BREAKING NEWS

सपा सांसद आजम भूमाफिया हुए घोषित, किसानों की जमीन पर कब्जा करने का है आरोप◾विपक्षी दलों को निशाना बना रही है भाजपा : BSP◾कर्नाटक : राज्यपाल ने सरकार को दिया शुक्रवार 1.30 बजे तक बहुमत साबित करने का समय◾कई बंगाली फिल्म व टेलीविजन कलाकार BJP में हुए शामिल ◾कर्नाटक का एक और विधायक पहुंचा मुंबई , खड़गे ने बताया BJP को जिम्मेदार ◾ इशरत जहां का आरोप-हनुमान चालीसा पाठ में भाग लेने को लेकर धमकी दी गई ◾कुलभूषण जाधव पर ICJ के फैसले को तत्काल लागू करें : भारत ने Pak से कहा ◾IT ने नोएडा में मायावती के भाई और भाभी का 400 करोड़ का 'बेनामी' भूखंड किया जब्त◾सोनभद्र प्रकरण : मृतकों की संख्या 10 हुई, UP पुलिस ने 25 लोगों को किया गिरफ्तार ◾विधानसभा में ही डटे बीजेपी MLA◾कर्नाटक विधानसभा में विश्वास मत पर चर्चा के दौरान हंगामे के बीच सदन की कार्यवाही शुक्रवार तक स्थगित - विस अध्यक्ष◾Top 20 News 18 July - आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾कुलभूषण जाधव मामले में ICJ का फैसला भारत के रुख की पुष्टि : विदेश मंत्रालय ◾BJP में शामिल हुए पूर्व कांग्रेस नेता अल्पेश ठाकोर, जीतू वघानी ने दिलाई सदस्यता◾कर्नाटक संकट : सिद्धारमैया ने कहा-SC के पिछले आदेश के स्पष्टीकरण तक फ्लोर टेस्ट करना उचित नहीं◾कर्नाटक : CM कुमारस्वामी ने पेश किया विश्वास मत प्रस्ताव◾CM केजरीवाल का बड़ा ऐलान- अनधिकृत कॉलोनियों के मकानों की होगी रजिस्ट्री◾मुंबई पुलिस ने दाऊद इब्राहिम ने भतीजे रिजवान कासकर को किया गिरफ्तार◾मायावती के भाई आनंद कुमार के खिलाफ IT विभाग की कार्रवाई, 400 करोड़ का प्लॉट जब्त◾येद्दियुरप्पा ने किया दावा, बोले- सौ फीसदी भरोसा है कि विश्वास मत प्रस्ताव गिर जाएगा◾

विदेश

चीन के सछ्वान प्रांत में आए भूकंप में 220 लोग घायल हुए थे

बीजिंग : दक्षिण-पश्चिमी चीन के सछ्वान प्रांत के छांगनींग क्षेत्र में 17 जून को आए भूकंप में 220 लोग घायल हुए थे।  

एक अधिकारी ने बताया कि भूकंप से नष्ट मकानों व उपकरणों की जानकारियां 19 जून की शाम 4 बजे इकट्ठी की गईं। सछ्वान प्रांत के ईपीन शहर की सरकार के महासचिव के अनुसार, भूकंपग्रस्त लोगों की संख्या 2.4 लाख तक जा पहुंची है, इनमें 220 लोग घायल हुए, पचास हजार लोगों को स्थानांतरण किया गया है। 

20 गंभीर घायलों को शहर स्तरीय अस्पतालों में भर्ती कराई गई है। आंकड़ों के अनुसार, भूकंप प्रभावित क्षेत्र में बिजली, प्राकृतिक गैस व जल की आपूर्ति, संचार, यातायात और प्राकृतिक वातावरण को नष्ट किया गया है। 

भूकंप होने के बाद आपदाग्रस्त क्षेत्रों में वन रक्षा, अग्निशमन, सशस्त्र पुलिस, मिलिशिया और दूसरे सामाजिक राहत संगठनों ने बचाव के कार्यों में भाग लिया। 

केंद्र और प्रांत के स्वास्थ्य और महामारी निवारण विशेषज्ञों ने भूकंप प्रभावित क्षेत्रों में पानी की जांच की। अभी तक आपदा ग्रस्त क्षेत्रों में संक्रामक रोग फैलने की रिपोर्टिग नहीं है।