थे बीमार ◾मुख्तार अब्बास नकवी बोले- यह बजट देश के सर्वस्पर्शी सशक्तिकरण का गजट है◾सरकारी जमीन पर कब्जा जमाए बैठे लोगों पर सुप्रीम कोर्ट ने लिया एक्शन ◾

अफगानिस्तान को लेकर संयुक्त राष्ट्र ने दिया बयान, अफगान महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों पर हो रहे हैं हमले

अफगानिस्तान में तालिबान ने जब से कब्जा किया है तब से उन्होंने वहां की महिलाओं पर कई तरह के प्रतिबंध लगाए गए है। देश में महिलाओं की स्तिथि को लेकर मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय ने कहा है कि, अफगान महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों पर हमला हो रहा है। उन्हें विश्व निकाय के समर्थन और एकजुटता की पहले से कहीं अधिक आवश्यकता है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार गुरुवार को एक बयान में ओसीएचए ने कहा कि युद्धग्रस्त देश में लड़कियां और महिलाएं बुनियादी अधिकारों से वंचित हैं। मानवीय संगठनों को भोजन, स्वास्थ्य देखभाल, शिक्षा, आजीविका के अवसर और सुरक्षा सेवाएं प्रदान करके सहायता बढ़ाने का लक्ष्य रखना चाहिए।

तालिबान ने आरोपों को बताया गलत 

ओसीएचए के अनुसार अफगानिस्तान में 11.8 मिलियन महिलाओं और लड़कियों को तत्काल मानवीय सहायता की आवश्यकता है। बुधवार को काबुल में महिला कार्यकर्ताओं की एक सभा के बाद संयुक्त राष्ट्र का यह बयान आया। ओसीएचए के बयान पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्लाह मुजाहिद ने कहा कि आरोप निराधार और गलत हैं। मुजाहिद ने एक ट्वीट में कहा कि जब से तालिबान ने पिछले अगस्त में अफगानिस्तान पर कब्जा किया है, महिलाओं सहित सभी के अधिकारों की रक्षा की गई है।

पत्रकारों को गिरफ्तार किए जाने की हुई निंदा 

ह्यूमन राइट्स वॉच की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि तालिबान की सत्ता में वापसी के बाद से अफगानिस्तान की आर्थिक और मानवीय स्थिति खराब हो गई है और महिलाएं और बच्चे इस स्थिति का सबसे बड़ा शिकार हैं। रिपोर्ट में अफगान पत्रकारों और कार्यकर्ताओं को तालिबान द्वारा गिरफ्तार किए जाने और धमकी देने पर भी चिंता व्यक्त की गई है।