BREAKING NEWS

आज का राशिफल ( 27 मई 2022)◾त्यागराज स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी संजीव खिरवार का लद्दाख ट्रांसफर, पत्नी का अरुणाचल तबादला◾PM मोदी के नेतृत्व और सशस्त्र बलों के योगदान ने भारत के प्रति दुनिया के नजरिये को बदला : राजनाथ◾PM मोदी ने तमिल भाषा का किया जिक्र , स्टालिन ने ‘सच्चे संघवाद’ को लेकर साधा निशाना◾भारत, यूएई ने जलवायु कार्रवाई के लिए समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर ◾J&K : कश्मीर में टीवी कलाकार की हत्या में शमिल दो आतंकवादी सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में घिरे◾J&K : कुपवाड़ा में सेना ने घुसपैठ का प्रयास किया विफल , तीन आतंकवादी मारे गए, पोर्टर की भी मौत◾PM मोदी ने ‘परिवारवाद’ के कटाक्ष से राव को घेरा, तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने ‘भाषणबाजी’ का लगाया आरोप◾टीएमसी का दावा, दिलीप घोष को बंगाल से बाहर किया जा रहा है, भाजपा का पलटवार◾ मूडीज ने भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाया, आसमान छू रही महंगाई पर जताई चिंता◾ Tamil Nadu: चेन्नई पहुंचे PM मोदी ,हुआ जोरदार स्वागत, रोड शो में उमड़ी हजारों की भीड़◾तेलंगाना के CM चंद्रशेखर राव ने एच डी देवेगौड़ा से की मुलाकात, जानें- किन मुद्दों पर हुई चर्चा◾J&K News: सुंजवां हमले में शामिल एक आतंकवादी को NIA ने किया गिरफ्तार, जैश ए मोहम्मद से जुड़े थे तार◾Monkeypox Virus: कनाडा में मंकीपॉक्स ने दी दस्तक! यहां देखें- कितने मामले सामने आए◾यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा सुनाने के बाद फेंके थे पत्थर, लेकिन अब पुलिस के सामने पकड़े कान◾सुप्रीम कोर्ट ने वेश्यावृत्ति को माना प्रोफेशन, पुलिस को दी हिदायत... जारी हुए सख्त निर्देश, जानें क्या कहा ◾ गवर्नर की जगह अब CM होंगी स्टेट यूनिवर्सिटी की चांसलर, ममता बनर्जी कैबिनेट की बैठक में हुआ फैसला◾नवजोत सिंह सिद्धू का पटियाला जेल में बज गया बैंड, मिला क्लर्क का काम, जानें कितना होगा वेतन ◾ Gyanvapi Masjid: यहां जानें 2 घंटे चली वाराणसी जिला कोर्ट की बहस में क्या हुआ, अब सोमवार तक टली सुनवाई◾पाकिस्तान को 'मॉडर्न देश' बनाना चाहते हैं जरदारी! भारत और अन्य देशों से जारी संघर्षों पर कही यह बात ◾

जर्मनी-फ्रांस समेत 4 यूरोपीय देशों ने एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन पर लगाई रोक

एस्ट्राजेनेका की कोरोना वैक्सीन लेने एक बाद खून के थक्के जमने (ब्लड क्लॉटिंग) के गंभीर मामले सामने आए। जिसके बाद यूरोपीय देश जर्मनी, फ्रांस, इटली और स्पेन ने इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी। हालांकि कंपनी तथा यूरोपीय रेगुलेटर्स का कहना है कि ऐसा कोई सबूत नहीं है जो यह बताता हो कि ब्लड क्लॉटिंग इस वैक्सीन के कारण हुई हैं। 

यूरोपीय संघ की ड्रग रेगुलेटरी एजेंसी ने एस्ट्राजेनेका के बारे में विशेषज्ञों के निष्कर्षों की समीक्षा के लिए गुरुवार को बैठक बुलाई है। एस्ट्रोजेनेका की ओर से कहा गया कि यूरोपीय संघ और ब्रिटेन में करीब 1.7 करोड़ लोगों को यह टीका लगाया गया है और इस समूह में ब्लड क्लॉटिंग 37 मामले हैं। 

विश्व स्वास्थ्य संगठन और यूरोपीय संघ की यूरोपियन मेडिसिन्स एजेंसी ने भी कहा कि ये आंकड़े यह नहीं बताते कि ब्लड क्लॉटिंग और टीका लगने के बीच कोई संबंध है। फ्रांस के राष्ट्रपति एमैनुएल मैक्रों ने कहा है कि फ्रांस में एस्ट्राजेनेका कोरोना वायरस टीके का इस्तेमाल एहतियात के तौर पर निलंबित किया जा रहा है। 

जर्मनी ने भी एस्ट्राजेनेका कोविड टीके के संभावित दुष्प्रभावों के बारे में आई खबरों के बाद इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी। सरकार ने कहा है कि टीका लगाने वालों के शरीर में ब्लड क्लॉटिंग की खबरों के मद्देनजर यह कदम उठाया गया।

एस्ट्राजेनेका ने वैक्सीन को बताया सुरक्षित   

ब्रिटिश स्वीडिश दवा कंपनी एस्ट्राजेनेका और ब्रिटेन के दवा नियामक ने कहा है कि कोविड-19 से सुरक्षा के लिए एस्ट्राजेनेका के साथ मिलकर ऑक्सफोर्ड द्वारा विकसित टीका सुरक्षित है और इस बात का कोई सबूत नहीं है कि इन टीकों के कारण ब्लड क्लॉटिंग हुआ है जैसा कुछ यूरोपीय देशों से खबर आई है।

यह बयान तब आया है जब ब्लड क्लॉटिंग की खबरों के बाद नीदरलैंड ऑक्सफोर्ड/एस्ट्रोजेनेका का इस्तेमाल निलंबित करने वाला एक और देश बन गया। इससे पहले आयरलैंड, बुल्गारिया, डेनमार्क, नार्वे और आइसलैंड ने ब्लड क्लॉटिंग को लेकर चिंताएं सामने आने के बाद एहतियात के तौर पर इस टीके पर रोक लगा दी